मधेपुरा : कोरोना को लेकर जिला प्रशासन अलर्ट, जिले के 170 पंचायतों में मेडिकल टीम गठित, जिला कंट्रोल रूम तैयार, हेल्पलाइन न0 जारी

728x90
Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : कोरोना वायरस को लेकर जहां बिहार सरकार एवं केंद्र सरकार द्वारा 14 अप्रेल तक लॉक डाउन करने का निर्देश दिया गया है । वहीं इस वायरस से बचाव के लिए तथा संक्रमण की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, सदर अस्पताल प्रशासन तथा जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल प्रशासन भी पूरी तरह मुस्तैद है । जिले में बिहार सरकार एवं केंद्र सरकार द्वारा दिए गए लॉक डाउन निर्देश का सख्ती से पालन किया जा रहा है ।

देखें वीडियो :

 जिला पदाधिकारी नवदीप शुक्ला, पुलिस अधीक्षक संजय कुमार, एडीएम सह जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी शिव कुमार शैव, सदर अनुमंडल पदाधिकारी वृंदा लाल, सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी वसी अहमद समेत सभी अधिकारी स्वयं सड़कों पर उतरकर लोगों को लॉक डाउन के निर्देश का पालन करने के लिए निर्देश दे रहे हैं । अपर समाहर्ता उपेंद्र कुमार ने जिला प्रशासन द्वारा कोरोना से बचाव के लिए किए जा रहे कार्य की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि जिले के 170 पंचायत में 174 क्वॉरेंटाइन सेंटर शुरू कर दिया गया है । स्कूलों में चल रहे इनको रनटाइम सेंटर की जिम्मेदारी संबंधित मुखिया को दी गई है । वही मधेपुरा जिले में अब तक 3679 लोग विभिन्न जगह से आए हैं । उनमें से 17 लोग ऐसे हैं जो 10 मार्च के बाद विदेश से आए हैं, इन सब की विस्तृत रूप से स्क्रीनिंग की जा रही है ।

सभी पंचायतों में स्वास्थ्य टीम का हुआ गठन : अपर समाहर्ता उपेंद्र कुमार ने बताया कि बड़े प्रखंड में स्वास्थ्य विभाग की 16 टीम तथा छोटे प्रखंड के लिए आठ- आठ टीम का गठन किया गया है । यह टीम बाहर से आ रहे हर व्यक्ति की विस्तृत स्क्रीनिंग करती है । स्क्रीनिंग के बाद अगर किसी भी प्रकार के बीमारी का लक्षण पाया जाता है तो उन्हें जिला स्तर पर रेफर किया जाता है, यहां से पुनः विस्तृत जांच के बाद कोरोना वायरस संदिग्ध पाए जाने पर जांच हेतु डीएमसीएच रेफर किया जाता है । अभी तक जिले से 15 लोगों को डीएमसीएच रेफर किया गया है । वहीं जिला स्तर पर भी अब कोरोना वायरस की जांच के लिए किट उपलब्ध हो चुका है । अपर समाहर्ता ने बताया सरकार के निर्देशों का पालन करते हुए ऐसे अस्थाई मजदूर या कामगार जिन्हें कार्य नहीं मिल रहा है और वह फंस गए हैं । उन्हें तत्काल ड्राई राशन उपलब्ध कराया जा रहा है, ऐसे मजदूर की तादाद विशेषतः सिंहेश्वर में सैकड़ों है, जो सिंहेश्वर मेला के क्रम में यहां पहुंचे थे और कार्यरत थे, जबकि कम्युनिटी किचन चलाने के लिए नगर परिषद के रैन बसेरा को चिन्हित कर सभी तैयारी पूर्ण कर ली गई है । वहां जरूरतमंदों को रखकर नियमित भोजन कराया जाएगा ।

अपर समाहर्ता ने बताया कि जिले में विशेष रूप से सेनेटाइज करने के लिए सामग्री लाने के लिए वाहन पटना गया है, जो देर रात तक जिले में पहुंच जाएगा । रविवार से ही विशेष रुप से सैनिटाइज करने का कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा ।

नियंत्रण कक्ष है कार्यरत किसी भी किस्म की असुविधा पर करें संपर्क: अपर समाहर्ता ने बताया कि नियंत्रण कक्ष कार्य कर रहा है, रेट कंट्रोल से लेकर बाहर से आ रहे लोगों की सूचना जैसे ही प्राप्त होती है, संबंधित पदाधिकारी को भेजकर कार्रवाई कराई जा रही है । जबकि पंचायत स्तर पर चल रहे सेंटर का इंचार्ज मुखिया को बनाया गया है ।

जिला नियंत्रण कक्ष का नंबर :- 

06476- 222904, 222905,222228, 222224, 222233,222220

अंडे, मुर्गी, मिट एवं मछली की दुकानें रहेंगी खुली : जिले में पशु पक्षी तथा मछली चारा, दाना की दुकानें तथा अंडे, मुर्गी, मीट एवं मछली की दुकानें को खोलने तथा बिक्री एवं आवागमन सुगम करने को लेकर सरकार के सचिव डा एन सरवण कुमार ने जिला पदाधिकारी नवदीप शुक्ला एवं पुलिस अधीक्षक संजय कुमार को पत्र जारी कर सूचित किया है । जारी किए गए पत्र में सरकार के सचिव डा एन सरवन कुमार ने कहा कि कोरोना वायरस को रोकने के लिए लगाए गए लॉक डाउन के प्रतिबंध में पशु, पक्षी तथा मछली चारा, दाना की दुकानों तथा अंडे, मुर्गी, मिट एवं मछली की दुकानों को खोलने तथा बिक्री एवं आवागमन पर रोक नहीं लगाया गया है । उन्होंने बताया कि बिहार के कई जिलों से सूचना प्राप्त हो रही है कि स्थानीय स्तर पर थाना द्वारा पशु, पक्षी तथा मछली चारा, दाना की दुकानों तथा अंडे, मुर्गी, मिट एवं मछली की दुकानों तथा बिक्री एवं आवागमन पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है । इस बावत उन्होंने पुलिस महानिदेशक बिहार पटना से पत्र के आलोक में अनुरोध किया है कि अपने स्तर से जिले के सभी थानों को स्पष्ट निदेश दिया जाय कि पशु, पक्षी तथा मछली चारा, दाना की दुकानों तथा अंडे, मुर्गी, मिट एवं मछली की दुकानों को खोलने तथा बिक्री एवं आवागमन सुगम की जाये । इस पत्र के आलोक में अपर पुलिस महानिदेशक विधि व्यवस्था अमित कुमार ने भी सभी वरीय पुलिस अधीक्षक एवं पुलिस अधीक्षक रेल सहित को भी पत्र जारी कर दिया है । चिक्स चारा एवं मुर्गा के थौक विक्रेता प्रशांत कुमार ने कहा कि जिले में सरकार के सचिव एवं अपर पुलिस महानिदेशक विधि व्यवस्था के निर्देश का अनुपालन नहीं हो रहा है । इन दोनों पदाधिकारी ने अपने पत्र में स्पष्ट किया है कि पशु, पक्षी सहित मछली चारा की दुकान सहित अंडा, मूर्गी, मछली, मीट की दुकान खोलने व बिक्री पर कोई रोक नहीं है, उसके बाद भी यहां इसका अनुपालन नहीं हो रहा है ।

एमएलसी ने 75 लाख, छातापुर विधायक ने दिया दिया 50 लाख रूपया  : बिहार विधान परिषद सदस्य नूतन सिंह ने मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास निधि से मधेपुरा, सहरसा एवं सुपौल के लिए कोरोना वायरस के रोकथाम एवं इलाज में प्रयुक्त होने वाली विभिन्न सामग्री जिसमें थर्मल स्कैनर, मास्क, साबुन, हैंड वॉश, सैनिटाइजर, ग्लव्स, स्प्रे मशीन, चिकित्सा पदाधिकारी एवं स्वास्थ्य कर्मियों के लिए पर्सनल प्रोटेक्शन किट के लिए 75 लाख रुपये की अनुशंसा एवं सहमति प्रदान की है ।  जिसमें मधेपुरा, सहरसा एवं सुपौल जिला के लिए 25-25 लाख रुपये दी गई है । उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे कोरोना संक्रमण के प्रति सावधान रहें, सभी कोरोना से बचने के लिए दिए गए निर्देशों का पालन करें एवं सरकार द्वारा किए गए लॉक डाउन का उल्लंघन नहीं करें । उन्होंने लॉक डाउन क्षेत्र के लोगों को अपने आवास में ही रहने के लिए अपील किया है ।  बिहार विधान परिषद सदस्य नूतन सिंह ने सबों के स्वस्थ एवं सुरक्षित जीवन की कामना की है । उन्होंने सभी लोगों से अपील की है कि वे अनावश्यक अपने घरों से बाहर नहीं निकलें । सोशल डिस्टेंस मेंटेन करें एवं स्वच्छता का विशेष ख्याल रखें । समय-समय पर हाथों को साबुन एवं सैनिटाइजर से साफ करें, यदि कोरोना का कोई लक्षण नजर आए, तो तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र से संपर्क करें । वहीं बिहार विधान सभा सदस्य नीरज कुमार सिंह ने भी छातापुर विधानसभा क्षेत्र के लिए कोरोना वायरस के रोकथाम एवं इलाज में प्रयुक्त होने वाली विभिन्न सामग्री जिसमें थर्मल स्कैनर, मास्क, साबुन, हैंड वॉश, सैनिटाइजर, ग्लव्स, स्प्रे मशीन, चिकित्सा पदाधिकारी एवं स्वास्थ्य कर्मियों के लिए पर्सनल प्रोटेक्शन किट के लिए 50 लाख रुपये की स्वीकृति प्रदान की है ।


Spread the news