अम्बेडकर के मूल संविधान पर चल कर ही देश का विकास संभव – डॉ फिरोज मंसूरी

728x90
Spread the news

मुरलीगंज/मधेपुरा/बिहार : किसान, मजदूर, छात्र व नौजवान की बदहाली समेत जनहित से जुड़े मुद्दे को लेकर आज आम नागरिकों की एक बैठक डॉ फिरोज मंसूरी की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में सर्वसम्मति से तीन प्रस्ताव पास किए गए। जिसमें किसान, मजदूर, छात्र व नौजवान की समस्या को चिन्हित कर अविलम्ब एक संवाद यात्रा शुरु करने पर विचार विमर्श किया गया साथ ही किसान, मजदूर, छात्र, नौजवानों की बैठक प्रति सप्ताह विभिन्न गांव-मुहल्ले में आयोजित करने पर बल दिया गया।

आयोजित बैठक में वार्ड पार्षद डॉ मनोज कुमार ने कहा कि आज किसान, मजदूर, छात्र व नौजवानों की हालत बदतर हो गयी है। किसानों की फसल को सरकार कौड़ी के भाव खरीद कर खेती किसानी को जड़ से समाप्त करना चाहती है। किसान को किसी तरह का लाभ नही मिल रहा है। केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा किसानों की आय दुगनी करने वाले वादे जुमला साबित हो गया। इसलिए देश की गरीब शोषित जनता ऐसी सरकार को‌ उखाड़ फेंकने का संकल्प ले चुकी है ।

वहीं डॉ फिरोज मंसूरी ने कहा कि जब तक देश के किसान मजदूर और छात्र नौजवान अपना हक अधिकार नहीं समझेंगे, तब तक उनका शोषण होता रहेगा। अपनी आजादी को संघर्ष के माध्यम से ही सुरक्षित रखा जा सकता है । अन्नदाता किसान मजदूर छात्र नौजवान ही देश का असली मालिक है, उनके अधिकार पर हमला देश पर हमला है। उन्होंने कहा कि देश का सही विकास बाबा साहब अम्बेडकर के मूल संविधान पर चल कर ही संभव है।

मौके पर रणधीर यादव, आशा देवी, रजेन ऋषिदेव, ललन यादव, छोटू मंडल, संतोष कुमार, दिपक साह, प्रभाष कुमार, सत्यनारायण पौदार, बैधनाथ मंडल, मोहन कुमार, संजय मंडल, शम्भू यादव, राम सुन्दर मंडल, संतोष साह, बिमल कुमार, अनिल साह, सिन्टू कुमार, कुन्दन यादव, श्रवण कुमार, अंजलि भारती, मो अफरोज, कलाम नद्दाफ, विनोद कुमार गुप्ता, कुन्दन‌ कुमार निराला, हेमन्त मंडल सहित दर्जनो लोग मौजूद थे।

मिथिलेश कुमार
संवाददाता
मुरलीगंज, मधेपुरा

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें