सुपौल : पार्किंग नहीं होने से सड़क पर खड़े हो रहे वाहन, आए दिन ट्रैफिक जाम की समस्या

Spread the news

रियाज खान
संवाददाता
छातापूर/सुपौल

छातापुर/सुपौल/बिहार : छातापुर मुख्यालय बाजार स्थित एसएच 91 पर बेतरकीब तरीके से दो पहिया सहित ट्रक, ऑटो, बस, ट्रैक्टर चालकों द्वारा वाहनों को खड़े किये जाने से नित्य दिन जाम की समस्या बनी रहती है। आवागमन कर रहे लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पर रहा है। भले ही सरकारी व्यवस्था के तहत कई अभियान चलाया जाता हो, लेकिन छातापुर की सड़कों पर सबकुछ अपने पुराने अंदाज में आज भी दिखता है। नियम के विरुद्ध छोटे-बड़े वाहनों के खुली परिचालन ने पुलिस व प्रशासन को खुली चुनौती दे रही है।

आपको बता दें कि लाॅकडाउन खत्म होने के बाद पहले दिन से ही सरकारी दफ्तरों में जरूरतमंद लोगों की भीड़ बढने लगी है, जिसमें नये राशन कार्ड, विभिन्न प्रमाण पत्र सहित सरकारी सुविधा व योजनाओं का लाभ प्राप्त करने वाले लोग जमा हो रहे हैं, लोगों ने बताया कि बढ़ते भीड़ के मद्देनजर उससे निपटने हेतू प्रशासनिक स्तर से व्यवस्था में सुधार की दरकार है।

लोगो का मानना है कि पहले प्रखंड मुख्यालय का गेट खुला रहता था लोग पहले प्रखंड कार्यालय परिसर में अपना अपना गाड़ी पार्क करते थे, लेकिन कोरोना संक्रमण के दौरान से ही प्रखंड मुख्यालय का मेंन गेट बंद रहता है जिससे चुन्नी मोड़ से लेकर बजरंग चौक तक बाईक एवं छोटे बड़े वाहन सड़क के दोनों किनारे यत्र तत्र खड़े कर देते है । जिससे लोगो को आवागमन करने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है ।

वहीं दूसरी तरफ भाकपा अंचल सचिव रघुनंदन पासवान द्वारा त्रिवेणीगंज अनुमंडल पदाधिकारी को आवेदन देकर बताया गया है कि प्रखंड के सभी 23 पंचायतो से नए राशनकार्ड के लिए फॉर्म भरने के साथ साथ आवासीय प्रमाण पत्र देना सरकार द्वारा अनिवार्य कर दिए जाने से आम लोगो एवं गरीबो का भारी पैमाने पर आर्थिक शोषण की जा रही है ।

 त्रिवेणीगंज अनुमंडल पदाधिकारी को दिए गए आवेदन में श्री पासवान ने यह भी बताया कि शपथ पत्र बनवाने का 250 से 350 रुपया, फॉर्म भरने का 50 से 100 रुपया तक ली जाती है, वहीं दूसरी ओर प्रखंड सह अंचल कार्यालय में राशनकार्ड का अवेदन जमा करने के लिए भारी भीड़ जमा हो रही है, वहीं कार्यालय का मुख्य गेट बंद रहने से आम लोगो को कार्यालय में प्रवेश करने में भारी कठिनाइया हो रही है । उन्होंने बताया कि अधिकांश महिलाएं अपने गोद मे नन्हे मुन्हे बच्चे को लेकर आरटीपीएस काउंटर पर पूरे पूरे दिन भीड़ में खड़ी रहती है, एक दिन में फॉर्म जमा नहीं होने पर पुनः दूसरे दिन भी कतार में खड़े रहने से शारारिक परेशानी उठा रही है, और इस माहमारी में कोरोना संक्रमण का भी शिकार हो सकती है ।

श्री पासवान ने अनुमंडल पदाधिकारी से मांग किया है कि प्रत्येक पंचायत स्तर पर शिविर के माध्यम से राशनकार्ड का आवेदन बिना शपथ पत्र के लिए जाने की मांग किया है । वही उन्होंने जिला पदाधिकारी से भी मांग किया है कि प्रखंड के सभी पंचायतो में शिविर लगवाए जाने का आदेश अंचल अधिकारी एवं प्रखंड विकास पदाधिकारी को दिया जाय, ताकि आम लोग आर्थिक शोषण एवं शारारिक परेशानियों से बच सके ।


Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें