दरभंगा पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, एक संवेदनशील मामले का महज़ चंद दिनों में किया खुलासा

728x90
Spread the news

ज़ाहिद अनवर (राजु)
उप संपादक

दरभंगा/बिहार : दरभंगा पुलिस ने एक बड़े संवेदनशील मामले का महज़ चंद दिनों में खुलासा कर बड़ी कामयाबी हासिल की है। केवटी थाना क्षेत्र अन्तर्गत पिलखवाड़ा गांव के तालाब से 28 दिसंबर को मिली अपहृत युवती का शव के मामले में खुलासा हो गया है। दुष्कर्म के प्रयास में सफल नहीं होने के कारण युवती की हत्या की गयी थी। अभियुक्तगण अपहृत युवती के बड़ी बहन से भी पिछले तीन वर्षों से लगातार शारीरिक संबंध बनाता था।

इस मामले में महिला थाना में दो अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है और सभी चार आरोपी गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। घटना को लेकर मृतिका की बड़ी बहन के बयान पर महिला थाना में अलग से एक प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। पीड़िता ने अपने प्राथमिकी में कहा है कि परसा बिशनपुर गांव के राधे पासवान के पुत्र सुरजीत पासवान मृतिका को घर में अकेला देख बहला-फुसलाकर जबरदस्ती 3 वर्ष पहले दुष्कर्म किया। उसके बाद उसके साथ वह लगातार धमकी देकर दुष्कर्म करता रहा। इस बीच उसकी छोटी बहन और मृतिका के साथ भी वह दुष्कर्म करने की कोशिश कर रहा था। विरोध करने पर वह दुष्कर्म की तस्वीर और वीडियो वायरल करने की धमकी देता था। साथ ही कुछ तस्वीर दोस्त के मोबाइल पर अग्रसारित भी कर दिया।

विज्ञापन

हालांकि पीड़िता के विरोध के कारण वह दुष्कर्म करने में कामयाब नहीं रहा। लेकिन वह हमेशा धमकी देता था कि तुम अपनी छोटी बहन से संबंध नहीं बनाने दोगी तो तुम दोनों बहन को जान से मार देंगे। इस बीच उसके घर परसा बिशनपुर गांव निवासी देवनारायण शर्मा के पुत्र मुकेश शर्मा उसके घर पर खिड़की-केवाड़ी लगाने के लिए 20 दिनों तक काम किया था। इस क्रम में उसका मोबाइल नंबर मुकेश शर्मा ने ले लिया और लगातार अश्लील बात कर दुष्कर्म करने की कोशिश करने लगा। लेकिन वह दुष्कर्म करने की कोशिश में कामयाब नहीं हो पाया। कुछ दिनों के बाद गांव के ही जगदीश पासवान के पुत्र बूस्टर पासवान के साथ मुर्गा को लेकर झगड़ा हुआ था। इसे लेकर बूस्टर और गांव के ही बलमा पासवान के पुत्र मुकेश पासवान एक रात तीनों भाई-बहन को अकेला देख घर में घुस गया और जोर जबरदस्ती करने लगा। उस दौरान उसके पिताजी दिल्ली में मजदूरी करते थे और मां मायके गई हुई थी। हालांकि हल्ला करने पर दोनों आरोपित घर से भाग गए। लेकिन जाने के साथ-साथ मोबाइल नंबर नहीं देने के कारण अंजाम भुगतने की धमकी देकर चला गया।

विज्ञापन

इस बीच 15 दिसंबर को पीड़िता की छोटी बहन अचानक गायब हो गई। जिस के अपहरण की प्राथमिकी स्थानीय थाना में दर्ज कराई गई। लेकिन गांव के ही तालाब से 28 दिसंबर को लाश बरामद हुआ था। पीड़िता ने अपने प्राथमिकी में कहा है कि इन्हीं चारों आरोपितों ने मिलकर उसकी छोटी बहन की हत्या की है। इधर महिला थानाध्यक्ष सीमा कुमारी ने बताया कि चारों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है और न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।


Spread the news