दरभंगा : कबड्डी से शारीरिक स्वास्थ्य ही नहीं, मानसिक विकास भी होता है- डॉ मोहम्मद रहमतुल्लाह

728x90
Spread the news

ज़ाहिद  अनवर (राजु)
उप संपादक

दरभंगा/बिहार : आज कुंवर सिंह महाविद्यालय लहरियासराय में तीन दिवसीय कुंवर सिंह कबड्डी प्रतियोगिता 2019 का भव्य समापन किया गया जिसकी अध्यक्षता कुंवर सिंह महाविद्यालय के प्रधानाचार्य डॉ मोहम्मद रहमतुल्लाह ने की।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान के पूर्व उपाध्यक्ष महान, शिक्षाविद डॉ कामेश्वर झा ने कबड्डी प्रतियोगिता समापन समारोह को संबोधित करते हुए कहा की कब्बड्डी अंतरराष्ट्रीय स्तर की खेल की पहचान है। कबड्डी खेल की भावना का वर्णन करते हुए कहा जिस तरह से सीमा पर फौजी एक दूसरे को अपनी सीमा पर खींचना चाहता है उसी तरह कबड्डी में भी खिलाड़ी अपने प्रतिद्वंदी को अपने सीमा में खींचना चाहता है। इसीलिए कबड्डी राष्ट्रीय भावना से ओतप्रोत है। बिहार में प्रतिभाओं की कमी नहीं रही है। महान दार्शनिक प्लेटो के खेल की भावना की महत्ता को चर्चा करते हुए कहा सत्ता और शासन के लिए कबड्डी खेल की संस्कृति आवश्यक है। विजेता टीम और उपविजेता टीम की को शुभकामनाएं दी।

कुंवर सिंह महाविद्यालय और कबड्डी खेल संघ दरभंगा द्वारा आयोजित प्रतियोगिता 2019 की सफलता की कामना करते हुए इसे ग्रामीण स्तर तक आयोजन करने की अपील की। महाविद्यालय के प्रधानाचार्य डॉ रहमतुल्लाह ने संबोधित करते हुए कहा कि कुंवर सिंह कबड्डी प्रतियोगिता 2019 का आयोजन दरभंगा जिले के 16 गांव की 16 टीमों की भागीदारी से किया गया है। इस तरह का जिला स्तर का सफल आयोजन के बाद प्रदेश स्तर का आयोजन किया जाएगा। जिसमें कई जिला के प्रतिभागी भाग लेंगे। कुंवर सिंह महाविद्यालय के कबड्डी टीम, विश्वविद्यालय और राज्य स्तर पर कई सफलता हासिल की है। विशिष्ट अतिथि राष्ट्रीय सेवा योजना के संबंध में डॉ अशोक कुमार सिंह ने कहा तीन दिवसीय कुमार सिंह कबड्डी प्रतियोगिता 2019 कुंवर सिंह महाविद्यालय के छात्रों को विभिन्न गांवों से आए हुए छात्र-छात्राओं के लिए ऊर्जा स्रोत होगा। इसके कुशल प्रशिक्षण और इस प्रतियोगिता से खिलाड़ियों में काफी लाभ पहुंचा है। खेल भावना के साथ-साथ मानसिक विकास भी होता है।

कुंवर सिंह कबड्डी प्रतियोगिता 2019 के संयोजक अमित कुमार चौधरी ने कहा दरभंगा जिले के 16 गांवों के 16 टीमों के चयनित खिलाड़ी द्वारा प्रतियोगिता करवाया गया है। इस प्रतियोगिता से जिला स्तर पर और विश्वविद्यालय स्तर पर काफी ऊर्जावान खिलाड़ी सामने आए हैं। कबड्डी खेल संघ के सचिव राजेश कुमार पप्पू ने कहा मिथिलांचल में 30 वर्षों से लगातार कबड्डी प्रतियोगिता आयोजन कर ग्रामीण और शहरी छात्रों को प्रादेशिक एवं शहरी पहचान दिलाने का काम किया। इन प्रतियोगिताओ के माध्यम से कई छात्र-छात्राएं अपना कैरियर बना सकते हैं। विशिष्ट अतिथि प्रसिद्ध चिकित्सक डॉक्टर विभूति रंजन झा कबड्डी पहले ग्रामीण स्तर का खेल था । अब यह राष्ट्रीय नहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर का खेल हो गया है। पहले और अब-ग्रामीण स्तर पर कबड्डी काफी जोशो खरोशओं से खेला जाता है। इस खेल से शरीर का विकासही नहीं मानसिक विकास भी होता है। इसीलिए स्कूल एवं विश्वविद्यालय स्तर पर अनिवार्य रूप से रूटीन तालिका में दर्द रहना चाहिए।

अमित कुमार चौधरी ने फाइनल मैच को ऐतिहासिक बताते हुए कहा कुंवर सिंह कॉलेज टीम के कप्तान शशांक कुमार झा 47 पॉइंट लाकर विजयी घोषित किया गया जबकि ता रा ला ही की टीम के कप्तान आनंद कुमार 25 पॉइंट लाकर उपविजेता घोषित किया गया। तृतीय स्थान पर आनंदपुर की टीम के कप्तान नीतीश रंजन रहे। कुंवर सिंह कबड्डी प्रतियोगिता 2019 के सफल आयोजन के निर्णायक मंडल में पारुल प्रिया ,ओम प्रकाश साहनी ,अमित कुमार चौधरी, अंजली कुमारी, वर्षा कुमारी ,सुरभि कुमारी प्रमुख थे।


Spread the news