मधेपुरा : आसमानी बिजली की जद में आने घर समेत एक 50 वर्षीय महिला जलकर राख

728x90
Spread the news

आरिफ आलम
वरीय संवाददाता,
चौसा, मधेपुरा

चौसा/मधेपुरा/बिहार : चौसा प्रखंड के चौसा पश्चिमी पंचायत के जमुनी बासा में आज दिन के करीब ग्यारह बजे आसमानी बिजली की जद में आने जहां एक पचास वर्षीय महिला की बेहद ही दर्दनाक मौत हो गई वहीं इस घटना एक पैतीस वर्षीय महिला भी घायल हो गई ।

बताया जाता है कि चौसा पश्चिमी पंचायत के वार्ड नंबर सात निवासी अंबिका पासवान, अपनी पत्नी के साथ चौसा पश्चिम स्थित जमुनी बासा पर अपना जनबासा बनाकर मवेशी का पालन पोषण कर करते थे।  आज दिन के करीब ग्यारह बजे अपने घर से अंबिका पासवान की पत्नी अरुहुला देवी मवेशी का चारा लेकर जनबासा में आई ही थी कि उसी दौरान उनके बासा पर आसमानी बिजली गिरी और जनबासा समेत अंबिका पासवान पत्नी अरुहुला देवी जलकर राख हो गई।  

देखें वीडियो :

 वहीं कुछ दूर पर खाना बना रही योगेंद्र मंडल की पत्नी मधुमाला देवी भी आसमानी बिजली की जद में आने से घायल हो गई, जिसको परिजनों की मदद से चौसा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, जहां उपचार के बाद डॉक्टरों ने उसे खतरे से बाहर बताया।

इधर घटना की सूचना मिलते ही मौके वारदात पर आसपास के लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। वहीं इस दर्दनाक घटना से मृतका के परिवार में मातम का माहौल कायम हो गया। अंचल अधिकारी आशुतोष कुमार ने बताया कि आपदा फण्ड से पीड़ित परिवार को चार लाख रुपये मिलेगा।

मालूम हो कि मौसम विभाग ने बारिश के साथ बज्रपात को लेकर अगले 72 घंटे का अलर्ट जाहिर किया है।  “द रिपब्लिकन टाइम्स” अपने पाठकों से अपील करता है कि मौसम विभाग द्वारा दी गई चेतावनी को गंभीरता से लें, घर से बाहर ना  निकले। अगर ऐसे संभव नहीं है तो तुरंत पानी, बिजली के तारों, खंभों, हरे पेड़ों और मोबाइल टॉवर आदि से दूर हट जाएं। आसमान के नीचे हैं तो अपने हाथों को कानों पर रख लें, ताकि बिजली की तेज आवाज़ से कान के पर्दे न फट जाएं। अपनी दोनों एड़ियों को जोड़कर जमीन पर पर उकड़ू बैठ जाएं। अगर इस दौरान आप एक से ज्यादा लोग हैं तो एक दूसरे का हाथ पकड़कर बिल्कुल न रहें, बल्कि एक दूसरे से दूरी बनाकर रखें। छतरी या सरिया जैसी कोई चीज हैं तो अपने से दूर रखें, ऐसी चीजों पर बिजली गिरने की आशंका सबसे ज्यादा होती है। पुआल आदि के ढेर से दूर रहें, उसमें आग लग सकती है

आसमानी बिजली की प्रक्रिया कुछ सेंकेड के लिए होती है, लेकिन इसमें इतने ज्यादा बोल्ट का करंट होता है कि आदमी की जान लेने के लिए काफी होता है। क्योंकि इसमें बिजली वाले गुण होते हैं तो ये वहां ज्यादा असर करती है, जहां करेंट का प्रवाह होना संभव होता है। आसमान से गिरी बिजली किसी न किसी माध्यम से जमीन में जाती है, और उस माध्यम में जो जीवित चीजें आती हैं, उनको नुकसान पहुंचता है।


Spread the news