मधेपुरा : कोरोना नहीं है सामान्य बीमारी, मरीजों से दूरी बना कर रहे परिजन-डीएम

Photo : www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : मंगलवार को जिला पदाधिकारी श्याम बिहारी मीणा ने जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल का जायजा लिया और कोविड वार्ड पहुंच हर मरीज एवं उनके परिजनों से हालचाल जाना. इस दौरान जिला पदाधिकारी ने कहा कि हमारे यहां भर्ती लोग लगातार ठीक हो रहे हैं. लोग स्वस्थ होकर घर जा रहे हैं. हमारे जांबाज डॉक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मी लगातार मरीजों का देखभाल कर रहे हैं. उन्होंने कोविड वार्ड से वापस आने के बाद बताया कि मेडिकल कॉलेज के चार वार्ड में कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज किया जा रहा है. वार्ड में जरूरत के हिसाब से मरीजों को रखकर, उन्हें ऑक्सीजन एवं दवाई दिया जा रहा है. मेडिकल कॉलेज में लगभग 86 मरीज इलाजरत हैं. जिनमें से 60 मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं और 16 लोगों की स्थिति क्रिटिकल है.

कोरोना नहीं है सामान्य बीमारी, मरीजों से दूरी बना कर रहे परिजन : जिला पदाधिकारी ने कहा कि सभी डॉक्टर एवं नर्स ससमय उपस्थित हो रहे हैं एवं सभी मरीजों को समय पर दवाई दी जा रही है. स्थिति पूरी तरह सामान्य है. जिला पदाधिकारी ने मरीजों के साथ आए परिजनों से आग्रह करते हुए कहा कि कई बार ऐसा देखा गया है कि एक मरीज के साथ चार-पांच परिजन अस्पताल पहुंच जाते हैं और वार्ड में भीड़ इकट्ठा कर देते हैं. इससे चिकित्सकों व कर्मियों को इलाज करने में परेशानी उत्पन्न होती है. साथ ही यह बीमारी कोई सामान्य बीमारी नहीं है. मरीज से परिजन जितनी दूर हैं उनके लिए अच्छा होगा. परिजनों को मरीज के पास नहीं जाना है. उन्होंने कहा कि आगे परिजनों की भीड़ की स्थिति बनी रही तो मजबूरन जिला प्रशासन को सख्ती करना पड़ेगा. जिसके बाद लोगों को बुरा लग सकता है.

डीएम ने किया अभाविप के कार्यों की सराहना : डीएम ने कहा कि एक मरीज के साथ एक ही परिजन रहे हैं. वह भी वार्ड में ना जाएं बल्कि परिजनों को वार्ड के नीचे रहना है. काउंटर पर अपना संपर्क नंबर दे दें. जरूरत पड़ने पर स्वास्थ्य कर्मी परिजनों से संपर्क करेंगे. साथ ही परिजनों को मरीज के पास जाने की जरूरत पड़ती है तो एन 95 मस्क लगाकर ही अंदर जायें. मेडिकल कॉलेज में कई लोग ऐसे भी भर्ती हैं जो डर से ऑक्सीजन सपोर्ट नहीं छोड़ रहे हैं, ऐसे लोगों से निवेदन करते हुए डीएम ने कहा कि जिन लोगों को ऑक्सीजन की जरूरत नहीं है, वह मेडिकल कॉलेज प्रशासन एवं जिला प्रशासन का सहयोग करें तथा दूसरे वार्ड में शिफ्ट हो जायें. सभी मरीज चिकित्सकों की सलाह मानें. वहीं जिला पदाधिकारी ने कोरोना संक्रमित लोगों की सेवा में 14 दिनों से सेवा शिविर लगाकर कार्य कर रहे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं के कार्यों की सराहना की तथा जिला प्रशासन के कार्यों में सहयोग देने की अपील की.

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें