मधेपुरा पुलिस ने एक साथ तीन लूट कांडों का किया खुलासा, हथियार और नगदी के साथ चार गिरफ्तार   

www.therepublicantimes.co
फ़ोटो : पुलिस गिरफ्त में गिरफ्तार अपराधी
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : जिले में हाल में हुये आलू व्यवसाई की दुकान से लूटकांड समेत पूर्व में हुए एक पेट्रोल पंप से लूट तथा पिता-पुत्र के साथ हुई लूट कांड में शामिल तीन अपराधियों एवं एक सहयोगी को दो देसी कट्टा, दो जिंदा कारतूस समेत लूट के 48 हजार रुपये नगद के साथ गिरफ्तार कर मामले का उद्भेदन कर लिया गया है. इस आशय की जानकारी बुधवार को पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान पुलिस अधीक्षक योगेंद्र कुमार ने दी. पुलिस अधीक्षक योगेंद्र कुमार ने बताया कि बीते 20 जनवरी को सदर थाना अंतर्गत रेलवे स्टेशन के समाने एक आलु व्यवसायी के यहां लूट की घटना अज्ञात अपराधियों द्वारा की गई थी. इस सदर्भ में सदर थाना में मामला दर्ज किया गया था. इस कांड के त्वरित उदभेदन के लिए सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अजय नारायण यादव के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया था. जिसमें पुनि प्रशांत कुमार, पुनि सुरेश प्रसाद सिंह, सअनि अरूण सिंह, कमांडो टीम के सदस्य तथा तकनिकी सेल के सदस्यो को शामिल किया गया था.

www.therepublicantimes.co
फ़ोटो : अपराधी के पास से बरामद हाथियार और नगदी

लूट कांड में शामिल अपराधी हथियार के साथ हुए गिरफ्तार : पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मामले के उद्भेदन को लेकर गठित टीम लगातार छापेमारी कर रही थी. मंगलवार को मधेपुरा पुलिस को इसमें बड़ी उपलब्धि हासिल हुई है. इस टीम के द्वारा कांड के उदभेदन की दिशा में अग्रतर कार्रवाई करते हुए, इस घटना में शामिल तीन अपराधी तथा एक उनके सहयोगी व संरक्षणकर्ता मधेपुरा जिले के घैलाढ़ थाना अंतर्गत अमर किशोर यादव के 19 वर्षीय पुत्र प्रिंस कुमार सहरसा जिले के सौरबाजार थाना अंतर्गत पतरघट ओपी के सुरमाहा किशनपुर वार्ड नंबर एक निवासी बृहमदेव यादव के 40 वर्षीय पुत्र झुनकी लाल यादव, सहरसा जिले के सौरबाजार थाना अंतर्गत पतरघट ओपी के पिपरा निवासी अभिनंदन यादव के 20 वर्षीय पुत्र कन्हैया कुमार एवं  मधेपुरा जिले के सदर थाना अंतर्गत तुनियाही निवासी धर्मपाल यादव के पुत्र रमेश यादव को दो देसी कट्टा, दो जिंदा कारतूस समेत लूट के 48 हजार रुपया तथा घटना में प्रयुक्त दो वाहनों एवं तीन मोबाइल फोन के साथ गिरफ्तार किया गया है. साथ ही घटना में शामिल एक और अपराधी की गिरफ्तारी केेेे लिए छापेमारी की जा रही है.

advertisement

20 जनवरी की रात अपराधियों ने दिया था घटना को अंजाम : मालूम हो कि सदर थाना क्षेत्र के संध्या होटल के पास आलू प्याज की बड़ी गद्दी में 20 जनवरी की रात 10 बजे संजय भगत के दुकान पर हथियार लहराते हुए डकैतों द्वारा 4.5 लाख राशि की डकैती कर ली गई थी. लूट की घटना को अंजाम देने के लिए बाइक से अपराधी राइफल एवं पिस्टल से लैस होकर संजय भगत की दुकान पर पहुंचे थे. सभी अपराधियों ने वहां पहुंचते ही राइफल तान दिया तथा पिस्टल दिखाकर दुकानदार को हटने का इशारा किया. दुकानदार के हटते ही गल्ला तोड़ कर सारे रुपए निकाल ली गई थी और सभी अपराधी हथियार लहराते हुए मिठाई की तरफ भाग गया था. पूरी घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी. डकैतों के पास दुकान में कब पैसा आता है और कहां रखा जाता है. इसकी पुख्ता जानकारी थी. पूरे ऑपरेशन को मात्र 50 सेकंड में अंजाम दिया गया था. सिर्फ उसी दोनों गल्ला को खोल कर राशि निकाली गई, जहां पैसा भरा हुआ था.

पूर्व में भी कई लूट की घटना को दे चुके हैं अंजाम : पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पुलिस अधीक्षक योगेंद्र कुमार ने बताया कि गिरफ्तार चारों अपराधियों से पूछताछ में यह भी पता चला है कि 13 नवंबर 2019 को सदर प्रखंड के गणेश स्थान स्थित पार्वती रामचंद्र पेट्रोल पंप पर भी लूट की घटना हुई थी. इस मामले को लेकर भी अनुसंधान किया जा रहा था. अनुसंधान के क्रम में पता चला कि पार्वती रामचंद्र पेट्रोल पंप पर इसी गिरोह के सदस्यों द्वारा लूट कांड की घटना को अंजाम दिया गया था. जिस संदर्भ में भी सदर थाना में मामला दर्ज किया गया था. मामले को लेकर अपराधियों ने अपनी संलिप्तता को स्वीकार किया है. इसके अलावा एक महीने पहले भेलवा में एक लूट की घटना हुई थी. एक पिता-पुत्र अपनी दुकान को बंद करके दुकान का सारा पैसा लेकर, साइकिल से घर जा रहा था. रास्ते में उन लोगों से लगभग 30 हजार रुपया लूट लिया था. इस लूट कांड में भी इन लोगों की संलिप्तता सामने आई है और इन लोगों ने भी अपना अपराध स्वीकार किया है.

अपराधियों के बैंक खाता की होगी जांच : पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अपराधियों से पूछताछ में पता चला है कि लूट की राशि में कुछ राशि को इन लोगों ने कई जगहों पर खर्च कर दिया है तथा कुछ राशि को इन लोगों ने अपने बैंक खाता पर जमा कर लिया है. जांच के क्रम में इनके बैंक खाता एवं प्रॉपर्टी की भी जानकारी ली जा रही है. यदि लूट की राशि को बैंक खाता में जमा करने की जानकारी मिलती है तो उन्हें भी जप्त करने के लिए कार्रवाई की जायेगी. उन्होंने बताया कि लूट के इस बड़े गैंग के गिरफ्तार होने से निश्चित रूप से जिले में अपराध नियंत्रण पर अंकुश लगेगा.

 प्रेस वार्ता के दौरान सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अजय नारायण यादव, सदर थानाध्यक्ष सुरेश प्रसाद सिंह, सअनि अरूण सिंह समेत अन्य लोग मौजूद थे.

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें