मधेपुरा : जर्जर सड़क राहगीरों के लिए बनी परेशानी का सबब

728x90
Spread the news

कौनैन बशीर
वरीय उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : जिले के उदाकिशुनगंज अनुमंडल के खाड़ा हाईस्कूल चौंक से सिनवाड़ा भाया धानुक टोला बोबिल फुलवड़िया बेलदौर तक मुख्यमंत्री ग्राम सम्पर्क योजना से बनी सड़क पुरी तरह से जर्जर हो चुकी है। बताया जाता है कि तीन वर्ष पूर्व बनी सड़क जर्जर हो चुकी है। जबकि पांच वर्षीय रखरखाव सहित कुल 2 करोड़ 15 लाख 31 हजार 171 रूपये की प्राक्कलित राशि से निर्मित 2.31 किलोमीटर की सड़क खगड़िया सहरसा और मधेपुरा को जोड़ने में अपनी अहम भूमिका निभाती है।

मिली जानकारी अनुसार उक्त योजना से बनी सड़क कुल लंबाई में से तीन सौ नब्बे मीटर पीसीसी ढ़लाई कार्य किया जाना निर्धारित है। जबकि सड़क पूर्णतः पिचिंग की गई है। साथ हीं निर्धारित चार नग पुल पुलिया निर्माण किया गया है। सड़क की कुल लम्बाई में तीन सौ नब्बे मीटर सड़क ढ़लाई कार्य न किया जाना पुरी तरह से संदेह के घेरे में है। गत शुक्रवार को इसी सड़क पर एक ट्रक दुर्घटना का शिकार हो गया। चालक की सूझ-बूझ के कारण ट्रक को गड्ढे से बाहर निकाला गया। अथवा बड़ी घटना  हो सकती थी।

advertisement

आसपास के लोगों का कहना है लापरवाह संवेदक के भरोसे सड़क सालोंभर टूटी रहती है। आते-जाते राहगीर प्रायः दुर्घटना के शिकार होते हैं। जान जोखिम में डालकर यात्रा करना राहगीरों की बेबसी बन गई है। यकीनन विभागीय अधिकारियों की मौन स्वीकृति भी संवेदक को खुली छुट दे दी है। निर्माण के बाद सड़क की दुर्दशा देखकर लगातार लोगों द्वारा जर्जर सड़को को दुरुस्त करने की मांग की है।

स्थानीय लोगों ने बताया कि बरसात के बाद आजतक वित्तीय वर्ष 2020-21 में अनुरक्षण के नाम पर न तो सड़क पर गड्ढे भरे गये हैं और न हीं अन्य कार्य किये गये हैं। विभागीय अनदेखी के कारण सड़क बदहाल अवस्था में पड़ा हुआ है।


Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें