मुरलीगंज के सीओ की मनमानी, 12 बजे के बाद पहुंचते हैं कार्यालय, आम अवाम परेशान  

728x90
Spread the news

मुरलीगंज/मधेपुरा/बिहार : मधेपुरा जिला का मुरलीगंज अंचल कार्यालय, जो सरकार द्वारा बनाए गए नियम से नहीं बल्कि यहाँ के सीओ के बनाए नियम से चलता है, भले ही दूसरे सरकारी दफ्तर समय के अनुसार खुल जाते हो, लेकिन इस अंचल कार्यालय का खुलने का समय भी सीओ साहब ही तय करते हैं और उन्ही के तयशुदा वक्त पर कार्यालय खुलता है, कारण मालूम करने पर पता चला कि सीओ साहब दफ्तर का ज्यादा तर काम अपने आवास पर ही करते हैं, और सीओ साहब के साथ-साथ यहाँ के डाटा ऑपरेटर का भी यही हाल है, मतलब 12 बजे दिन तक अंचल के डाटा इंट्री ऑपरेटर के कार्यालय में भी ताला लटका रहता है ।

Advertisement

जिसका परिणाम है कि आए दिन अंचल कार्यालय का चक्कर काट रहे लोग जमीन सम्बंधी विभिन्न समस्याओं को दूर कराने को लेकर खासे परेशान रहते है। शुक्रवार को करीब 12 बजे प्रखंड सह अंचल कार्यालय में सीओ और डाटा इंट्री ऑपरेटर के कार्यालय में ताला लटका हुआ था। जबकि जमीन संबंधी विभिन्न समस्याओं को लेकर दूर दराज गाँव के दर्जनो महिला व पुरुषो की भीड़ लगी हुई थी। लेकिन साढे बारह बजे तक पदाधिकारी व कर्मी नदारद थे। लोग परेशान नजर आए। लोगों का कहना था कि कई महीनों से अंचल कार्यालय का चक्कर काट रहे हैं। लेकिन समस्या दूर नही हो रहा है। पदाधिकारी और डाटा इंट्री ऑपरेटर मिलते ही नही है। जब भी आते हैं तो कार्यालय में ताला लटका हुआ रहता है। साथ ही उन लोगों ने बताया कि पदाधिकारी अधिकांश कार्यो का निष्पादन अपने आवास पर ही करवाते हैं।

इस दौरान सिंगयान पंचायत के धरहारा वार्ड 5 निवासी निरंजन कुमार मंडल और रजनी पंचायत की संजू देवी ने बताया कि करीब एक साल से दाखिल खारिज करवाने के लिए चक्कर लगा रहे हैं। जबकि एक साल पूर्व हीं ऑनलाइन करवाए हैं। जयरामपुर टपरा टोला वार्ड 10 के किरण देवी ने बताया कि रसीद कटाने को लेकर कचहरी और अंचल कार्यालय का चक्कर लगाकर थक चुकी हैं। आलम यह है कि लोग दाखिल खारिज के लिए ऑनलाइन करवाने के बाद भी महीनों से कार्यालय का चक्कर काटने को मजबूर हैं। पदाधिकारी और डाटा इंट्री ऑपरेटर के इंतजार कर रहे लोगों ने बताया कि सीओ अपने आवास पर डाटा इंट्री ऑपरेटर काम लेते हैं, और डाटा इंट्री ऑपरेटर विवेक चौधरी करीब एक माह से अपने आवास पर भी ऑपरेटरो के द्वारा भूमि संबंधी विभिन्न कार्य करवाते हैं। जहाँ लोगो की भीड़ उमड़ी रहती है।

लगभग साढे बारह बजे सीओ मुकेश कुमार सिंह अपने कार्यालय पहुंचे। डाटा इंट्री ऑपरेटर के कार्यालय में ताला लटका हुआ था। जबकि डाटा इंट्री ऑपरेटर विवेक चौधरी सीओ आवास पर काम कर रहे थे। इतना ही नही कचहरी में कार्यरत राजस्व कर्मचारी के पुत्र सीओ के आवास परिसर में मोटेशन के नाम पर जोरगामा के राजीव कुमार से कागजात और रूपया लेते देखा गया। इससे यह प्रतीत होता है कि सीओ, कर्मचारी और डाटा इंट्री ऑपरेटर के मिलीभगत से भूमि संबंधी कार्यो के नाम पर अवैध उगाही का गोरखधंधा धड़ल्ले से चल रहा है। इतना हीं नही भूमि संबंधी कार्यो के लिए कार्यालय सहित आवास पर बिचौलिया हावी है। जिस कारण आम लोगों का कार्य वर्षो बाद भी नही हो पाता है। जिसके पास पैसा और पैरवी है उनका काम आसानी से होने की बात कही जा रही थी।

इस बाबत सीओ मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि अन्य कार्य रहने के कारण 12 से ढाई बजे तक आम लोगों के लिए कार्यालय में रहते है। कार्यालय में लोगों की भीड़ लगने की वजह से अपने आवास पर जमीन संबंधी कार्यो का निष्पादन करवाते हैं।

मिथिलेश कुमार
संवाददाता
मुरलीगंज, मधेपुरा

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें