“हम लेके रहेंगे आजादी” के नारों के साथ कार्यपालक सहायकों ने निकाला विशाल जुलुस,  समाहरणालय के मुख्य द्वार पर जमकर किया प्रदर्शन  

Photo : www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ बिहार पटना के आवाहन पर जिला इकाई द्वारा मंगलवार को 9वें दिन भी हड़ताल जारी रहा. कार्यपालक सहायकों द्वारा आंदोलन की कड़ी को आगे करते हुए जिला इकाई द्वारा बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन सोसायटी द्वारा निर्गत पत्र को समाहरणालय के मुख्य द्वार पर जलाकर विरोध व्यक्त किया गया.

इससे पूर्व कार्यपालक सहायकों ने जिला मुख्यालय स्थित कला भवन परिसर स्थित धरना स्थल से जुलुस निकाल कर प्रदर्शन किया. यह जुलुस कला भवन परिसर से निकलकर बस स्टैंड गोलंबर से होकर समाहरणालय पहुंचकर नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया. जिसके बाद कार्यपालक सहायकों ने निबंधन कार्यालय के मुख्य द्वार पर पहुंचकर जिला अवर निबंधक पदाधिकारी के द्वारा जारी किए गए पत्र की विरोध हुई प्रदर्शन किया. प्रदर्शन के बाद सभी कार्यपालक सहायक पुनः धरना स्थल पर पहुंच गए. जिसके बाद यह जुलूस सभा में तब्दील हो गई.

advertisement

ख़बर से संबंधित विडिय देखने के यहाँ क्लिक करें

बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ जिलाध्यक्ष संतोष कुमार ने कहा कि स्थानीय स्तर एवं राज्य स्तर पर लगातार कई संघ, संगठन, राजनीतिक दलों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ को समर्थन प्राप्त हो रही है. इसी कड़ी में मंगलवार को बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार पप्पू द्वारा सरकार के द्वारा निर्गत आदेश का खंडन करते हुए संघ को भरोसा दिलाया कि जरूरत पड़ी तो सभी शिक्षक बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ के मुहिम में शामिल होंगे.

विज्ञापन

वहीं बीएनएमयू के सीनेट एवं सिंडिकेट सदस्य सह ठाकुर प्रसाद महाविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डा जवाहर पासवान ने कहा कि आज हर क्षेत्र में कंप्यूटर की क्या आवश्कयता है, यह सरकार समेत सभी लोग जानते हैं. कंप्यूटर पर विभिन्न कार्यालयों में कार्यपालक सहायक ही सभी कार्यों को जीवंत कर रहे हैं. कार्यपालक सहायकों की कमी आज पूरे बिहार को खल रही है. कार्यपालक सहायकों की मांगे जायज है एवं इसमे यदि जरूरत पड़ी तो कार्यपालक सहायकों के सहायता के लिए तन, मन तथा धन से हम सभी विश्वविद्यालय संग़ठन तैयार रहेंगे. साथ ही डा सुभाष पासवान द्वारा मंच पर आकर भरोसा दिलाया कि जिला प्रशासन अथवा राज्य प्रशासन धनात्मक नीति अपनाती है तो हम सभी कार्यपालक सहायकों के कंधे से कंधा मिलाकर साथ देने के लिए हर स्तर तक जाने के लिए तैयार हैं. इसके अलावा एआईएसएफ के राष्ट्रीय परिषद सदस्य सह बीएनएमयू प्रभारी हर्ष वर्धन सिंह राठौर ने कहा कि जिला प्रशासन एवं राज्य सरकार निष्ठुर हैं. उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन एवं राज्य सरकार के विरोध एवं कार्यपालक सहायकों के हक के लिए हम अपना नैतिक समर्थन देतें हैं.

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें