मधेपुरा : सुशांत सिंह की संदिग्ध मौत पर नवाचार रंगमंडल ने शहर में निकाला कैंडल मार्च, कहा ‘खत्म हो नेपोटिज्म

728x90
Spread the news

अमन कुमार
संवाददाता, सदर
मधेपुरा

मधेपुरा/बिहार : शुक्रवार की देर शाम बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की संदिग्ध मौत पर नवाचार रंगमंडल के रंगकर्मियों ने शहर में कैंडल मार्च निकाला। कैंडल मार्च के दौरान रंगकर्मियों ने सुशांत सिंह राजपूत को न्याय चाहिये का नारा लगाया। इस दौरान मार्च में शामिल रंगकर्मियों ने सुशांत सिंह राजपूत को याद करते हुये, उन्हें श्रद्धांजलि दी एवं सरकार से सीबीआई जांच की मांग की।  

सभी रंगकर्मी जिला मुख्यालय स्थित कॉलेज चौक से कैंडल मार्च निकालकर मुख्य बाजार होते हुये कर्पूरी चौक पहुंचे। जहां यह कैंडल मार्च नुक्कड़ सभा में तब्दील हो गई।  मौके पर उपस्थित नवाचार रंगमंडल के अध्यक्ष अमल सिंह ने कहा कि 35 वर्ष से कम आयु में आत्महत्या कर मौत को गले लगा बैठे उभरते चर्चित फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के असमय जाने पर हर कोई सदमें में है।  सुशांत का यूं मौत को गले लगा लेना दिल को झकझोरने वाला है, कम समय में ही उन्होंने फिल्म जगत में अपनी जिंदादिल इंसान वाली छवि से लोगों को खासा आकर्षित किया, बिहार की उपज रहे सुशांत का कोसी से भी संबंध रहा। उन्होंने कहा कि कहा कि सुशांत का इस तरह मौत को गले लगाना, दिल को विश्वाश नहीं होता, इस मामले की सीबीआई जांच कराने की जरूरत है 

कैंडल मार्च का वीडियो :

वही नवाचार रंगमंडल के सचिव मो शहंशाह ने कहा कि सुशांत विपुल प्रतिभा के धनी थे, सीरियल से अपने कैरियर की शुरुआत करने वाले सुशांत बढ़ते समय के साथ नई इबारत लिखते गये एवं जल्द ही फिल्म जगत के चर्चित चेहरे बन कर उभरे। ऐसे मेहनती एवं अपने परिश्रम पर विश्वास करने वाले सुशांत का स्वयं मौत को गले लगाना विश्वास नहीं होता है।

 उन्होंने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत को न्याय मिलना चाहिये। बिहारी लोगों को सभी जगहों पर प्रताड़ित किया जा रहा है, जो अब बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। सुशांत सिंह राजपूत की हत्या की गई है या उन्होंने स्वयं आत्महत्या की है, इसकी जांच होनी चाहिये। उन्होंने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत को उनके कैरियर के शुरुआती काल से ही प्रताड़ित किया गया, परिवाद वाद के कारण एक बिहारी को मुंबई में जगह नहीं मिला, उन्हें तरह-तरह की मानसिक यातनायें दी गई।  बॉलीवुड में परिवारवाद के खिलाफ नारेबाजी करते हुये रंगकर्मियों ने उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की।

मौके पर साहेब राज, आतिफ, कार्तिक, विक्की, सत्यम, राज, सुमन, राजा, चेतन, जेम्स, चिराग, सुशांत, वासु, बादल, बाबुल, निशांत समेत अन्य रंगकर्मी उपस्थित थे।


Spread the news