पटना : बेटी रहेगी तभी तो देश रहेगा- डा.मुर्डिया

728x90
Spread the news

अनुप ना. सिंह
ब्यूरो, पटना

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान से सरकार की महत्वपूर्ण योजना महिला सशक्तिकरण को मिल रहा बल, – नन्हीं परी पढ़ेगी, उड़ेगी। इंदिरा आईवीएफ ने बेटियों की शान में आयोजित किये प्रेरक कार्यक्रम 

पटना/बिहार : बेटी हमारे कुल की नहीं अपितु देश की शान होती है। इंदिरा आईवीएफ संस्थान इसी दिशा में कार्य करते हुए देश को बेटियों के संरक्षण व संवर्धन की दिशा में कार्यरत है। आपकी सरकार स्वास्थ्य सुधार के क्षेत्र में रोज प्रगति कर रही है। हर स्वास्थ्य केंद्रो तक एंबुलेंस सहित सभी सुविधा त्वरित रूप में पहुंचाई जा रही है। सरकार चाहती है की आने वाले समय में हमारा देश स्वस्थ राष्ट्र की परिकल्पना को साकार कर सके।

उक्त बातें बिहार के राज्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा मंत्री मंगल पांडेय ने कही। इससे आगे उन्होंने कहा की देश की प्रगति में उल्लेखनीय योगदान देने वाली महिलाओं के सम्मान में इंदिरा आईवीएफ द्वारा आयोजित यह कार्यक्रम महिलाओ को सम्मान देने की दिशा में सराहनीय कदम है। मुझे गर्व हो रहा है की महिलाओं और बेटियों के सम्मान में आयोजित इस कार्यक्रम का मैं भी एक हिस्सा बन रहा हूँ।

इससे पूर्व, इंदिरा आईवीएफ के चेयामैन डाक्टर अजय मुर्डिया ने समारोह में शामिल हो रहें गणमान्य अतिथियों का दिल से स्वागत और अभिनंदन करते हुए कहा की इंदिरा आईवीएफ भारत और बिहार सरकार की महत्वपूर्ण योजना को जमीनी स्तर पर लाने की दिशा में कार्य कार्य कर रहा है। आज देश में निःसंतानता बढ़ रही है परन्तु आईवीएफ इस भयानक रोग को जड़ से मिटा रहा है। निःसंतान महिलाओं को अंधविश्वास के कुचक्र से मुक्ति दिला रहा है।

समारोह को आगे बढ़ाते हुए इंदिरा आईवीएफ पटना के चीफ एम्ब्रायोलोजिस्ट डाक्टर दयानिधि ने अपने सकारात्मक विचार व्यक्त करते हुए कहा की-समाज आज काफी जागृत हो चुका है। वह बेटा-बेटियों को समान महत्व दे रहा है लेकिन निःसंतानता के चलते महिलाओं का आत्म विश्वास कहीं न कहीं डगमगा दिख रहा है। ऐसे में हमारी संस्थान महिलाओं के मन में न सिर्फ प्रेरणा जगाती है वल्कि देश को अत्याधुनिक तकनीक को प्रकाश में लाकर दुनिया को अंधविश्वास से मुक्ति भी प्रदान कर रही है। इन्हीं बातों का सहज समर्थन करती आईवीएफ की डाक्टर अनुजा ने कहा-निःसंतानता के कई कारण हो सकते हैं लेकिन समाज में दोषी महिलाओं को ही माना जाता है। आज आईवीएफ तकनीक से महिलाओं की सूनी गोद बच्चों की किलकारी गूंज रही हैं। सरकारबेटी को सम्मान देकर राष्ट्र को सम्मान दे रही है। यह क्षण हम सब महिलाओं के लिए गौरव प्रदान करनेवाली है। बेटियों के सम्मान में आयोजित इस कार्यक्रम में शहर के प्रबुद्ध व शिक्षित जनों ने सहर्ष भाग लिया।

कार्यक्रम को और अधिक रोचक और प्रेरणादायी बनाने के लिए कई मनोरंजक और प्रभावकारी कार्यक्रमों की प्रस्तुति आईवीएफ के द्वारा आयोजित की गयी। कार्यक्रम के अंत में डाक्टर सुनीता कुमारी ने देवतुल्य अतिथियों को स्मृतिचिन्ह भेंट किये।

कार्यक्रम के समापन समारोह पर अपनी भावना को शब्दों में व्यक्त करते हुए डाक्टर दयानिधि ने कहा की देश में निःसंतानता जैसी गंभीर अभिशाप को मिटाने के लिए मिलकर काम करना होगा।

बेटियों के सम्मान को आयोजित इस कार्यक्रम में उपस्थित होनेवाले लोगों के प्रति श्रद्धा व धन्यवाद प्रकट किया। इस मौके पर पटना के सिविल सर्जन डा. प्रमोद झा, विशिष्ट अतिथि रीता शर्मा, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के प्रति समर्पित समन्वयक डा. अब्दुल अहमद हई, निदेशक जनरल सर्जरी पारस अस्पताल पटना व पद्मश्री सिस्टर सुधा वर्गीस सहित शहर के तमाम शिक्षाविद, समाजसेवी, प्रबुद्धजन उपस्थित थे।


Spread the news