मधेपुरा : लॉक डाउन पर भारी पड़ रही पेट की भूख, चण्डीगढ, नोएडा और दिल्ली से घर आने का गुहार लगा रहे मजदूर

728x90
Spread the news

वसीम अख्तर
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : बिना किसी तैयारी के लॉक डाउन के कारण अचानक समाज का एक तबका, भुखमरी के मुहाने पर आकर खड़ा हो गया, यह तबका है दिहाड़ी मजदूरों का, जो रोजी-रोटी की तलाश में अन्य प्रदेशो में मजदूरी कर जिन्दगी गुजर बसर कर रहे थे। लेकिन लाक डाउन के बीच अन्य राज्यों में फंसे मजदूर बेबस और परेशान है, वह किसी भी कीमत अपने वतन को लौटना चाहते है।

पिछले दो दिनों से कई फान काल कर मदद की गुहार लगा रहे है। नई दिल्ली के अशोक नगर, हनुमान मंदिर गली न 13 एवं नोएडा के सेक्टर 80 नगलाचरण दास रोड नोएडा मस्जिद वाली गली में फंसे मधेपुरा जिले के पुरैनी प्रखंड के करीब 80 मजदूर सहित चण्डीगढ में आटो चलाकर और दिहाड़ी करने वाले मजदूर ओमप्रकाश शर्मा, और पुरैनी बांसगोपाल पंचायत के मो 0 इरशाद, ये सभी काल कर मदद की गुहार लगा रहे है । इन लोगों की बेबसी का यह आलम है कि अब इनके पास  ना तो खाने को कुछ नही है और ना साथ में पैसे। ये बताते है की सरकार द्वारा जारी हेल्पलाइन न 0 भी नही लग रहा। ये किसी तरह घर आना चाहते है, इनकी माने तो इन लोगों ने मधेपुरा जिलाधिकारी को भी इनकी सूचना दी है और ये विडियो बनाकर भी अपनी लाचारी को भी जाहिर किया है, लेकिन अबतक इनका कोई देखनहार नही हो पाया है।

इन मजदूर का कहना है कि वह सभी जांच करवाकर ही अपने गांव और मोहल्ला में जाऐगे, उन्हे भी अपने परिवार और समाज का फिक्र है । उनका यह कहना है कि हम ऐसा कोई वजह नही बनना चाहते, जिससे समाज को क्षति हो, लेकिन यहां परदेश मे हमलोग कुछ दिन और रह गये तो शायद भूखे मर जाऐगे ।

बहरहाल दिल्ली और अन्य राज्यों से हजारों की संख्यान मजदूर पलायन कर रहे हैं, चुके हैं, अपने घर की ओर जा रहे, सबको अपना परिवार प्यारा होता, कोई नहीं चाहता कि मैं अपने परिवार और समाज के लिए नुकसानदायक साबित हो जाऊँ, इसके सभी एहतियात बरतने को भी तैयार है, साथ अनजाने खौफ से भी सभी दहशत में भी है।


Spread the news