मधेपुरा : वेतन भुगतान नहीं होने से आक्रोशित सफाई कर्मियों ने एसडीएम कार्यालय के समीप किया प्रदर्शन

(फोटो –टीआरटी)
728x90
Spread the news

मो० नियाज अहमद
ब्यूरो, मधेपुरा

मधेपुरा/बिहार : नगर परिषद में अस्थाई करण के 23 महीने बाद भी वेतन भुगतान नहीं होने से आक्रोशित सफाई कर्मी मंगलवार से ही अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए।  गुरुवार को सभी सफाई कर्मी सदर एसडीएम कार्यालय के समीप पहुंचकर प्रदर्शन कर अधिकारियों के वाहनों को रोका तथा कचरा उठाने वाले वाहनों को भी कचरा उठाने से रोक दिया गया। सफाई कर्मियों ने बताया कि यह हड़ताल तब तक जारी रहेगी, जब तक हम सभी सफाई कर्मियों का वेतन भुगतान नहीं हो जाता है। एक तो शहर वैसे ही दंड क्यों से पटा रहता है दूसरी तरफ सफाई कर्मियों के हड़ताल पर चले जाने से सड़कों पर चलना भी दुर्लभ हो गया है।

परिवारों के बीच भूखमरी की स्थिति : सफाई कर्मि बाबिया देवी ने कहा कि वेतन नहीं मिलने के कारण सभी सफाई कर्मियों के परिवारों के बीच भूखमरी की स्थिति सी बन गई है।  उन्होंने कहा कि वेतन नहीं मिलने के कारण बच्चों के विद्यालयों में शुल्क नहीं जमा कर पाने के कारण बच्चों को विद्यालय से बाहर निकाला जा रहा है।

इलाज कराने के लिए पैसे नहीं : सफाई कर्मि अनिता देवी ने कहा कि घर में बीमार परे लोगों की मौत की स्थिति बन गई है और इलाज कराने के लिए पैसे नहीं है।  सफाई कर्मी के परिवार वालों के सामने भुखमरी की समस्या उत्पन्न हो गई है।

पैसे के अभाव में हुई असमय मौत : सफाई कर्मि नीलम देवी ने कहा कि 26 अक्टूबर को सफाई कर्मी चंदन मलिक की मौत इलाज के अभाव में हो गई। इसी तरह राजा मलिक भी पैसे के अभाव में सही इलाज नहीं करा सके और असमय मौत के शिकार बने। सभी सफाई कर्मी की हालत यही है कि कोई भी दुकानदार राशन तक देने को तैयार नहीं है।

आर-पार की लड़ाई लड़ने के लिए तैयार : सफाई कर्मि अनिता देवी ने कहा कि हर आंदोलन के बाद झूठा आश्वासन देकर आंदोलन को खत्म कर दिया जाता है. लेकिन हम लोग इस बार आर-पार की लड़ाई लड़ने के लिए तैयार हैं. जब तक पूर्ण वेतन भुगतान नहीं मिल जाता है तब तक हड़ताल जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि यही हालात नगर परिषद के 35 मानदेय सफाई कर्मी का भी है।


Spread the news