इमारत शरिया में सर्व दलीय बैठक, 10 फरवरी को हर ज़िला मुख्यालय पर दिया जाएगा धरणा

728x90
Spread the news

इमारत शरिया में सर्व दलीय बैठक में उपस्थित एन डी ए विरोधी पार्टियों ने 29 जनवरी को भारत बंद एवं सी ए ए ,एन पी आर तथा एन आर सी के विरुद्ध मिल कर लड़ाई लड़ने का किया ऐलान   

प्रेस विज्ञप्ति :

पटना/बिहार : पूरे देश में आम तौर पर और बिहार में विशेष रूप से सी ए ए एन पी आर एवं एन आर सी के विरुद्ध संयुक्त लड़ाई लड़ने और उस को पूरी मजबूती से पूरे देश में फैलाने की रणनीति तैयार करने के उद्देश्य से बिहार की एन डी ए विरोधी राजनीतिक दलों के एक महत्वपूर्ण बैठक आज अमीरे शरीयत मौलाना मोहम्मद वली रहमानी की अध्यक्षता में आयोजित हुई। जिस में इमारत शरिया के कार्यवाहक महासचिव मौलाना मोहम्मद शिबली कासमी, सी पी आई के सत्य नारायण सिंह, रालोसपा के राष्ट्रिय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा, जन अधिकार पार्टी के राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव, बामसेफ के प्रदेश अध्यक्ष राम लगन माँझी, किसान महा सभा के प्रदेश अध्यक्ष एवं भाकपा माले के वरिष्ठ नेता के डी यादव , सदस्य केन्द्रीय समिति भाकपा माले अभ्युदय, वी आई पी के राष्ट्रिय अध्यक्ष मुकेश सहनी एवं प्रदेश प्रभारी संतोष कुशवाहा तथा आनंद मधुकर यादव, पूर्व मंत्री एवं शहीद जगदेव सेना के राष्ट्रिय अध्यक्ष नागमनी, हम के प्रदेश अध्यक्ष बी एल बसंतरी, रालोसपा के अफजल इमाम मलिक एवं ए रौशन राजा, जन अधिकार पार्टी के एजाज अहमद, भाकपा माले के कुणाल  के इलावा अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

अमीर-ए-शरीयत मौलाना मोहम्मद वली रहमानी ने अपने संबोधन में कहा कि सी ए ए, एन पी आर एवं एन आर सी के विरुद्ध लड़ाई हम सब की संयुक्त लड़ाई है और उस को एन डी ए विरोधी सभी दलों को मिल कर लड़ना है ।

यह बात सत्य है मुसलमान पूरी तरह इस लड़ाई में हैं इस का मुख्य कारण है कि मुसलमानों को इन तीनों क़ानूनों के खतरों एवं भविष्य की आशंकाओं से इमारत शरिया ने पूरी तरह अवगत कराया है गैर मुस्लिमों के अंदर अभी पूरी तरह बात नहीं पहुंची है इस लिए वह पूरी तरह मैदान में नहीं हैं। इस लिए हम सब का दायित्व है कि सब को सी ए ए एन पी आर एवं एन आर सी  के संबंध में पूरी जानकारी दें कि यह किस प्रकार देश , समाज , लोकतन्त्र तथा संविधा के विरुद्ध है।श्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि जो काम राजनीतिक दलों को करना चाहिए आज वह काम इमात शरिया कर रही है ।

उन्होंने कहा कि एन डी ए का प्रयास है कि इस मामले को धार्मिक आधार पर बाँट दिया जाए और इस को हिन्दू मुसलमान का मुद्दा बना दिया जाए । इस लिए हमें उन की रणनीति के मुक़ाबले में अपनी स्पष्ट रणनीति बनानी चाहिए टाटा कॉमन एजेंडा पर सभी दलों को इकट्ठा होना चाहिए । उन्हों  ने यह भी कहा कि भाजपा देश को बुनियादी मुद्दों से भटकना चाहती है इस लिए हमें बुनयादी मुद्दों को भी सामने लाना चाहिए।

पप्पू यादव ने कहा कि आज सारा दलित एवं अल्पसंख्यक समाज शारीरिक, वैचारिक एवं नैतिक रूप से सी ए ए , एन आर सी एवं एन पी आर के विरुद्ध एकजुट है परंतु अपर एवं दूसरे वर्ग  को भी साथ में लाने की आवश्यक्ता है । सत्य नारायण सिंह ने कहा कि लेफ्ट का स्टैंड बिलकुल साफ है और हम तीनों का विरोध करते हैं  एवं इस के विरुद्ध होने वाले हर कार्यक्रम का समर्थन करते हैं । मुकेश सहनी ने कहा कि संयुक्त प्रोग्राम में हम साथ हैं । मौलाना मोहम्मद शिबली कासमी,  राम लगन माँझी ,  नागमनी, के डी यादव , और अभ्युदय नें भी अपनी राय रखी और मिल कर लड़ाई लड़ने पर सहमती ज़ाहिर की ।

इस बैठक में सर्वसहमति से यह तै हुआ कि एक कोयर्डिनेशान कमिटी बनाई जाए और उस के अंतर्गत पूरे राज्य में सी ए ए, एन आर सी एवं एन पी आर के विरुद्ध लड़ाई लड़ी जाए । यह बात भी तै हुई कि अपनी लड़ाई में ब्नूनियादी मुद्दों को भी सम्मिलित किया जाए एवं सी ए ए नहीं शिक्षा, एन आर सी नहीं रोजगार एवं एन पी आर नहीं स्वास्थ्य का नारा दिया जाए । 10 फरवरी 2020 को बिहार के हर जिला मुख्यालय में सभी दलों की ओर से संयुक्त धरणा देने का भी फैसला किया गया। इसी के साथ कि बाम सेफ की ओर से 29 जनवरी को होने वाले भारत के समर्थन एवं सभी दलों के सम्मिलित होने का भी फैसला हुआ ।

बैठक में उपस्थित सभी लोगों ने सर्वसहमति से  कोऑर्डिनेशन कमिटी बनाने की ज़िम्मेदारी अमीरे शरीयत को सौंपी ।   


Spread the news