मधेपुरा के वरीय अधिकारियों का निर्देश, कनीय पदाधिकारियों के सामने टांय-टांय फिस्स

Photo : www.therepublicantimes.coPhoto : www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : जिले में किसी भी समस्या एवं अन्य विषयों को लेकर आला अधिकारियों की अध्यक्षता में सिर्फ निर्णय लेने एवं निर्देश देने के लिए बैठक आयोजित की जाती है. उसका पालन नहीं किया जाता है. जिससे यह साफ जाहिर होता है कि वरीय अधिकारियों का निर्देश कनीय अधिकारियों पर कोई असर नहीं करता है. वह सिर्फ कागजों पर सिमट कर रह जाता है. कल (25 अगस्त 2021) को सामाजिक न्याय के पुरोधा, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री एवं मंडल कमीशन के अध्यक्ष बीपी मंडल की 103 वी जयंती को राजकीय समारोह के रूप में मनाई जायेगी, लेकिन बीपी मंडल के नाम से इंडोर स्टेडियम अपने बदहाली पर आंसू बहा रहा है. जबकि इंडोर स्टेडियम के रंग रोगन एवं मरम्मती के लिए चार अगस्त को डीडीसी विनोद प्रसाद सिंह की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में संबंधित विभाग को निर्देश दिया गया था, लेकिन निर्देश सिर्फ कागजों पर रह गया. जमीनी हकीकत में वह निर्देश बेअसर साबित हुई. बीपी मंडल के राजकीय जयंती समारोह को लेकर पिछले वर्ष भी बैठक में इंडोर स्टेडियम के रंग रोगन एवं मरम्मत के लिए निर्देश दिया गया था, वह भी खोखला ही साबित हुआ था.

advertisement

333.43 लाख की लागत से बनी है बीपी मंडल इंडोर स्टेडियम : मालूम हो कि जिला मुख्यालय स्थित जिला पदाधिकारी आवास के समीप मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना के तहत 16 फरवरी 2017 को तत्कालीन राज्य सभा सांसद शरद यादव, विधान परिषद सदस्य ललन सर्राफ, पूर्व विधान परिषद सदस्य विजय कुमार वर्मा एवं तत्कालीन जिला पदाधिकाारी सोहेल की उपस्थिति में 333.43 लाख की लागत से बने बीपी मंडल इंडोर स्टेडियम के रंग रोगन एवं मरम्मत को लेकर डीडीसी के निर्देश के जमीनी हकीकत की पोल सोमवार की हल्की सी बारिश, शौचालय में फैली गंदगी, टूटा नल, महीनों या फिर वर्षों से बंद आरओ, भवन के अंदर रखी पानी की टंकी, दीवाल पर उगे जंगल, भवन के बाहर बड़े-बड़े गड्ढे, जर्जर किवाड़ एवं दीवाल ने खोल दी है. करीब साढ़े चार वर्ष पूर्व बने इस भवन के कोने-कोने से पानी टपकना शुरू हो गया है. यहां तक कि इस पानी टपकने की समस्या पर कई बार भवन के छतों का मरम्मत भी किया गया है, लेकिन भवन की स्थिति में सुधार नहीं आ सकी है. कई जगह तो बल्ब लगाने वाले होल्डर के पास से पानी टपक रहा था. ऐसे में बिल्डिंग में करंट दौड़ने का डर बना हुआ है.

पानी के बहाव को रोकने के लिए नल पर रख दिया गया है ईंट का टुकड़ा : बीपी मंडल इंडोर स्टेडियम के अंदर निचली एवं ऊपरी तल पर बने शौचालय की स्थिति बेहद ही खराब है. शौचालय में गंदगी फैली हुई है. फर्श पर पानी फैला हुआ है. हाथ धोने के लिए बेशीन की हालत देखकर यह अंदाजा लगाया जा सकता है किन महीनों से उसका उपयोग नहीं किया गया है क्योंकि नल भी खराब है. नल पर रखा हुआ ईंट का टुकड़ा, उसकी स्थिति को बयां कर रहा था. शौचालय में फैली गंदगी को देखकर यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि महीनों से उसकी सफाई नहीं हुई है. जानकारी के अनुसार महीनों पूर्व आंधी में भवन के छत पर रखे पानी की टंकी गिर गई थी, जिसे उठाकर भवन के अंदर रख दिया गया. जिसके बाद उसे ठीक करवाने की विभाग ने कोशिश भी नहीं की. जिसके कारण लोग शौचालय का उपयोग नहीं करते हैं. साथ ही ज्यादा आवश्यकता होने पर मोटर चलाने की स्थिति में नल खराब होने के कारण फर्श पर पानी बहने लगता है. जिसे रोकने के लिए नल पर ईंट का टुकड़ा रख दिया गया है.

भवन के आगे है बड़े-बड़े गड्डे, खिलाड़ियों को बना रहता है सांप व कीड़े का डर : बीपी मंडल इंडोर स्टेडियम जिले के वरीय अधिकारियों के आवास के समीप अवस्थित है. इंडोर स्टेडियम के समीप बड़े-बड़े गड्ढे हैं. जिसमें गंदा पानी तथा कचरा जमा हुआ रहता है. जिसके कारण स्टेडियम के अंदर खेलने वाले खिलाड़ियों को सांप व कीड़े-मकोड़े का डर बना हुआ रहता है. स्टेडियम में खेलने पहुंचे खिलाड़ियों ने बताया कि कई बार इंडोर स्टेडियम के अंदर जहरीले सांप व कीड़े को देखा गया है. कभी कभी तो ऐसा भी देखा गया है कि लोग बाइक खड़ी कर के जाते हैं और वापस आने पर देखते हैं कि बाइक की टायर से सांप लिपटा हुआ है. ऐसे में लोगों को हमेशा डर बना हुआ रहता है. स्थानीय लोगों ने बताया कि जिस वक्त स्टेडियम का निर्माण कराया गया था, उस वक्त यहां गड्ढा नहीं था. स्टेडियम के निर्माण में यहां खुदाई कर मिट्टी का उपयोग किया गया. जिसके बाद आज तक मिट्टी भराई का कार्य नहीं किया गया है. हालांकि भवन के आगे नाला निर्माण में निकले कुछ मिट्टी को भवन के आगे वाले भाग में डाला गया है.

स्टेडियम के मरम्मत का कार्य न करना, अधिकारियों के निर्देश का है उल्लंघन : बीपी मंडल इंडोर स्टेडियम का निर्माण कार्यपालक अभियंता स्थानीय क्षेत्र अभियंत्रण संगठन कार्य प्रमंडल मधेपुरा के द्वारा कराया गया था. जिला कबड्डी संघ के सचिव अरुण कुमार ने इंडोर स्टेडियम के निर्माण के गुणवत्ता पर सवाल कर तथा अधिकारियों का निर्देश का पालन नहीं होने को लेकर कहा कि बुधवार को बीपी मंडल की राजकीय जयंती मनाई जायेगी, लेकिन दुख की बात है कि बीपी मंडल के नाम से बने इंडोर स्टेडियम की हालत बेहद जर्जर है. उन्होंने कहा कि बारिश होने पर भवन के अंदर जगह जगह से पानी टपकता है, शौचालय में गंदगी फैली हुई है, दीवाल जर्जर है और लगभग सभी लाइक खराब है. उन्होंने कहा कि कल बीपी मंडल की जयंती है और अब तक इंडोर स्टेडियम के रंग-रोगन एवं मरम्मत का कार्य न कर, अधिकारियों के निर्देश का उल्लंघन किया गया है. उन्होंने कहा कि जल्द से जल्द भवन का मरम्मत नहीं किया गया तो भवन ध्वस्त हो जायेगा.

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें