“अपन मधेपुरा-चिकन मधेपुरा ” के मिशन को हर जिलेवासी को संकल्पित होने की जरूरत- राठौर

728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : डॉ जगन्नाथ मिश्र के मुख्यमंत्रित्व काल में नौ मई 1981 को  जिला का दर्जा पाने वाले मधेपुरा ने चार दशक के सफर में कई उतार चढ़ाव को देखते हुए ऐतिहासिक उपलब्धि प्राप्त की जिसके बदौलत जिले की चर्चा राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हो रही है इसे और समृद्ध करने की जरूरत है ।

यें बातें वाम छात्र संगठन एआईएसएफ के राष्ट्रीय परिषद् सदस्य हर्ष वर्धन सिंह राठौर मधेपुरा के चालीसवीं स्थापना दिवस पर कही। उन्होंने कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क के मामले में बहुत तेजी से विकास हुआ वहीं अन्य क्षेत्रों में पर्याप्त संभावनाएं हैं जिसमें हवाई अड्डा बनने, केंद्रीय विद्यालय शुरू होना, अलग अलग शोरूम का खुलना मुख्य है। उन्होंने कहा कि स्थापना के चार दशक पूरा करने वाले जिलेवासी को संकल्पित होने की जरूरत है की उपलब्ध संसाधन का पूर्ण उपयोग कर ईमानदार पहल के साथ जिला को और ऊंचाई पर ले जाएंगे। साथ ही जनप्रतिनिधियों के प्रयास से रोजगार व विकास के अन्य विकल्पों को भी स्थापित करने का काम करेंगे।

इस अवसर पर छात्र नेता राठौर ने संगठन की ओर से जिले के अब तक के सफर में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से भूमिका निभाने वालों के योगदान को सलाम किया, वहीं विभिन्न क्षेत्रों में राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय पहचान दिलाने वाली हस्तियों को जिले का धरोहर बताया। स्थापना दिवस के अवसर पर राठौर ने जिला प्रशासन से मांग किया कि जिला मुख्यालय में सुलभ शौचालय, साफ सफाई की सफल रोड मैप, मुक्तिधाम व रौशनी की पर्याप्त व्यवस्था को प्राथमिकता के आधार पर ले कर इसकी व्यवस्था करे क्योंकि इसके अभाव में जिले वासी को बड़े स्तर पर नुकसान व परेशानी उठानी पड़ती है। वहीं उन्होंने कहा कि सांस्कृतिक व धार्मिक रूप से अतीत से सम्पन्न इस क्षेत्र को पर्यटन विभाग के सहयोग से जिले के विकास की कड़ी बनाने की जरूरत है। खेल व कला संस्कृति में अपार संभावनाएं हैं जिसपर काम करने की जरूरत है।

राठौर ने कहा कि जिले का विकास हर जिलेवासी का सपना होना चाहिए और सबको इस प्रकार जिले के विकास के लिए काम करना चाहिए की हर जिलावासी गर्व से कह सके अपन मधेपुरा चिकन मधेपुरा। एआईएसएफ नेता सौरभ कुमार ने कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में सबों को गम्भीरता व समझदारी से काम लेने की अपील करते हुए दुख और भय की  घड़ी  में क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों को आगे आने की अपील की। उन्होंने कहा कि इस विषम दौर में एक दूसरे के हौसले को बढ़ाने की जरूरत है।

मो० नियाज अहमद
ब्यूरो, मधेपुरा

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें