कोरोना के नाम पर भय व दहशत का माहौल,  अन्य बीमारियों का नहीं हो रहा इलाज : राठौर

Photo : www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : कोरोना के लगातार विकराल हो रहे रूप और हाहाकार के बीच वाम छात्र संगठन एआईएसएफ की राष्ट्रीय परिषद और बिहार राज्य परिषद् की आपात बैठक ज़ूम एप पर ऑनलाइन आयोजित की गई और कई अहम फैसले लिए गए।

संगठन के राष्ट्रीय परिषद् सदस्य सह राज्य कार्यकारिणी सदस्य हर्ष वर्धन सिंह राठौर ने कहा कि राष्ट्रीय परिषद् की बैठक में पूरे भारत में सभी को निशुल्क वैक्सीन देने व केरल स्वास्थ्य मॉडल लागू करने को लेकर प्रतिरोध दिवस मनाने का निर्णय लिया गया, वहीं भगत सिंह रोजगार गारंटी कानून लागू करने, ऑक्सीजन, बेड, भिंडी लेटर,दवा पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराने, जरूरी कड़े शर्तों के साथ शिक्षण संस्थान को खोलने अथवा आपात स्थिति में ऑनलाइन शिक्षा को जमीन पर उतारने के लिए बेहतर नेटवर्क, फोन या टैब उपलब्ध कराने जीडीपी का सम्मानजनक हिस्सा शिक्षा व स्वास्थ्य पर खर्च करने, किसान आंदोलन के समर्थन व कोरोना की आड़ गिरफ्तार आंदोलनकारियों को रिहा करने की मांग को ले कोरोना से बचाव के बीच प्रतिरोध दिवस मनाने का निर्णय लिया गया।

वहीं एआईएसएफ बिहार की बैठक में राष्ट्रीय परिषद् के निर्णयों को लागू करने के साथ कोरोना के नाम पर भय व दहशत का माहौल बना अन्य बीमारियों के गंभीर रोगियों के इलाज करने, सैनिटाइजर व मास्क को ले आम आवाम को जागरूक करने, कोरोना  के दौड़ में लोगों को राहत पहुंचाने के लिए राज्य स्तरीय टीम बनाने, सोशल मीडिया पर अलग अलग विषय के एक्सपर्ट के साथ वेबिनार कराने सहित कई अन्य महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। 

छात्र राठौर ने कहा कि संगठन की राष्ट्रीय व प्रांतीय स्तर के ऑनलाइन बैठक में लिए गए निर्णयों को गंभीरता से संगठन की स्थानीय इकाई पहल करेगी। उन्होंने अपील किया कि वर्तमान दौर काफी भयावह का है इससे बचने के हर संभव एहतियात बरते जाने की जरूरत है छोटी सी लापरवाही भी पल भर में जानलेवा साबित हो रही है।

मो० नियाज अहमद
ब्यूरो, मधेपुरा

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें