मधेपुरा जेएनकेटी मेडिकल कॉलेज के नए प्राचार्य और अधीक्षक ने किया पदभार ग्रहण, लोगों में जगी आस

Photo : www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : सोमवार को जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में एक साथ अधीक्षक एवं प्राचार्य ने योगदान लिया. राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल बेतिया के नेत्र विभाग के प्राध्यापक डा भूपेंद्र प्रसाद ने जेएनकेटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के प्राचार्य के रूप में पदभार ग्रहण किया. वहीं जेएनकेटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के ही पैथोलॉजी विभाग के सह प्राध्यापक डा बैधनाथ ठाकुर ने अधीक्षक के रूप में योगदान लिया. मालूम हो कि मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के पूर्व प्राचार्य डा गौरी कांत मिश्रा एवं अधीक्षक डा राकेश कुमार को एक साथ बिहार सरकार स्वास्थ्य विभाग के विशेष कार्य पदाधिकारी एसएस पांडेय ने सात मई की देर शाम  प्रशासनिक दृष्टिकोण की बात कर, प्रभार मुक्त कर दिया था. मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल को 10 दिन पूर्व ही पांच सौ बेड का कोविड डिडिकेटेड अस्पताल घोषित किया गया है.

लोगों में जगी आस, मेडिकल कॉलेज के हालात में आयेगी सुधार : कोरोनाकाल में ऑक्सीजन की कमी से लेकर डॉक्टरों की अनुपस्थिति एवं कुव्यवस्था को लेकर विवादों से घिरा जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के नये प्राचार्य एवं अधीक्षक के आने से स्थानीय लोगों में एक आस जगी है कि अब मेडिकल कॉलेज के हालात सुधर जायेंगे और लोगों को कुव्यवस्थाओं का सामना नहीं करना पड़ेगा. पूर्व के प्राचार्य एवं अधीक्षक पर मरीजों, परिजनों, स्थानीय लोगों एवं जनप्रतिनिधियों के द्वारा लगातार कई आरोप लगाए गए थे. साथ ही पूर्व प्राचार्य डा गौरि कांत मिश्रा पर लगातार मुख्यालय से गायब रहने के आरोप लग रहे थे. अभी बीते दिन सिंहेश्वर राजद विधायक चंद्रहास चौपाल ने भी प्राचार्य पर जमकर बरसे थे. अस्पताल से लगातार डॉक्टरों के गायब होने की शिकायत मिल रही थी और गिने चुने चिकित्सकों द्वारा अस्पताल चलाया जा रहा था. वहीं पूर्व अधीक्षक डा राकेश कुमार लगातार मेडिकल कॉलेज की कमियों को लेकर खुलकर बोलने लगे थे. अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी व संसाधन की कमी की बातें करने लगे थे. चर्चा तो ये भी है कि अधीक्षक व प्राचार्य के बीच बनाव नहीं था. जिसके कारण यहां तनाव बढ़ने लगा था.

मेडिकल कॉलेज में मरीजों के लिए सारी सुविधा है उपलब्ध : योगदान लेने के बाद मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डा भूपेंद्र प्रसाद ने बताया कि मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के सभी कार्य सुचारू रूप से चल रहे हैं. सभी दवाई उपलब्ध है. जिला पदाधिकारी श्याम बिहारी मीणा के द्वारा ससमय ऑक्सीजन भी उपलब्ध करवाया जा रहा है. मेडिकल कॉलेज में किसी भी चीज की कोई दिक्कत नहीं है. सरकार के द्वारा दी जा रही हर सुविधा लोगों को उपलब्ध कराई जा रही है. उन्होंने कहा कि यहां पहुंचने वाले मरीजों के लिए सारी सुविधा उपलब्ध है, बस हमें उसे और बेहतर करने की जरूरत है. मेडिकल कॉलेज के चिकित्सक एवं कर्मी लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने के लिए अपने कार्य पर डटे हुए हैं. यह ध्यान रखा जाता है कि किसी भी मरीज को कोई परेशानी का सामना ना करना पड़े. वहीं लोगों की परेशानियों  से अवगत होने के लिए जिला प्रशासन के द्वारा तैनात किए गए अधिकारी एवं कर्मी समय-समय पर लोगों से हाल जान रहे हैं तथा कोई भी परेशानी होने पर तुरंत उसका निदान किया जा रहा है.

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें