महागौरी की पूजा के साथ ही शहर के सभी पूजा पंडालों में श्रद्धालुओं की लगी भीड़

728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : बुधवार को महागौरी की पूजा के साथ ही शहर के सभी पूजा पंडालों में श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही. सुबह से ही पूजा पंडालों में भीड़ लगनी शुरू हो गयी. बीते कुछ दिनों से बाजार में छायी वीरानी भी अष्टमी से छंटने लगी. लोगों की ज्यादा भीड़ कपड़ों के दुकानों पर देखने को मिली. लिहाजा पूजा व हवन सामग्री की दुकानों पर भी भीड़ ज्यादा देखने को मिली. भगवती को चढ़ाये जाने वाले खोइछा में उपयोग होने वाली सामग्रियों की बिक्री के लिए पूजा स्थलों के पास दर्जनों की संख्या में दुकानें सजी रही. सालूक के टुकड़े, दूब, हल्दी, अरवा चावल, प्रसाद, द्रव्य की पोटली बनाने में महिलायें व्यस्त दिखी है.

महिलाएं पहुंची भगवती को खोइछा चढ़ाने मंदिर : महाअष्टमी को महिलाएं भगवती को खोइछा चढ़ाने मंदिर पहुंची. इधर सभी पूजा स्थलों पर श्रद्धा सहित दुर्गा सप्तशती का पाठ होता रहा. नये वस्त्रों की खरीदारी करने निकले लोगों से बाजार में चहल-पहल बनी रही. अहले सुबह से देर रात तक हर तरफ पूजा की ही धूम मची है. आकर्षक लाइट व पंडालों में सजी माता की प्रतिमाओं की सुंदरता देखते ही बन रही है. सभी पूजा पंडालों में बड़े ही आकर्षक तरीके से प्रतिमा को सजाया गया है. महाअष्टमी को लेकर घर-घर में कुंवारी कन्याओं को भोजन कराया गया.

प्रतिमा स्थल पर घूमने में बरते सावधानी : माता का दरबार सज चुका है. शहर का सभी मोहल्ला गुलजार है. मां के दर्शन व प्रतिमा स्थल पर घूमने का मन सभी का होता है. ऐसे मौकों पर पूरे परिवार का साथ होना बड़ा आनंददायी होता है. अधिकांश लोग सपरिवार मां दुर्गा के दर्शन को उत्सुक होते हैं, लेकिन कभी-कभी घर को खाली रखना भारी पड़ जाता है. इस मौके पर सावधानी जरूरी होती है. शहर में ऐसे बंद घर चोर-उचक्कों के लिए निशाना होते हैं. चोर उच्चके मौके की तलाश में होते है. आप मेला घूमने निकले, उधर चोर आपके घरो को निशाना बना बैठते हैं. इसलिए एक ही बार घर के सभी सदस्य बाहर नहीं निकले. परिवार के किसी न किसी सदस्य को इस दौरान घर पर छोड़कर ही जायें. पर्व त्योहार के समय मेला घूमने गये लोगों के घर को चोर आसानी से निशाना बना लेते हैं.

बच्चों की जेब में डाल दे परची : मां दुर्गा के दर्शन करने के लिए मंदिर जाने के लिए घर से निकलने से पहले बच्चों की जेब में मोबाइल नंबर व अपना पता लिख कर जरूर डाल दें. जिससे की भीड़ में बच्चा आपके हाथ से छूट भी जाये तो उसे ढ़ूढ़ने में दिक्कत नहीं होगी. कोई अनजान व्यक्ति या पूजा समिति के लोग भी उस नंबर पर कॉल कर आसानी से आप तक उस बच्चे को पहुंचा देंगे. मेला में कानफाडू आवाज को सीधे सुनने से बचना चाहिये. जिस कर्कश आवाज में लाउडस्पीकर बजता है, आपके कान का पर्दा जवाब दे सकता है. घूमने के वक्त पंडालों में ज्यादा समय नहीं देना चाहिये. मां के दर्शन को अन्य श्रद्धालुओं के लिए भी पंडालों में जगह देनी चाहिए.

असमाजिक तत्वों पर रखे नजर : असामाजिक तत्वों की गतिविधियों पर नजर रखनी चाहिये. कहीं इस तरह की कोई गतिविधि आपको नजर आये तो, तुरंत उसकी सूचना पुलिस अथवा कंट्रोल रूम को देनी चाहिये. मेला में खान-पान में सावधनी बरतने की भी जरूरत है. ऐसे मौकों पर बहुत से दुकानदार कृत्रिम सामान को खपा देते हैं. ज्यादा स्वर्णाभूषण पहन मेला घूमना ठीक नहीं है. इससे आपका भी ध्यान बंटा रहेगा और असमाजिक तत्व भी मौके का फायदा उठाने की ताक में रहेंगे. मां का दर्शन करने के लिए निकले हैं तो सुनसान व अंधेरे रास्ते के प्रयोग से परहेज करें.

Advertisement

चप्पे-चप्पे पर की गई है पुलिस बलों की तैनाती : जिला मुख्यालय में होने वाले चार जगहों पर दुर्गा पूजा को लेकर जिला प्रशासन ने पूरी व्यवस्था कर ली है. सभी चौक चौराहा तथा बाजार एवं मंदिरों के आसपास पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है. मंदिरों में महिला एवं पुरुष श्रद्धालुओं को परेशानी का सामना ना करना पड़े, इसके लिए महिला एवं पुरुष पुलिस बल की तैनाती की गई है. साथ ही असामाजिक तत्वों और मनचलों पर नजर रखने के लिए जिला प्रशासन एवं मंदिर कमेटी द्वारा मंदिरों एवं शहर के प्रमुख स्थानों पर सीसीटीवी कैमरा लगाया गया है.

Advertisement

विभिन्न जगहों पर की गई है बैरिकेटिंग व्यवस्था : मुख्य बाजार में स्थित तीन मंदिर बड़ी दुर्गा मंदिर, बांग्ला दुर्गा मंदिर, रेलवे परिसर स्थित दुर्गा मंदिर को लेकर बाजारों में लोगों की संख्या काफी बढ़ जाती है तथा काफी भीड़-भाड़ का माहौल बना रहता है. इन रास्तों से वाहनों का चलना मुसीबत उत्पन्न कर देती है. इसके लिए जिला प्रशासन ने शहर के विभिन्न जगहों पर बैरिकेटिंग व्यवस्था की है. नवमी एवं दशमी को बैरिकेटिंग से पहले ही लोगों को अपने वाहनों को खड़ा कर मंदिर पैदल जाना पड़ेगा.

परेशानी होने पर करें इन नंबरों पर संपर्क :

अनुमंडल पदाधिकारी मधेपुरा :- 9473191355

अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी मधेपुरा :- 9431800034

प्रखंड विकास पदाधिकारी मधेपुरा :- 9006083340

अंचलाधिकारी मधेपुरा :- 8544412633

सदर थानाध्यक्ष :- 9431822774

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें