बिहार : करोना महामारी के बीच वक्रांगी से निकाल सकेंगे जनधन खातों में आने वाली कोरोना सहायता के लिए सरकारी सब्सिडी की पेमेंट और पेन्शन, टेलीफोन पर डॉक्टर बताएंगे दवा

Spread the news

प्रेस विज्ञप्ति :

पटना/बिहार : कोरोनावायरस के चलते पुरे राज्य में लॉक डाउन और कर्फ्यू के कारण लोगों को मेडिकल और रोजमर्रा से जुड़ी जरूरतों को लेकर काफी परेशान होना पड़ रहा है ऐसे दौर में वक्रांगी संस्था द्वारा लोगों को घर बैठे खून की जांच और ऑनलाइन डॉक्टरी सलाह आदि की सुविधा उपलब्ध करा रही है। इसके साथ ही लोग वक्रांगी के बैंकिंग पॉइंट में आधार से जमा निकासी कर सकते हैं और एटीएम से जनधन खातों में आने वाली कोरोना सहायता राशि भी निकाल सकते हैं। साथ ही ऑनलाइन किराना भी मंगवा सकते हैं।

 देखें वीडियो :

उक्त बाते वक्रांगी के बिहार तथा झारखण्ड के राज्य प्रमुख सुधारंजन कुमार ने कही। उन्होंने ने कहा की पूरे बिहार के 38  जिला तथा झारखंड के 28 जिले  में 700  केंद्र और पूरे भारत में वक्रांगी नेक्सटजेन के 10000 से भी अधिक केंद्र हैं। अकेले पटना जैसे ग्रामीण क्षेत्रों में तकरीबन 25 केंद्र हैं । राज्य के कई वक्रांगी केंद्र तो तने दूरस्थ क्षेत्रों में स्थित है कि वहां तक परिवहन के साधन भी नहीं है, बावजूद इसके वहां इन सभी गतिविधियों का सुचारू रूप से संचालन हो रहा है। वक्रांगी के लगभग 80% केंद्र ग्रामीण क्षेत्रों में ही है जहां की जनता इंटरनेट, ऑनलाइन और बैंकिंग जैसी सुभीधा से ज्यादा करीब नहीं है। वक्रांगी द्वारा लॉक डाउन और कर्फ्यू जैसी स्थिति में एटीएम सुविधा, बैंकिंग की सुविधा, ऑनलाइन दवा, डॉक्टर द्वारा टेलीफोन पर परामर्श, घर बैठे ब्लड की जांच, ऑनलाइन किराना सामान मँगवाने की सुविधा दी जा रही है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कोरोना महामारी के चलते सरकार द्वारा जनधन खातों में दी जाने वाली कोरोना सहायता राशि वक्रांगी के बैंकिंग पॉइंट से लोग निकाल सकते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों के लिए ये सुविधा एक वरदान साबित होगी, क्यूँकि भारत में आज भी ऐसे कई सारे जगह हैं जहां कोई बैंक या एटीएम की सुविधा नहीं है, वक्रांगी ऐसे जगहों में एक गेम चेंजेर वाली भूमिका निभा रहा है और भारत के सभी लोगों के घरों के बिल्कुल पास में एक बैंक की ज़िम्मेदारी निभा रहा है। इसके अलावा हर केंद्र में सोशल डिस्टन्सिंग का पालन और हैंड सेनीटाइज़र का उपयोग कराया जा रहा है।

वक्रांगी के वरिष्ठ अधिकारी गोपाल बिहानी ने बताया कि कोरोना वायरस के चलते पूरे भारत में लोग घरों में कैद हैं, ऐसे में वक्रांगी की सुविधाएं उनके लिए काफी सहायक साबित हो रही है । वक्रांगी के फ्रेंचाइजी लोगों को हाइजीन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए इन सुविधाओं को मुहैया करा रहे हैं । ग्रामीण क्षेत्रों में वक्रांगी के ज्यादातर केंद्र हैं ऐसे में वहां के लोग भी इन सुविधाओं से अपने मुश्किल भरे दिनों को आसान बना रहे हैं ।


Spread the news
advertise