नालंदा में भी एनपीआर, एनआरसी और सीएए के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन जारी

728x90
Spread the news

मुर्शीद आलम
नालंदा ब्यूरो
बिहार

नालंदा/बिहार : जिले में काले कानून के खिलाफ दर्जनों जगह अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी है। बिहारशरीफ शहर के शेखाना मोहल्ला और काशी तकिया भैसासुर मोहल्ला में आठवें दिन तथा कटरा पर, कोहना सराय (कांटा पर) और सोह सराय इत्यादि जगहों पर तीसरे दिन भी अनिश्चितकालीन धरना जारी है।

पूरे शहर में ही काले कानून के खिलाफ जनता की गोलबंदी तेज हो गई है और सभी धर्म के लोग इसमें शामिल हैं। केंद्र सरकार के द्वारा जबसे पूरे भारत में एनआरसी लागू किया गया है इसके लागू होते ही इस एनआरसी के विरोध की गूंज पूरे भारतवर्ष में दिखने ल गा है। इसका असर अब दिल्ली के शाहीनबाग, कोलकाता के पार्क सर्कस और पटना के सब्जी बाग के तर्ज पर नालंदा जिले में भी दिखना शुरू हो गया है। यही कारण है कि अब एनआरसी, एनपीआर और सीएए जैसे काले कानून को के विरोध में बिहारशरीफ शहर के कई जगहों में इलाकों में अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन किया जा रहा है। आलम यह है कि अब इसकी गूंज पुरे जिले में दिखने लगा है ।

विज्ञापन

आज इसी कड़ी में शहर के पॉश इलाके कागजी मोहल्ले के पास अंजुमन मुफीदुल इस्लाम के बैनर तले अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन किया जा रहा है। इस धरना प्रदर्शन की अगुवाई करते हुए पूर्व विधायक पप्पू खान ने कहा कि केंद्र सरकार के द्वारा जो जबरन एनआरसी जैसे काला कानून को लागू कर गंगा जमुनी तहजीब को समाप्त करने में लग गई है। भारत सरकार जब तक एनआरसी एनपीआर और सीएए जैसे मुद्दों को वापस नहीं लेती है तब तक तरह से चरणबद्ध आंदोलन जारी रहेगा। यह मामला किसी धर्म का किसी जाति से नहीं है यह मामला सारे हिंदु, मुस्लिम, सिख, ईसाई सारे भारतीयों का मामला है। इसीलिए हम लोग इस काला कानून का चरणबद्ध तरीके से इसका विरोध करते रहेंगे।

विज्ञापन

लोगों ने कहा कि मोदी हुकूमत देश में मनुवादी सरकार लाना चाहती है जो देश की जनता इसे किसी कीमत पर स्वीकार नहीं करेगी। इस काले कानून की वजह कर पूरे देश में अफरा तफरी की स्थिति पैदा हो गई है। केंद्रीय सरकार इस काले कानून को तुरंत वापस ले वरना काले कानून वापसी तक सरकार के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगी।


Spread the news