पंजाब में मनाया गया काला दिवस, केंद्र व यूपी पुलिस के खिलाफ जबरदस्त रोष प्रदर्शन

728x90
Spread the news

संविधान की रक्षा के लिए खून का आखरी कतरा भी कुर्बान कर देंगे : शाही इमाम

मेराज आलम
ब्यूरो-लुधियाना, पंजाब

लुधियाना/पंजाब : केंद्र सरकार द्वारा नागरिकता कानून में संशोधन किए जाने के बाद से देश भर में रोष प्रदर्शन का सिलसिला जारी है, आज यहां शाही इमाम पंजाब मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी की अध्यक्षता में राज्य भर में काला दिवस मनाते हुए जुम्मा की नमाज़ के बाद सभी मस्जिदों के बाहर काले झंड लेकर नमाजियों ने केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार के खिलाफ जबरदस्त रोष प्रदर्शन किए।

अमृतसर, तरनतारन, गुरदासपुर, होशियारपुर, नवांशहर, रोपड़, मुहाली, पटियाला, फतेहगढ़ साहिब, मोगा, कपूरथला, बठिंडा, जालंधर, फरीदकोट, मनसा, मुक्सर साहिब, संगरूर, जीरा, खन्ना समेत लुधियाना में दर्जनों जगह जबरदस्त रोष प्रदर्शन किए गए। सभी जगह मुस्लिम प्रतिनिधियों ने भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद जी के नाम ज्ञापन जिला प्रशासन को सौंपे और मांग कि गई कि धर्म को आधार बना कर बनाया गया सी.ए.ए. एक्ट को रद्द किया जाए।

इस रोष प्रदर्शन को संबोधित करते हुए शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान लुधियानवी ने कहा कि देश की आज़ादी के बाद यह पहला मौका है कि लोकतंत्र में लोकतंत्र की हत्या करने का प्रयास किया गया है। संसद में संविधान के ऊपर भाजपा के एजेंडे को मान कर एक गैर संवधानिक एक्ट बनाया गया, जिसकी चौतरफा निंदा हो रही है। शाही इमाम ने कहा कि केंद्र सरकार प्रदर्शन कर रहे अपने ही देशवासियों से बात करने की बजाय सरकारी बल का प्रयोग कर के लोकतंत्र को मारना चाहती है। उन्होंने ने कहा कि लगता है कि योगी जी ने इतिहास नहीं पढ़ा देश को आज़ाद करवाने के लिए रोजाना प्रदर्शन ही होते थे और आज़ादी के बाद भी सरकारों से नाराजगी जाहिर करने का यही तरीका रहा है। शाही इमाम ने कहा किउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने यूपी पुलिस द्वारा जो जुल्म और गुंडागर्दी करवाई है उस से राष्ट्र का सिर शर्म से झुक गया गया है। उन्होंने कहा कि यह कैसा लोकतंत्र है कि इंसाफ मांगने वालों पर जनरल डायर की तरह आक्रमण किया जा रहा है। 

शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान लुधियानवी ने कहा कि जुलम करने वाले याद रखें हमने अपने इस प्यारे वतन को अंग्रेज से आज़ाद करवाने के लिए बहुत कुरबानियां दी है और आज भी हम भारत का संविधान बचाने के लिए खून का आखरी कतरा भी कुर्बान कर देंगे। शाही इमाम ने कहा कि शर्म कि बात है कि सत्ता में बैठे लोग कानून व्यवस्था के नाम पर जनता को लाठियां और गोलियां मरवा रहे है, जो संप्रदायक ताक़ते इस कानून विरोधी प्रदर्शनों को धर्म का नाम देकर बदनाम करना चाहती थी उनको देश के हिन्दू, सिख, दलित, भाइयों ने प्रदर्शनों में शामिल हो कर करारा जवाब दिया है।

विज्ञापन

वर्णनयोग है कि राज्य भर में प्रदर्शनकारी केंद्र सरकार और यूपी पुलिस मुर्दाबाद, सी.ए.ए. मुर्दाबाद, गुंडागर्दी नहीं चलेगी, हिन्दू, मुस्लिम भाई भाई के नारे लगाऐ। लुधियाना में प्रदर्शन के दौरान शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान लुधियानवी ने महामहिम राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन स्थानीय मजिस्ट्रेट अमरजीत बैंस को दिया। साथ ही आज शहर की मस्जिद हजऱत अबू बकर एल ब्लाक रणधीर सिंह नगर, मस्जिद बिलाल, कादरी मस्जिद कुंदनपुरी, मस्जिद उमर फारूक, साबरी मस्जिद आज़ाद नगर, मस्जिद बिलाल चुंगी वाली ताजपुर रोड, सुन्नी मस्जिद शिवपुरी, मीना मस्जिद शक्ति नगर, नूरानी मस्जिद सरूप नगर, मदनी मस्जिद राहों रोड, मस्जिद सनैत वली पीएयू, मस्जिद उमर फारूक पंजाबी बाग, हुसैनी मस्जिद गुलाबी बाग, मस्जिद उस्मान गनी भाटिया, एक मीनारा मस्जिद मायापुरी, मस्जिद रूप नगर, मस्जिद फातिमा पंजाबी बाग, मस्जिद उस्मान गनी, मस्जिद कोट मंगल सिंह नगर, मस्जिद बाग सूफिया,मदीना मस्जिद बड़ेवाल, मस्जिद गिल्ल चौंक, मस्जिद तकवा, मस्जिद साबरी नूरानी राम नगर, नूर मस्जिद शक्ति नगर, मस्जिद शेरपुर मुस्लिम कालोनी, मस्जिद ढडारी, मस्जिद जोगियाना, मस्जिद मक्कड़ कालोनी, मस्जिद जासियां रोड, मस्जिद ग्यासपुरा, मस्जिद अहरार गिल्ला, लोहारा मस्जिद के बाहर हजारों मुसलमानों ने जबरदस्त रोष प्रदर्शन कर प्रशासन को ज्ञापन सौंपा।


Spread the news