मधेपुरा : मुख्यमंत्री के विकास का दावा छलावा, नीति आयोग ने खोली पोल-राठौर

Spread the news

गणतंत्र दिवस पर बिहार की झांकी प्रस्तुति का रिजेक्ट होना दुखद- राठौर

मुख्यमंत्री को दिखावा की जगह जमीन पर काम करने की जरूरत-शंभू क्रांति

मो० नियाज अहमद
ब्यूरो, मधेपुरा

मधेपुरा/बिहार : बी एन मण्डल विश्वविद्यालय मुख्य द्वार के सामने AISF और ए आई वाई एफ के संयुक्त तत्वावधान में संगठन के कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला दहन करते हुए उनके विरोध में जमकर नारेबाजी की।

पुतला दहन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ए आई वाई एफ के राज्य उपाध्यक्ष शंभू क्रांति ने कहा कि नीतीश कुमार घूम-घूम कर विकास के दावे कर रहे हैं, जबकि धरातल पर ऐसा बिल्कुल नहीं है। शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार में सरकार जमीनी स्तर पर पूरी तरह असफल साबित हुई है। उन्होंने कहा कि काम करने वाले को बोलने की जरूरत नहीं होती बल्कि उसका काम बोलता है।

विज्ञापन

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए छात्र संगठन AISF के राष्ट्रीय परिषद् सदस्य सह विश्वविद्यालय प्रभारी हर्ष वर्धन सिंह राठौर ने कहा कि मुख्यमंत्री के विकास के सारे दावे छलावे हैं, जिसकी पोल विगत 30 दिसम्बर को नीति आयोग द्वारा जारी एसडीजी इंडेक्स रिपोर्ट ने खोल कर रख दी है। सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार घूम-घूम कर विकास के दावे कर रहे हैं वहीं नीति आयोग के दावे में बिहार हर क्षेत्र में फिसड्डी साबित हुआ है। नीति आयोग के द्वारा जारी दूसरे संस्करण की रिपोर्ट में बिहार 50 अंक के साथ सबसे निचले पायदान पर है। पूरे देश में गरीबी उन्मूलन में 27, स्वास्थ्य के क्षेत्र में25, भुखमरी हटाने में 26, साफ पानी उपलब्ध कराने व उद्योग विकास में संयुक्त रूप से 16वें व गुणवतापूर्ण शिक्षा में सबसे निचले पायदान पर होना सरकार के कार्यकाल व दावा का पर्दाफाश कर रहा है। वहीं मुख्यमंत्री जिस जल जीवन हरियाली का ढोल पिट रहे हैं उसी जल जीवन हरियाली के झांकी को गणतंत्र दिवस के मौके पर भाग लेने योग्य नहीं मानते हुए केंद्र सरकार ने रिजेक्ट कर दिया है।

विज्ञापन

एआई एस एफ के राज्य परिषद् सदस्य सौरभ कुमार ने कहा कि नीतीश कुमार का पुतला दहन कार्यक्रम उनके दावे के सच को दिखाने के लिए किया गया है। विकास के क्षेत्र में आगे ले जाने के बजाय बिहार की छवि नकारात्मक हुई है। शिक्षा और स्वास्थ्य के हालात मजाक बन कर रह गए हैं वहीं प्रशासन उनकी चाटुकारिता में व्यस्त है। दिखावे के लिए सड़कों की मरम्मत आनन फानन में की गई लेकिन जहां आम आदमी को सड़क पर चलने में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है उसके मरम्मत कार्य पर  प्रशासन का नजर नहीं जाता।

विज्ञापन

पुतला दहन कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए यूथ फेडरेशन के जिला अध्यक्ष जितेंद्र कुमार मुन्ना ने कहा कि बिहार में हर तरफ हाहाकार मचा है और सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार दौरे में व्यस्त हैं। सूबे में लगातार अपराध में बढ़ोतरी और लचर व्यवस्था से बिहार की छवि को राष्ट्रीय फलक पर झटका लगा है। नीति आयोग की रिपोर्ट से यह साफ हो गया है।

पुतला दहन कार्यक्रम में मुख्य रूप से आंनद, गोलू राज, ऋचा प्रिया, सत्यम, संतोष, मयंक, सुमित आदि मौजूद रहे।


Spread the news
advertise