नियमित रूप से साइकिलिंग करना स्वास्थ की दृष्टि से भी उपयोगी

728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : गुरुवार को ठाकुर प्रसाद महाविद्यालय, परिसर में राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) एवं राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) के तत्वावधान में साइकिल रैली आयोजित की गई, रैली महाविद्यालय से नार्थ कैम्पस तक गई और वहां आयोजित ग्रीन पैरेड में शामिल हुई।

इस दौरान रैली में शामिल लोगों को संबोधित करते हुए महाविद्यालय प्रधानाचार्य डॉ. कैलाश प्रसाद यादव ने कहा कि साइकिल यातायात का एक सस्ता एवं सुगम माध्यम है और यह पर्यावरण हितैषी भी है। साथ ही नियमित रूप से साइकिलिंग करना स्वास्थ की दृष्टि से भी उपयोगी है।

उन्होंने कहा कि साइकिल सवारी को बढ़ावा देना स्वच्छता, पर्यावरण संतुलन और स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। साइकिल चलाने से हमारे दिल एवं दिमाग दोनों को लाभ मिलता है।

युवाओं के ऊपर है जिम्मेदारी : एनएसएस पदाधिकारी डॉ. सुधांशु शेखर ने कहा कि युवा पीढ़ी के ऊपर वर्तमान विश्व को पर्यावरण प्रदूषण के ख़तरों से बचाने और उर्जा संकट को दूर करने की जिम्मेदारी है। इसके लिए युवाओं को आधुनिक जीवनशैली को छोड़कर प्रकृति-पर्यावरण के अनुकूल जीवनशैली को अपनाना होगा। युवाओं को अपनी तत्कालीन भौतिक जरूरतों की बजाय समाज एवं राष्ट्र के व्यापक हित को ध्यान में रखकर स्वेच्छा से सादगी को अपनाना होगा, साइक्लिंग भी इस दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

शर्म नहीं गर्व की बात है साइकिलिंग : एनसीसी पदाधिकारी ले. गुड्ड कुमार ने कहा कि साइकिल पर्यावरण के लिए सबसे बेहतर है। कार या बड़ा वाहन सड़क पर चलाते हैं, तो वह 10 साइकिल के बराबर जगह घेरते हैं। प्रदूषण अलग फैलता है। उन्होंने यूरोपियन देशों का उदाहरण दिया कि वहां साइकिल चलाने में शरमाते नहीं हैं, बल्कि उत्साह से चलाते हैं। अतः हमें भी साइकिल की सवारी करने में शर्म नहीं आनी चाहिए, बल्कि गर्व होना चाहिए।

इस अवसर पर अंजनी कुमारी, बेबी कुमारी, मोहन कुमार, अरविंद कुमार, नीतीश कुमार, आदित्य रमण, सत्यप्रकाश कुमार, अंकेश कुमार, अमित कुमार, मानिकचंद्र कुमार, अंकित कुमार आदि उपस्थित थे।

बिनीत कुमार बबलू
संवाददाता, मधेपुरा