वर्तमान मोदी एवं नीतीश सरकार महिला, दलित एवं अल्पसंख्यक विरोधी : महागठबंधन

728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : रविवार को कमरतोड़ महंगाई, रिकॉर्ड तोड़ बेरोजगारी, गिरती अर्थव्यवस्था, बिगड़ती कानून व्यवस्था, ध्वस्त होती जनतांत्रिक व्यवस्था, केंद्र व राज्य सरकार की जनविरोधी व दमनकारी नीतियों के खिलाफ महागठबंधन के राज्यव्यापी  आह्वान पर राजद, कांग्रेस, भाकपा, माकपा व भाकपा माले के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने विशाल प्रतिरोध मार्च किया. महागठबंधन का प्रतिरोध मार्च कला भवन परिसर से निकलकर विभिन्न चौक-चौराहे से गुजरते हुए कॉलेज चौक पहुंच कर समाप्त हुआ.

मार्च निकलने से पहले कला भवन  परिसर में सभा को संबोधित करते हुए राजद विधायक सह बिहार सरकार के पूर्व मंत्री प्रो चंद्रशेखर ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार फासीवादी एवं जन विरोधी है. उन्होंने कहा कि देश में अघोषित आपातकाल की स्थिति है. बुलडोजर का राज नहीं चलेगा. ग्रामीण गरीबों, किसानों, मजदूरों छात्रों व नौजवानों के हितों को कुचल कर अपने कॉरपोरेट मित्रों को मलोमाल करने वाले होश में आओ, नहीं तो तुम्हारी भी हाल श्रीलंका के राष्ट्रपति की तरह होना निश्चित है.

 कमजोर वर्गों पर ढाये जा रहे हैं जुल्म, उड़ाई जा रही है संविधान की धज्जियां

सिंघेश्वर के राजद विधायक चंद्रहास चौपाल ने कहा कि देश के अंदर लगातार दलित एवं अकलियत मॉब लिंचिंग के शिकार हो रहे हैं. कमजोर वर्गों पर जुल्म ढाये जा रहे हैं, संविधान की धज्जियां उड़ाई जा रही है. आम लोग महंगाई, बेकारी एवं गरीबी से त्रस्त है, लेकिन मोदी सरकार हिंदू एवं मुसलमान करने में मस्त है. केंद्र एवं राज्य की सरकार सभी क्षेत्रों में भी विफल है. महागठबंधन के जिला संयोजक सह भाकपा के राष्ट्रीय परिषद सदस्य प्रमोद प्रभाकर ने कहा कि आजादी के 75 वर्ष के बाद जब पूरा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, तब हमारा देश भीषण आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहा है. लगातार रुपये का अवमूल्यन होना, विदेशी कर्ज बढ़ना, 45 वर्ष के अंदर सबसे ज्यादा बेरोजगारी, आवश्यक सामानों की आसमान छूती महंगाई, अमीरी एवं गरीबी का बढ़ता फासला, कमजोर वर्गों पर हो रहे अत्याचार अंग्रेजी हुकूमत को ही मात कर दिया है.

बड़ी संख्या में देश के किसान व जवान आत्महत्या करने को हो रहे हैं मजबूर  

राजद के जिलाध्यक्ष जय कांत यादव ने कहा कि केंद्र व राज्य की सरकार जनविरोधी है. मोदी सरकार आजाद भारत की सबसे निकम्मी सरकार है. यह सरकार किसानों, मजदूरों व आम जनों की नहीं, पूंजीपतियों व कॉरपोरेट की है. देश के दलितों, महिलाओं एवं अल्पसंख्यकों पर हिंसा व दमन नहीं सहेंगे. हिंदू एवं मुसलमान के नाम पर राजनीति करना सरकार बंद करे. कांग्रेस के जिलाध्यक्ष सत्येंद्र कुमार सिंह यादव ने कहा कि भारतीय संविधान व लोकतंत्र खतरे में है. लाखों लोग भारत छोड़कर दूसरे देशों में जा रहे हैं. बड़ी संख्या में देश के किसान व जवान आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं. इस दमनकारी सरकार के खिलाफ एकजुट होकर संघर्ष तेज करना होगा. भाकपा माले के जिला संयोजक रामचंद्र दास ने कहा कि एक सुनियोजित साजिश के तहत सरकार गरीबों का आशियाना व निवाला छीन रही है. माकपा के जिला मंत्री मनोरंजन सिंह ने कहा कि विकास योजनाओं एवं गरीबी उन्मूलन योजनाओं में लूट मची है, यहां सुशासन नहीं, कुशासन की सरकार है.

वर्तमान मोदी एवं नीतीश सरकार महिला, दलित एवं अल्पसंख्यक विरोधी  

भाकपा के जिला मंत्री विद्याधर मुखिया, राजद के प्रदेश महासचिव बिजेंद्र प्रसाद यादव, देव किशोर यादव, प्रो चंद्रदीप कुमार, राजद नेता सह आलम नगर विधानसभा क्षेत्र से महागठबंधन के पूर्व प्रत्याशी नवीन कुमार निषाद, राजद अल्पसंख्यक सेल के प्रदेश अध्यक्ष मो प्रो खालिद, महिला राजद के प्रदेश महासचिव विनीता भारती व रागिनी यादव ने कहा कि वर्तमान मोदी एवं नीतीश सरकार महिला, दलित एवं अल्पसंख्यक विरोधी है. लगातार इनके ऊपर दमन एवं अत्याचार जारी है.

मौके पर राजद के पूर्व जिला अध्यक्ष प्रो अरविंद कुमार, राजद नेता सह महागठबंधन के सहायक संयोजक रामकृष्ण यादव,  राजद के जिला महासचिव मो नजीर उद्दीन नूरी, महिला राजद जिलाध्यक्ष सीमा गुप्ता, युवा राजद जिलाध्यक्ष अनिता कुमारी, किसान नेता प्रकाश कुमार पिंटू, अमेश यादव, विकास मंडल, वरीय नेता कृष्ण कुमार यादव, डा राजेश कुमार रतन उर्फ मुन्ना, मो आलम, मो मुस्फिक,  कांग्रेस के युवा नेता निशांत यादव, कम्युनिस्ट नेता रमन कुमार समेत अन्य महागठबंधन के नेता शामिल थे.

अमित कुमार अंशु संपादक
अमित कुमार अंशु
संपादक
द रिपब्लिकन टाइम्स

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें