मधेपुरा : बैंकों में खतरे की भीड़, नहीं हो रहा शारीरिक दूरी का पालन

Spread the news

कौनैन बशीर
वरीय उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : लॉकडाउन का पालन कराने में पुलिस पिछले दो दिनों से शिथिल पड़ गई है। इस कारण सुबह से लेकर शाम तक बाजारों में भीड़ लगी रहती है। बुधवार को भी दोपहर में जिले के उदाकिशुनगंज प्रखण्ड के मुख्य बाजार के विभिन्न दुकानों के पास भीड़ लगी रही है।

मालूम हो कि लॉकडाउन की अवधि में जरूरी सामग्री की खरीद के लिए प्रतिदिन दी जा रही ढील का लोग गलत फायदा उठा रहे हैं। 70 प्रतिशत दुकानें बंद रहने के बावजूद भी आम दिनों जैसी भीड़ दिख रही है। सब्जी, बैंक, राशन दुकान कहीं भी लॉकडाउन के नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है। अधिकारियों की अपील के बाद भी न तो शरीरिक दूरी का पालन कर रहे हैं न ही मास्क का उपयोग। ऐसे में कोरोना का खतरा बढ़ सकता है।

वैसे, अभी उदाकिशुनगंज प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत कोरोना संक्रमण से अछूता रहा है। लेकिन जिले के अन्य हिस्सों में पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद सावधानी बरतना बेहद जरूरी है। स्थानीय निवासी मुन्ना राय ने बताया कि लोग अगर इस ओर सजग नहीं हुए तो परिणाम गंभीर हो सकते हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यालय स्थित बैंकों में भी शारीरिक दूरी का पालन नहीं किया जा रहा है। कोरोना संक्रमण में भीड़ देखकर ऐसा लग रहा है कि किसी खतरे की भीड़ है।

भारतीय स्टेट बैंक में बेकाबू हुई भीड़ : मुख्यालय स्थित भारतीय स्टेट बैंक के बाहर तीसरे लॉकडाउन की धज्जियां उड़ रही है। बुधवार को इसका नजारा देखा गया। पैसा निकालने आए लोग एक दूसरे से दूरी बनाए बगैर एक दूसरे के साथ मस्त रहे।

बताया जाता है कि बैंकों में जनधन खातों में आई राशि की निकासी के लिए जहां लोगों की भीड़ उमड़ रही है,वहीं देर रात तक सीएसपी सेंटरों को खोलकर रखा जा रहा है। बाजारों में भीड़ बढ़ती जा रही है। प्रखंड क्षेत्र के ग्रामीणों क्षेत्र में लगने वाला साप्ताहिक हाट में भी शारीरिक दूरी का पालन नहीं हो रहा है। इतना ही नहीं अब बाजारों में भी लॉकडाउन का प्रभाव कम हो रहा है। मुर्गा, मछली, नाश्ता के साथ बर्तन सहित सभी दुकानें खुल रही है।


Spread the news
advertise