अपने जन्मदिन पर बिहार में शराब को बंद करने को लेकर संकल्प लें नीतीश कुमार : पप्पू यादव

Photo : www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : रविवार को नगर परिषद क्षेत्र के वार्ड नंबर 15 के पूर्व वार्ड पार्षद मुकेश कुमार मुन्ना यादव के पिता एवं वर्तमान वार्ड पार्षद सुप्रिया कुमारी के 80 वर्षीय ससुर दयानंद यादव के निधन पर उनके घर पर पहुंचकर जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह मधेपुरा लोकसभा के पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने सांत्वना व्यक्त किया. इस दौरान पप्पू यादव दयानंद यादव की पत्नी उषा देवी, पुत्र मुकेश कुमार मुन्ना यादव पुत्रवधू सुप्रिया कुमारी एवं अन्य परिजनों से मिलकर इस दुख की घड़ी में हिम्मत से काम लेने को कहा.Photo : www.therepublicantimes.co

मीडिया से बात करते हुए पप्पू यादव ने बढ़ती महंगाई एवं जहरीली शराब से लोगों की मौत पर केंद्र एवं राज्य सरकार पर जमकर बरसते हुए कहा कि लोग गलत कहते हैं कि पेट्रोल, डीजल, गैस समेत अन्य चीजों के दाम बढ़ गई, आज के मौजूदा हालात यह हो गई है कि लोगों की जान को छोड़कर सभी चीज महंगी हो गई है. मौजूदा सरकार के कार्यकाल में सिर्फ लोगों की जान ही सस्ती रह गई है. आज स्थिति ऐसी हो गई है कि हर पंचायत में जहरीली शराब की भट्ठी चल रही है. पप्पू यादव ने एक मार्च को नीतीश कुमार के जन्मदिन पर कहा कि मैं मुबारकबाद देना चाहूंगा 71 वर्षीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को कि उनकी चौथी पारी यादगार साबित हो.

advertisement

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार को अपने जन्मदिन पर शराब को बंद करने को लेकर संकल्प लेना चाहिये. बिहार में शराब कब बंद हो जायेगा, इसके लिए रिव्यू करके नीतीश कुमार एक टाइम लाइन दे. हर दिन दो, ढाई व तीन करोड़ की शराब पकड़ी जाती है. लगभग हर दिन चार हजार से लेकर आठ हजार तक ट्रक बिहार में प्रवेश करता है. आप बिहार की रेवेन्यू को नेपाल, बंगाल, झारखंड, उत्तरप्रदेश, पंजाब समेत अन्य राज्यों में भेजते हैं, लेकिन जहरीली शराब पर आप पकड़ नहीं बना पा रहे हैं. शराब माफिया बिहार एवं बिहार के लोगों के लिए नासूर बन गया है. जिस भी जिले में शराब पीने से लोगों की मौत होती है तो वहां के डीएम व एसपी पर कार्रवाई हो.

पप्पू यादव ने कहा कि जब अंतरराष्ट्रीय बाजार में पेट्रोल डीजल का दाम 102 रुपया प्रति बैरल हुआ करता था तब मनमोहन सिंह की सरकार 55 से 65 रुपया प्रति लीटर डीजल पेट्रोल मिला करता था. आज 54 रुपया प्रति बैरल अंतर्राष्ट्रीय बाजार में डीजल पेट्रोल मिल रहा है तो हमारे यहां एक सौ रुपया पार कर चुका है. गैस की सब्सिडी भी खत्म हो गई और गैस की कीमत भी बढ़ गई है. ट्रेन का भाड़ा डबल एवं ट्रिपल हो गया है. सरकार से जब ट्रेन का भाड़ा बढ़ाने को लेकर पूछा जाता है तो कहती है कि लोग कम सफर करे, इसलिए टिकट का दाम बढ़ा दिया गया है. सरकार ने सभी लोगों का जेब खाली करके कृषि पर हमला कर दिया. बिहार में किसानों की स्थिति सबसे बुरी हो गई है.

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें