मधेपुरा : देश के अन्य प्रदेशों में फंसे मजदूरों को लाने की कवायद तेज

Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : देश के अन्य प्रदेशों में फंसे बिहार के मजदूरों को उसके गृह जिला भेजने का काम केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार के द्वारा किया जा रहा है। दूसरे प्रदेशों में फंसे मजदूरों एवं छात्र-छात्राओं को घर लाने के लिए रेलवे ने संख्या के हिसाब से ट्रेन उपलब्ध कराई है। गुजरात के दक्ष एवं चंडीगढ़ में फंसे मधेपुरा एवं सुपौल जिले के मजदूरों को मधेपुरा श्रमिक स्पेशल ट्रेन लेकर आ रही है, जिसमें गुजरात के दक्ष से दो ट्रेन खुलेगी, वही चंडीगढ़ से एक चैन खुलेगी। गुजरात के दक्ष से 21 मई को सुबह चार बजे ट्रेन खुलेगी, जिसमें मधेपुरा-सुपौल के 16 सौ मजदूर रहेंगे, जो 22 मई को रात के 12 बजे मधेपुरा स्टेशन पहुंचेगी।

वहीं 23 मई को चंडीगढ़ से रात के 12 बजे ट्रेन खुलेगी, जिसमें मधेपुरा-सुपौल के 12 सौ मजदूर रहेंगे, जो 24 मई को रात के 12 बजे दौराम मधेपुरा स्टेशन पर पहुंचेगी। साथ ही गुजरात के दक्ष से 24 मई को रात 12 बजे ट्रेन खुलेगी, जिसमें मधेपुरा-सुपौल के 16 सौ मजदूर रहेंगे, जो 26 मई को रात के 12 बजे मधेपुरा स्टेशन पहुंचेगी। इन तीन दिनों में तीन ट्रेन से गुजरात के दक्ष एवं चंडीगढ़ से 44 सौ मजदूर मधेपुरा एवं सुपौल के लिये मधेपुरा पहुंचेंगे।

मजदूरों को उतारने के लिए स्टेशन का प्लेटफॉर्म नंबर एक चिन्हित :

गुजरात के दक्ष एवं चंडीगढ़ से तीन ट्रेन के आगमन की सूचना मिलते ही जिला प्रशासन ने कवायद तेज कर दी है। ट्रेन से आने वाले मजदूरों को किसी तरह की परेशानी ना हो, इसका खासा ख्याल रखा जा रहा है। मजदूरों को मधेपुरा स्टेशन पहुंचने के तुरंत बाद उनकी स्क्रीनिग, शारीरिक दूरी बनाए रखने सहित सभी तरह की जरूरी व्यवस्था करने में जुट गए हैं। मजदूरों को उतारने के लिए जिला प्रशासन द्वारा दौराम मधेपुरा स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर एक को चिन्हित किया गया है। इसीलिए सारी व्यवस्था इसी प्लेटफार्म पर की जा रही है। ट्रेन के आने से पूर्व ही निकासी द्वार को छोड़कर स्टेशन के अन्य हिस्सों को पूरी तरह सील कर दिया जायेगा। निकासी द्वार पर भी बेरीकेटिंग की सुविधा की जाएगी। निकासी द्वार से लेकर बस तक रास्ते के दोनों साइड को बंद कर दिया जाएगा। मुख्य द्वार से बसों से यात्रियों को ले जाने की व्यवस्था की गई है।

 इस बाबत मंगलवार को जिला पदाधिकारी नवदीप शुक्ला, पुलिस अधीक्षक संजय कुमार, एडीएम शिव कुमार शैव, सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी वसी अहमद, सदर अनुमंडल पदाधिकारी वृंदा लाल, एमवीआई राकेश कुमार समेत अन्य अधिकारियों ने स्टेशन परिसर का निरीक्षण किया एवं रेलवे के अधिकारियों से भी तैयारी की समीक्षा की गयी।

स्टेशन पर ही की जायेगी थर्मल स्क्रीनिग :

जिला पदाधिकारी नवदीप शुक्ला ने पुलिस अधीक्षक संजय कुमार के साथ स्टेशन का जायजा लिया तथा प्लेटफार्म पर एक हिस्सा में पूरी तरह से बैरिकेडिग करने को कहा। डीएम ने कहा कि प्लेटफार्म का एक हिस्सा में रस्सी व कपड़ा से बैरेकेडिग कर उसे पूरी तरह सील कर दिया जाए। जिससे कोई उस परिधि से बाहर न जा सकें। वहीं स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर ही ट्रेन लगेगी। जिससे उन्हें स्टेशन पर ही उनकी थर्मल स्क्रीनिग की जायेगी। जिससे उसकी जांच भी पूरी हो जाए। साथ ही स्टेशन पर ही किस प्रखंड व पंचायत का नाम सहित उसकी सूची बनायी जाएगी। जिससे उन्हें संबंधित प्रखंड व पंचायत स्थित क्वारंटाइन शिविर में बस से भेजा जा सकें। मजदूरों को भेजने के लिए लगभग 40 बसों को इस कार्य में लगाया जाएगा। जिससे उन्हें जाने में कोई परेशानी न हो। मजदूरों को जिले के विभिन्न शिविरों में भेजे जाने के लिए जिला प्रशासन ने बस का पूरा इंतजाम कर लिया है। डीएम ने कहा कि बस की कोई कमी नहीं है।


Spread the news
advertise