मोदी सरकार की गलत नीतियों ने देश की बहुसंख्यक गरीब आबादी को भूखे मरने पर किया मजबूर : निशांत यादव

728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : शनिवार को बढ़ती मंहगाई, बेरोजगारी, अग्निपथ योजना व रोजमर्रा की आवश्यक वस्तुओं पर जीएसटी लगाये जाने के विरोध में एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने जिलाध्यक्ष निशांत यादव के नेतृत्व में ठाकुर प्रसाद महाविद्यालय के मुख्य द्वार से भूपेंद्र नारायण मंडल चौक तक विरोध मार्च निकाला. विरोध मार्च में बड़ी संख्या में एनएसयूआई नेता, कार्यकर्ता एवं छात्र मौजूद थे.

प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे एनएसयूआई जिलाध्यक्ष निशांत यादव ने कहा कि देश की जनता महंगाई एवं बेरोजगारी से त्रस्त है. आम आवाम जीवन जीने के लिये मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति के लिय संघर्ष कर रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार की गलत नीतियों ने देश की बहुसंख्यक गरीब आबादी को भूखे मरने के लिये मजबूर कर दिया है. जिलाध्यक्ष निशांत यादव ने कहा कि मोदी सरकार देश में लगातार गरीब विरोधी, मजदूर विरोधी, किसान विरोधी, छात्र विरोधी व युवा विरोधी नीतियां लाकर देश की जनता को बेबस व लाचार बना दिया है. वहीं विपक्ष जब जनविरोधी नीतियों, महंगाई, बेरोजगारी व निजीकरण के खिलाफ सरकार से सवाल करती है तो मोदी सरकार ईडी का दुरुपयोग कर विपक्ष के नेताओं को प्रताड़ित एवं परेशान करती है.

उन्होंने कहा कि शुक्रवार को पूरे देश में कांग्रेस, सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ सड़कों पर उतर कर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे तो मोदी सरकार के इशारे पर दिल्ली में पुलिस ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी व प्रियंका गांधी समेत तमाम नेताओं के साथ बदतमीजी की व उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. मोदी सरकार सत्ता के नशे में अंधा होकर देश के जनता के लोकतांत्रिक मूल्यों पर हमला कर रही है.

विरोध प्रदर्शन में एनएसयूआई छत्रनेता जितेंद्र कुमार, अमरेश कुमार, अमरदीप कुमार, नीतीश कुमार, सुमन झा, बालकिशोर कुमार, राजेश कुमार, रामविलास कुमार, प्रदीप कुमार, सोनू कुमार, जीतू यादव, रंजीत कुमार, मिथुन कुमार, पिंटू कुमार, आशुतोष कुमार, दिवाकर यादव, सचिन कुमार, चंदन कुमार, आयुष आनंद, सुदर्शन यादव, रूपेश कुमार, गौतम कुमार, बिट्टू कुमार, रविन्द्र कुमार, आशीष कुमार, समसेर आलम, सतीश कुमार, मिथलेश कुमार, दीपक कुमार समेत दर्जनों एनएसयूआई कार्यकर्ता मौजूद थे.

अमन कुमार
संवाददाता, सदर
मधेपुरा

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें