मधेपुरा : सुरक्षित शनिवार कार्यक्रम तहत बच्चों को शीतलहर से बचाव की दी गई जानकारी

728x90
Spread the news

आरिफ आलम
वरीय संवाददाता,
चौसा, मधेपुरा

चौसा/मधेपुरा/बिहार :शीतलहर एक प्राकृतिक आपदा है। ग्रामीण क्षेत्रों में इससे अधिक लोग प्रभावित होते हैं। लिहाजा इससे बचाव की जानकारी जरूरी है।

       उक्त बातें अतिथि निष्ठा प्रशिक्षक चतुर्भुज कुमार ने कही। वे स्थानीय महादेव लाल मध्य विद्यालय, चौसा में सुरक्षित शनिवार कार्यक्रम में आपदा प्रबंधन की चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उत्तर भारत के मैदानी इलाके में दिसंबर – जनवरी चलने वाली तेज पछुआ हवा को शीतलहर कहते हैं , जो मानव स्वास्थ्य के लिए घातक होता है। उन्होंने कहा कि भारत एक कृषि प्रधान देश है, जहां की बहुसंख्यक आबादी खुले में काम करती है। ऐसे लोगों को शीतलहर से बचाव की जानकारी देकर उनकी जानें बचायी जा सकती है।

विज्ञापन

       फोकल शिक्षक भालचंद्र ने कहा कि शीतलहर से प्रभावित व्यक्ति को फौरन गर्म कपड़ा से ठक देना चाहिए। उन्हें अंगीठी या हिटर से सेंक देना चाहिए। फोकल शिक्षिका रीणा कुमारी ने कहा कि शीतलहर के दौरान अनावश्यक घर से नहीं निकलना चाहिए। जरूरत हो तो शरीर को  गर्म कपड़े से ढक कर ही बाहर निकलना चाहिए। उन्होंने कहा कि इससे प्रभावित लोगों को गर्म भोजन तथा पेय पदार्थ का सेवन करना चाहिए।

विज्ञापन

            ज्ञातव्य है कि सुप्रीम कोर्ट के न्यायादेश के आलोक में मुख्यमंत्री विद्यालय सुरक्षा कार्यक्रम के तहत प्रत्येक विद्यालय में सुरक्षित शनिवार कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। इस निमित्त आज शनिवार को महादेव लाल मध्य विद्यालय, चौसा में उक्त कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। फोकल शिक्षक भालचंद्र मंडल व रीणा कुमारी ने शिड्यूल के मुताबिक बच्चों को  ‘शीतलहर तूफान से खतरे एवं इससे बचाव’की जानकारी दी।

         मौके पर शिक्षक सत्यप्रकाश भारती, यहिया सिद्दीकी, प्रणव कुमार, राजेश कुमार, मंजर इमाम, भालचंद्र मंडल, शिक्षिका नुजहत परवीन, रीणा कुमारी, श्वेता कुमारी सहित बाल संसद के सदस्यगण तथा छात्रगण उपस्थित थे।


Spread the news