दरभंगा : गांधी आज भी हमारे बीच हैं तभी हमें और देश हित में आंदोलन- इमामुल हक इमाम

728x90
Spread the news

ज़ाहिद अनवर (राजु)
उप संपादक

दरभंगा–आज बाजार समिति चक जमाल में अनिश्चितकालीन धरना पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पुण्यतिथि पर उन्हें माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

इस मौके पर डॉ•मो•इमामुल हक “इमाम” ने कहा की आज ही के दिन मोहनदास करमचंद गांधी की हत्या 30 जनवरी 1948 की शाम को नई दिल्ली स्थित बिड़ला भवन में गोली मारकर की गयी थी। वे रोज शाम को प्रार्थना किया करते थे। 30 जनवरी 1948 की शाम को जब वे संध्याकालीन प्रार्थना के लिए जा रहे थे तभी नाथूराम गोडसे ने पहले उनके पैर छुए और फिर सामने से उन पर बैरेटा पिस्तौल से तीन गोलियाँ दाग दी और और हमारे बापूजी हमें छोड़ कर चल दिए पर गांधी जी की विचारधारा उनके आदर्श सिद्धांत और सचाई के साथ जज्बे के साथ देश के लिए लड़ने और वतन को एकजुट करने के लिए हमेशा तैयार रहने के लिए उनसे प्रेरणा मिलती है।

प्रो•जाहिद रेजा ने कहा की गांधी आज भी हमारे बिच हैं और जब हम कोई लड़ाई लड़ते हैं तब हमें उनसे ताक़त मिलती है। जनक पासवान ने कहा की गांधी ने हमें एक साथ जीना सिखाया है और हम हिन्दू मुस्लिम भाई भाई हैं और हमेशा रहेंगे। बदरे आलम “बदर” ने कहा कि हम गांधी के आदर्शों पे चलने वाले लोग हैं यह देश गांधी के आदर्शों और सिद्धांतों पर चलेगा हम मरते दम तक उनके उसूल को जिंदा रखेंगे।

इस मौके पर मोहम्मद कलाम, मो• रिज़वानुल हक “मिन्नत” मो•अलकमा,सुल्तान, राजेश, जमशेद आलम, मिन्नत साहब, सुनील पासवान, नदीम, शहजादे, मुशा साहब, चांद साहब, रुमी,रशीदा, मोहम्मद शमसाद, मौलाना अबुल रहीम, तौसीफ, इत्यादि मौजूद रहे।


Spread the news