नफरत के आधार पर पूरा देश टुकड़े–टुकड़े होने की कगार पर : पप्पू यादव

728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : आज हमारे देश की हालात बांग्लादेश एवं श्रीलंका से भी बदतर हो चुकी है. हमें लगता है कि श्रीलंका में दोबारा रावण की लंका में आग लगी है. हमारे भारत देश एवं बिहार के रावण की लंका में आग लगने का इंतजार हमें तब तक करना पड़ेगा, जब तक आलू चार सौ–पांच सौ रूपये किलो एवं टमाटर हजार रुपये किलो नहीं हो जाता है. इस देश का आधार अब सिर्फ और सिर्फ नफरत बच गया है. राजनीतिक एवं सामाजिक आधार आर्थिक, शैक्षणिक, स्वास्थ्य शांति एवं सामाजिक सौहार्द नहीं रहा है. पूरा देश गृह युद्ध की ओर है. उक्त बातें मंगलवार को जन अधिकार पार्टी में कई नेताओं के शामिल होने के अवसर पर वार्ड नंबर 11 के वार्ड पार्षद इसरार अहमद के आवास पर प्रेस वार्ता के दौरान पूर्व सांसद सह जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने कही.

दो पक्ष ने एक ही तरह के वृक्ष को किया है रोपने का काम : पप्पू यादव ने कहा कि पूरा देश नफरत के आधार पर टुकड़े–टुकड़े होने की ओर है. देश में हमें बांटने की तैयारी हो रही है और हम बटे जा रहे हैं. अब किसी भी कीमत पर आम और अच्छे लोगों की जिम्मेदारी बढ़ गई है कि वह आयें और इस देश, समाज इंसानियत मानवता आजादी, मुस्कुराने एवं प्रेम के आधार तथा जीने के आधारको बचायें. हमें यह स्वीकार करना पड़ेगा कि अब हम हंसना छोड़ दिये हैं. अब इस देश में ईश्वर और अल्लाह संकट में है. हमें यह भी स्वीकार करना पड़ेगा कि हमें अब पर्व नहीं मनाना चाहिये. उन्होंने कहा कि 40 वर्षों तक दो पक्ष ने एक ही तरह के वृक्ष को रोपने का काम किया है. हमें आश्चर्य होता है कि आखिर क्या कारण है कि यह जो दोनों लोग हैं, वह कभी बिहार के हित के बारे में नहीं सोची.

बिहार के लगभग सभी परीक्षाओं में प्रश्न पत्र जाता है लीक : बीपीएससी परीक्षा में प्रश्न पत्र लीक को लेकर पप्पू यादव ने कहा कि यह प्रश्न पत्र लीक बिहार में ही बराबर क्यों हो जाता है. देश के अन्य राज्यों में भी परीक्षायें होती है. वहां पर पेपर लीक नहीं होता है, लेकिन बिहार के लगभग सभी परीक्षाओं में प्रश्न पत्र लीक हो जाता है. बिहार के प्रश्न पत्र लीक मामले में दो पूर्व चेयरमैन भी जेल जा चुके हैं. बीपीएससी के द्वारा प्रोफेसर की बहाली के समय में भी दोनों पक्षों ने अपने अपने लोगों को बहाल कर दिया. पेपर लिक का मतलब होता है कि बिहार के छात्रों का एजुकेशन कमजोर है. उन्होंने कहा कि बीपीएससी के चेयरमैन आरके महाजन जब रेलवे में थे तब भी घोटाला हुआ था. आरके महाजन किनके-किनके नजदीक थे और आज वह किन के नजदीकी बने हुये हैं, इनकी जांच जरूरी है. आखिर सरकार आरके महाजन पर मेहरबान क्यों है. उन्होंने कहा कि बड़ी मछली को बचाने की तैयारी में किसी एक आदमी को जेल में डाला जा रहा है या फिर किसी को सस्पेंड किया जा रहा है. किसी हमें डीएसपी बनाना है और किसे प्रोफेसर बनाना है, यह लाखों-करोड़ों की बोली के बाद तय होती है और यह बिहार में बार-बार होता रहा है.

वर्तमान हाई कोर्ट के न्यायाधीश से मामले की हो जांच : पप्पू यादव ने कहा कि हम सरकार से मांग करते हैं कि मामले में सीबीआई जांच हो या फिर वर्तमान हाई कोर्ट के न्यायाधीश से मामले की जांच करवाई जाये. उन्होंने कहा कि सरकार के द्वारा इकोनामिक ऑफेंस के द्वारा जो जांच की बात सामने आई है, मैं उससे सहमत नहीं हूं. बीपीएससी की परीक्षा में जो परीक्षार्थी परीक्षा प्रपत्र भरने एवं परीक्षा केंद्र पर आने-जाने में खर्च किये हैं, सरकार उनके पैसे 15 दिनों में वापस करें और एक महीने के अंदर परीक्षा लें.

इस दौरान राजद छोड़कर वार्ड पार्षद इसरार अहमद के नेतृव में वसी अहमद, शमशाद आलम, हैदर आलम, कमाल आलम, जहूर आलम, महमूद, अनवारुल, महताब, गामा, मुस्ताक ने जाप की सदस्यता ग्रहण की.

मौके पर मो अलाउद्दिन, पूर्व सांसद प्रतिनिधि रामकुमार यादव, बंटी बजाज, नन्हें, शमशेर, कबीर, देवराज बिहारी, डा अनिल अनल, पुष्पेंद्र पप्पू, प्रिंस गौतम, महिला नेत्री नूतन सिंह, कला क्रांति, गोपी कृष्ण वीडियो, रामचंद्र यदुवंशी, रणधीर कुमार, विकाश यादव, देवाशीष पासवान, शैलेंद्र कुमार, रंजन, राजा यादव, नीतीश कुमार, छात्र अध्यक्ष रौशन कुमार बिट्टू, सामंत यादव, रामप्रवेश कुमार, नीतीश कुमार, अनुज, मो सलाम, इरफान समेत अन्य मौजूद थे.

अमित कुमार अंशु संपादक
अमित कुमार अंशु
संपादक
द रिपब्लिकन टाइम्स

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें