पत्रकारों को फ्रंटलाइन वारियर्स घोषित करने के बाद भी पचास लाख के इंसोरेंस का लाभ नहीं देना दोहरी नीति-राठौर

Photo : www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : एआईएसएफ के राज्यव्यापी कॉल पर पत्रकारों को फ्रंटलाइन वारियर्स का दर्जा देने पर छात्र संगठन एआईएसएफ के राष्ट्रीय परिषद् सदस्य हर्ष वर्धन सिंह राठौर ने  मुख्यमंत्री का आभार जताया है लेकिन इसके अन्तर्गत सिर्फ टीका दिलवाने की बात और पचास लाख के इंसोरेंस की घोषणा नहीं करने को संगठन ने दोहरी नीति बताते हुए पत्रकारों को पचास लाख के इंसोरेंस की भी घोषणा करने की मांग की है।

इस सम्बन्ध में सोमवार को  मुख्यमत्री को लिखे पत्र में राठौर ने कहा है कि चौथे पिलर के रूप में जाने जाने वाले पत्रकारों को फ्रंटलाइन वारियर्स का दर्जा देने व इससे मिलने वाली समस्त सुविधाएं देने की मांग संगठन ने राज्य स्तर पर की थी, इसपर सरकार ने त्वरित संज्ञान लेते हुए पत्रकारों को फ्रंटलाइन वारियर्स का दर्जा देने का  सराहनीय फैसला लिया जिसका एआईएसएफ स्वागत करते हुए माननीय मुख्यमंत्री महोदय का आभार व्यक्त करता है लेकिन इसमें फ्रंटलाइन वारियर्स का दर्जा सिर्फ कोविड -19 के टीका लगवाने का निर्णय है कोरोना काल में संक्रमित होने अथवा काल कवलित हो जिंदगी से हाथ धोने की हालत में इंसोरेंस की घोषणा नहीं है जो दुखद है।

advertisement

छात्र नेता राठौर ने कहा कि मुख्यमंत्री के स्तर से जारी घोषणा में  यह स्वीकार भी किया गया है कि  कोरोना काल जैसे विषम दौर में पत्रकारों कि भूमिका सराहनीय है ऐसे में फ्रंटलाइन वारियर्स घोषित करने के बाद भी आर्थिक लाभ का फैसला नहीं होना सही नहीं है।ज्ञातव्य हो कि लोकतंत्र के चौथे पिलर के रूप में जाने जाने जाने वाले पत्रकार हर दौर में अपनी जान कि चिंता किए बिना कार्य करते हैं जिससे कई बार अपने जीवन से भी हाथ धोना पड़ता है।

  उन्होंने मांग किया  है कि उक्त मांगों पर गंभीरता से विचार करते हुए पत्रकारों को फ्रंटलाइन वारियर्स के रूप में पचास लाख के इंसोरेंस की भी घोषणा की जाए जिससे उनको अपनी भूमिका निभाने में किसी प्रकार की चिंता का सामना न करना पड़े। एआईएसएफ नेता राठौर ने उम्मीद जताई कि इस विषम दौर में मुख्यमंत्री पत्रकारों के हित यह फैसला लेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य स्तर पर आज इसको लेकर विभिन्न स्तरों पर पचास लाख के इंसोरेंस की घोषणा के लिए संगठन द्वारा आवाज उठाई जा रही है। एआईएसएफ नेता सौरभ कुमार ने कहा कि कोरोना जैसी भयानक महामारी में पत्रकार लगातार अपनी जिंदगी को दांव पर लगाकर अपना काम कर रहे हैं सरकार को उनके प्रति पूरी सहानुभूति दिखानी चाहिए।

मो० नियाज अहमद
ब्यूरो, मधेपुरा

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें