एआईवाईएफ ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, बी पी मण्डल की राजकीय जयंती को औपचारिक बनाने का लगाया आरोप

728x90
Spread the news

कहा : जिला प्रशासन की उदासीनता से सांस्कृतिक, खेल, साहित्य व अन्य क्षेत्र की प्रतिभाएं हो रहे बड़े मंच से वंचित # जिनके नाम पर देश के कोने कोने में हो रहे कार्यक्रम उनको घर में ही बेगाना करने की जिला प्रशासन कर रहा साजिश # स्मारिका प्रकाशन, रोड रेस, प्रतिभाओं का सम्मान अब गुजरे जमाने की बात

मधेपुरा/बिहार : एआईवाईएफ जिला अध्यक्ष हर्ष वर्धन सिंह राठौर ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिख मंडल आयोग के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री बी पी मंडल की राजकीय जयंती की उपेक्षा का जिला प्रशासन पर आरोप लगाया है। मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में जिला प्रशासन पर आरोप लगाते हुए  राठौर ने  कहा  है कि वर्तमान जिला पदाधिकारी के कार्यकाल में विगत बिहार दिवस, मधेपुरा स्थापना दिवस औपचारिकता में भी निम्न स्तर से मनाने के बाद अब मण्डल आयोग के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री बी पी मंडल की जयंती को औपचारिक रूप से मनाये जाने की निम्न स्तरीय तैयारी है । इसकी जितनी निंदा की जाए वह कम है। राठौर ने कहा कि जिस बी पी मंडल की जयंती मंडल आयोग के अध्यक्ष के रूप में उनकी भूमिका के सम्मान में देश के कोने कोने में कल मनाई जाएगी। सूबे की राजधानी में खुद मुख्यमंत्री उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे उनके जन्म भूमि में जिला प्रशासन की यह औपचारिकता निंदनीय व अक्षम्य है।

लिखे पत्र में एआईवाईएफ जिलाध्यक्ष ने मुख्यमंत्री के संज्ञान में देते हुए कहा कि श्रद्धेय पूर्व मुख्यमंत्री बी पी मंडल की राजकीय जयंती पर समय समय पर पूर्व प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्री, कई मुख्यमंत्री जिसमे आप खुद कई बार हिस्सा रहें हैं। राजकीय जयंती पर गांव में समाधि स्थल स्वधर्म श्रद्धांजलि सभा,स्मारिका विमोचन, जिला मुख्यालय स्थित प्रतिमा स्थल से रोड रेस, स्टेडियम में भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम व सम्मान समारोह उनकी जयंती में चार चांद लगाते थे। लेकिन वर्तमान समय में इन सारी चीजों को भुला दिया गया है। जिससे कलाकारों, साहित्यकारों, विभिन्न खेलों व अन्य क्षेत्र की प्रतिभाओं को बड़ा मंच मिलने से वंचित कर दिया गया है। उनके गांव में औपचारिक कार्यक्रम की मात्र योजना है जयंती समारोह को लेकर कार्यक्रम की सूचना के नाम पर प्रखंड कार्यालय तो दूर डीएम कार्यालय में भी बैनर नहीं लगे हैं।

इसी दौर में सहरसा व सुपौल में ऐसे ही अवसरों पर खेलकूद, प्रतियोगिता, स्मारिका प्रकाशन, सम्मान समारोह आदि का आयोजन हुआ है और हो रहे हैं। इससे पता चलता है कि वर्तमान जिला पदाधिकारी इन बिंदुओं को लेकर सजग नहीं हैं जबकि इस सम्बन्ध में कई बार पहल की मांग की गई लेकिन उसपर कभी ध्यान नहीं दिया गया। एआईवाईएफ जिला अध्यक्ष राठौर ने बी पी मंडल की जयंती पर जिला प्रशासन के उदासीन रवैए की निन्दा करते हुए सम्बन्धि  पदाधिकारियों पर कारवाई की मांग की है जिनकी उदासीनता से जिला के गौरव बढ़ाने वाले कार्यक्रम गौण होते जा रहे हैं।

मो० नियाज अहमद
ब्यूरो, मधेपुरा

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें