मधेपुरा सदर थाना की पुलिस ने वर्दी को किया दागदार : इलाज कराने जा रही एक बुजुर्ग महिला बेरहमी से पीटा, मौत  

728x90
Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : शुक्रवार को जिला मुख्यालय के नवनिर्मित बस स्टैंड के समीप डॉक्टर के पास जा रही एक महिला की पुलिस द्वारा डंडे से सर पर वार करने से मौत हो गई ।  महिला सोनवर्षा प्रखंड के विष्णुपुर वार्ड नंबर चार की स्थानीय निवासी है ।

 

वीडियो :

 घटना की जानकारी देते हुए उर्मिला देवी (मृतका) के नाती कल्याण कुमार ने बताया कि वह अपनी नानी को लेकर मोटरसाइकिल से आंख दिखावाने संजय कुमार के पास ले जा रहा था । इसी दौरान नये बस स्टैंड के समीप एक पुलिस वाले ने उन्हें रोका कर पूछा कहां जा रहे हो, धीमी गति में गाड़ी को बढ़ाते हुए कल्याण ने बताया कि वह अपनी नानी को आंख दिखाने के लिए डॉक्टर के पास ले जा रहा है । इतने में पुलिसकर्मी ने महिला के सिर पर डंडा से प्रहार कर दिया. जिससे महिला बुरी तरह गंभीर हो गई ।  जिसके बाद महिला को प्राथमिक उपचार के लिए सदर अस्पताल ले जाया गया ।  सिर में गंभीर चोट होने के कारण उसे डीएमसीएच रेफर किया गया. जहां पहुंचते हैं महिला को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया ।

पुलिस ने बताया मामले को निराधार, कहा ट्रैक्टर से हुई है दुर्घटना : दूसरी ओर पुलिस लगातार इन सारी बातों को निराधार बताते हुए खारिज कर दिया. पुलिस का कहना है कि गाड़ी अधिक गति से आ रही थी ।  जिसके कारण ट्रैक्टर में ठोकर लगने से महिला गिरकर गंभीर रूप से जख्मी हो गई ।  मौके पर मौजूद स्थानीय लोगों ने भी इस बात की पुष्टि की कि पुलिस द्वारा हमला करने से उस महिला की हालत गंभीर हुई है । बड़ा सवाल यह भी है कि अगर मोटरसाइकिल दुर्घटनाग्रस्त हुई तो चालक को एक खरोच भी नहीं है । ना ही गाड़ी में किसी प्रकार का नुकसान की बात सामने आ रही है ।  गाड़ी के गिरने की वजह से उसका साइड इंडिकेटर जरूर टूट गया है । लेकिन आगे या पीछे से गाड़ी क्षतिग्रस्त नहीं हुई है ।

पुलिस प्रशासन द्वारा बुजुर्ग लोगों के साथ की जाती है बदसलूकी : स्थानीय लोगों ने कहा कि यह मामला सिर्फ एक दिन का नहीं है, बल्कि रोजाना ऐसे मामले होते रहते हैं । जब पुलिस प्रशासन द्वारा लोगों पर बिना कारण पूछे डंडे बरसाए जाते हैं । बस बात इतनी सी है कि रोजाना ना तो लोग जख्मी हुए और ना ही किसी की मौत हुई । लोगों ने कहा कि रोजाना यहां पर पुलिस प्रशासन द्वारा बुजुर्ग लोगों के साथ बदसलूकी की जाती है ।  जिस उम्र में लोग ठीक से चल नहीं पाते हैं, वैसे उम्र वाले लोगों के साथ उठक बैठक कराई जाती है । लोगों ने कहा कि जितना यहां के लोग कोरोना वायरस से परेशान नहीं है, उससे कहीं ज्यादा लोगों को पुलिस प्रशासन का खौफ सताता रहता है. पुलिस प्रशासन का यह भी दावा है कि खुद को बचाने के लिए ट्रैक्टर चालक पुलिस प्रशासन पर आरोप लगवा रहा है । हालांकि ट्रैक्टर चालक का अब तक कुछ पता नहीं चल पाया है ।  इस बाबत मौके पर मौजूद अधिकारियों ने बताया कि ठोकर मारकर ट्रैक्टर भाग गई.  मामले को लेकर सदर थाना में कोई आवेदन दर्ज नहीं करवाया गया है ।

इस बाबत सदर थानाध्यक्ष सुरेश प्रसाद सिंह ने बताया कि महिला की ट्रैक्टर से दुर्घटना हुई है, ट्रैक्टर वाला स्वयं बचने के लिए पुलिसकर्मी पर आरोप लगा रहे हैं । ट्रैक्टर चालक खुद को बचाने के लिए पुलिस पर आरोप लगवा रहे हैं ।


Spread the news