मधेपुरा : लुटेरा गिरोह चढ़ा लोगों के हत्थे, जमकर हुई पिटाई,अपराधी की गोली से तीन युवक भी जख्मी

Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : मंगलवार की रात लगभग नौ बजे जिले के घैलाढ़ प्रखंड के भेलाव चौक पर मोटरसाकील लूट की घटना में असफल तीन अपराधियों ने भागने के क्रम में खुदको लोगों से घिरा देख अपने बचाव के लिए स्थानीय लोगों पर गोली चलाई, जिससे तीन युवकों को गोली लगी। जिसमें कमल राम के पुत्र अमित राम के सर में गोली लग गई, वहीं बुच्ची कामत के पुत्र राजा एवं दिनेश कामती के पुत्र विवेक कुमार के हाथ में गोली लगी।

देखें वीडियो :

गोलीकांड से आक्रोशित स्थानीय ग्रामीणों ने तीनों अपराधियों को भी धर-दबोचा और जमकर पिटाई की, लोगों द्वारा मारपीट के क्रम में तीनों अपराधी भी बुरी तरह जख्मी हो गए, जिसकी सूचना स्थानीय लोगों ने  घैलाढ़ थाना को दी, घैलाढ़ थाना एवं स्थानीय लोगों की मदद से सभी लोगों को इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया। सर में गोली लगने से अमित राम की स्थिति को नाजुक देखते हुए चिकित्सकों द्वारा प्राथमिक उपचार कर हायर सेंटर रेफर कर दिया गया, वहीं अन्य लोगों का भी चिकित्सकों द्वारा इलाज किया जा रहा है।

             जानकारी के अनुसार मंगलवार की देर शाम लगभग 9 बजे जिले के घैलाढ़ प्रखंड के भेलवा एवं रामनगर के बीच घैलाढ़ थाना के लगभग पांच किलोमीटर दूरी पर पुल के समीप पहले से सफेद रंग ली एक अपाची मोटरसाइकिल से तीन अपराधी हथियार के साथ घात लगाए बैठे थे, तभी वहीं से रामनगर की ओर से एक मोटरसाइकिल से दो लोग निमंत्रण खा कर भेलाव चौक की जा रहे थे। इसी दौरान तीनों अपराधी मोटरसाइकिल छिनतई को लेकर रोका, मोटरसाइकिल छिनने के क्रम में दोनों लोग वहां से भागने लगे और वहां के स्थानीय लोगों को आवाज देने लगे। दोनों को भागते देख तीनों अपराधियों ने भी उनका पीछा किया। भागने के क्रम में सभी लोग भेलाव चौक पर पहुंच गए। दोनो लोंगो के द्वारा हल्ला सुनकर, वहां के ग्रामीणों ने तीनों अपराधी को धर दबोचा। अपने आप को घिरा हुआ देख तीनों अपराधी अपने-अपने पास से देसी कट्टा निकालकर फायर करने लगे,  जिससे कमल राम के पुत्र अमित राम के सर में गोली लग गई, वहीं बुच्ची कामत के पुत्र राजा एवं दिनेश कामती के पुत्र विवेक कुमार के हाथ में गोली लगी। इसी बीच ग्रामीणों ने तीनों अपराधियों को भी धर दबोचा और जमकर पिटाई कर दी। जिससे तीनों अपराधी भी बुरी तरह जख्मी हो गए। इसी दौरान स्थानीय लोगोंं द्वारा घैलाढ़ थाना को घटना की जानकारी दी गई। घटना की जानकारी मिलते ही घैलाढ़ थाना से पुलिस बल घटनास्थल पर पहुंचकर, स्थानीय लोगों की मदद से जख्मी ग्रामीणों एवं अपराधियों को इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया। जहां अमित राम की स्थिति को नाजुक देखते हुए प्राथमिक उपचार कर हायर सेंटर रेफर कर दिया। वही अन्य लोगों का सदर अस्पताल में ही चिकित्सकों द्वारा इलाज किया जा रहा है।

घटना को अंजाम देने में सहरसा जिले के पछगछिया चंद्र माधव प्रसाद यादव के पुत्र भूषण कुमार, सहरसा जिले के सत्तर कटैया निवासी गनीमत के पुत्र सलमान एवं आरण सुखासन निवासी ललन यादव के पुत्र विकेश शामिल थे।

डॉ बीके आर्यन

इलाज के दौरान सदर अस्पताल में मौजूद जिला परिषद सदस्य डॉ बीके आर्यन ने बताया कि यह छिनतई की घटना लगभग तीन महीने से लगातार हो रही थी, आसपास के लोग हमेशा दहशत में रहते थे, शाम होते ही लोग घरों से निकलने में भी डरते थे। डेढ़ शाम में कोई भी व्यक्ति अगर इस रास्ते से गुजरता था तो उसके साथ लूटपाट की घटना हो जाती थी। स्थिति ऐसी हो चुकी थी कि चौक-चौराहों पर भी दुकानदार शाम होते ही अपनी दुकानों को बंद कर देते थे।

 उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर घैलाढ़ थाने में ग्रामीणों के साथ कई बार बैठक भी की गई है। लेकिन थाने के द्वारा कोई कार्यवाही नहीं होता देख अपराधियों का मनोबल और बढ़ गया, जिससे घटनाएं लगातार जारी रही। उन्होंने बताया कि अब तक लगभग दर्जनों मोटर साइकिल लूट की घटना को इन लुटेरों ने अंजाम दे डाल है।

 वही सदर अस्पताल में उपस्थित अन्य ग्रामीणों ने बताया कि आए दिन छिनतई एवं लूटपाट की घटना से ग्रामीण तंग आ चुके थे, सभी घटनाओं की सूचना घैलाढ़ थाना एवं सदर थाने को भी दी गई थी, जिसके बाद सिर्फ दो से तीन दिन पेट्रोलिंग की गई, उसके बाद पेट्रोलिंग भी बंद हो गई। लेकिन अपराधियों ने लूटपाट की घटना को अंजाम देने से नहीं रोका। इससे तंग आकर ग्रामीणों ने स्वयं आपस में बैठक कर यह विचार किया कि ग्रामीणों को ही अपराधियों को पकड़ना पड़ेगा। जिसके बाद पिछले 10 दिनों से ग्रामीण अपराधियों की पकड़ के लिए ताक लगाए रहते थे। इसी दौरान मंगलवार की देर शाम यह घटना घटी और तीनों अपराधी पकड़ में आ गए।


Spread the news
advertise