मधेपुरा : घंटों चील-चिलाती धूप में खड़े रहे अस्पताल के सफाई कर्मि एवं सुरक्षा गार्ड, पूरी ना हो सकी आस

728x90
Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत के जन नायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज अब अस्पताल आगमन को लेकर कई लोगों ने काफी आशा लगा रखी थी, लेकिन प्रधान सचिव के नहीं मिलने के वजह से सभी परेशान हो गए है।  इसी बीच बिटीएससी ग्रेड ए कर्मियों ने बताया कि बिटीएससी ग्रेड ए की वेकेंसी बिहार सरकार के द्वारा निकाली गई थी, जिसमे आयु एक अगस्त 2019 तक 21 वर्ष रखी गई थी। इस तिथि से कुछ लोगों का आयु मात्र कुछ दिन ही बचा हुआ है, जिस वजह से काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, और बीएनआरसी का सारा दस्तावेज रहते हुए फॉर्म नहीं भर पाई,  जिसके कारण सभी के परिवार पर भरण पोषण की समस्या उत्पन्न हो गई।

मौके पर रितु कुमारी, ज्योति कुमारी, रितिका कुमारी, विनीता कुमारी, सपना कुमारी, तमन्ना कुमारी, सचिन कुमार आदि मौजूद थी।

घंटों चील-चिलाती धूप में खड़े रहे सफाई कर्मि एवं सुरक्षा गार्ड : जन नायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज अब अस्पताल के सफाई कर्मियों एवं सुरक्षा गार्डों ने भी निराशा जताते हुए कहा कि उनलोगों के साथ भी सौतेला व्यवहार किया जा रहा है।  वेतन भी काफी कम दिया जा रहा है, काम तो पूरे महीने लिया जाता है लेकिन भुगतान मात्र 26 दिन का ही किया जा रहा है। सात महीने से ज्यादा बीत जाने के बाद भी किसी को पीएफ नम्बर नहीं दिया गया है, जबकि हर महीने दो हजार रुपये काटे जा रहे है. जिस वजह से घर चलाने में काफी परेशानी हो रही है।

 मालूम हो कि स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत से मिलने की आस में जन नायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज अब अस्पताल के सफाई कर्मि एवं सुरक्षा गार्ड घंटों चील-चिलाती धूप में खड़े रहे, लेकिन उनकी आस पूरी ना हो सकी। प्रधान सचिव का काफिला उनके आगे से निकल गया।

साक्षात्कार में शामिल करने का किया अनुरोध : स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत के आने पर लैब टेक्नीशियन भी अपना दुखड़ा सुनाने को तैयार थे, लेकिन उनकी बात नहीं सुनी गई। इस बाबत बताया गया कि बिहार के अलावा अन्य राज्यों से निर्गत वैद्य डिग्री डिप्लोमा धारी कार्यरत अनुबंधित लैब टेक्नीशियन को बिहार कर्मचारी चयन आयोग पटना के द्वारा नियमितीकरण हेतु साक्षात्कार में शामिल किया जाय। यह भी बताया कि हम लोग रिक्त एवं स्वीकृत पद बिहार संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा उत्तरण का नियमितीकरण की सारी प्रक्रियाओं को अपनाते हुए बिहार के सभी सरकारी चिकित्सा महाविद्यालयों एवं स्वास्थ्य केंद्रों में विगत 10 वर्षों से लैब टेक्नीशियन के पदों पर संविदा के आधार पर कार्यरत हैं। जबकि नियमितीकरण की प्रक्रिया में साक्षात्कार के लिए बिहार कर्मचारी चयन आयोग पटना के द्वारा बिहार के अलावे अन्य राज्यों से निर्गत वैद्य डिग्री डिप्लोमा धारी अभ्यर्थियों को अयोग घोषित किया गया है।


Spread the news