मुख्यमंत्री प्रोत्साहन राशि से वंचित Professional course की छात्राओं ने अपने गुस्से का किया इजहार  

728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय में मंगलवार को व्यवसायिक पाठ्यक्रम बीसीए की छात्राओं ने मुख्यमंत्री प्रोत्साहन राशि समेत अन्य मांग को लेकर प्रदर्शन किया. प्रदर्शन के बाद बीएनएमयू कुलपति प्रो डा राम किशोर प्रसाद रमण एवं कुलसचिव डा मिहिर कुमार ठाकुर से वार्ता कर छात्राओं ने मांग पत्र सौंपा. छात्राओं ने एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक मनीष कुमार के नेतृत्व में विवि परिसर में प्रदर्शन कर एवं विवि के खिलाफ तथा अपनी मांगों के समर्थन में नारेबाजी कर अपना आक्रोश व्यक्त किया. इस दौरान छात्राओं ने कुलपति कार्यालय के मुख्य द्वार पर बैठकर विरोध प्रदर्शन किया. हालांकि इस दौरान कुलपति कार्यालय में मौजूद नहीं थे. जिसके बाद छात्रों ने कुलसचिव कार्यालय के समक्ष पहुंचकर प्रदर्शन किया. प्रदर्शन के दौरान कुलसचिव ने छात्राओं से वार्ता कर, उनकी मांगों पर पहल करने का आश्वासन दिया. जिसके बाद छात्राओं ने प्रदर्शन समाप्त किया. इसी दौरान कुलपति भी विवि पहुंचे और कार्यालय में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक मनीष कुमार समेत सभी छात्राओं से वार्ता किया. कुलपति ने सभी मांगों पर काफी चर्चा कर, संबंधित पदाधिकारी एवं प्राचार्य को अभिलंब सुधार के लिए आदेश दिया.

विवि के पन्नों में दबकर रह गया है छात्राओं की मांग, महीनों बाद भी नहीं हुआ सुधार : छात्राओं ने कहा कि बीएनएमयू अंतर्गत सभी महाविद्यालय में छात्राओं को मुख्यमंत्री प्रोत्साहन योजना में स्नातक की छात्राओं को पहले 25 हजार रुपया दिया जाता था और अब 50 हजार रुपया दिया जायेगा, लेकिन बीसीए समेत अन्य व्यवसायिक पाठ्यक्रम के छात्राओं को इस योजना से वंचित रखा जाता है. छात्राओं ने मांग किया कि व्यवसायिक पाठ्यक्रम में मुख्यमंत्री प्रोत्साहन राशि 50 हजार रुपये के लाभ से वंचित छात्राओं को अविलंब मुख्यमंत्री प्रोत्साहन योजना में शामिल किया जाये. वहीं उन्होंने कहा कि रमेश झा महिला महाविद्यालय समेत विवि के अन्य महाविद्यालय में बीसीए के छात्रों के लिये लैब, लाइब्रेरी समेत अन्य मूल संसाधन अविलंब मुहैया कराया जाये. बीसीए उत्तीर्ण छात्रों के लिये एमसीए एवं प्लेसमेंट सेल का इंतजाम किया जाये. एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक मनीष कुमार ने कहा कि पूर्व में व्यवसायिक पाठ्यक्रम सुधार एवं मुख्यमंत्री प्रोत्साहन राशि को लेकर आंदोलन हुआ था, लेकिन यह मांग सिर्फ एक आदेश बनकर विवि के पन्नों में दब कर रह गई. महीनो बाद कोई सुधार नहीं हुआ. जिससे छात्राओं में आक्रोश है.

व्यवसायिक पाठ्यक्रम की छात्राओं के साथ सौतेले व्यवहार के खिलाफ होगी लड़ाई : मनीष कुमार ने कहा कि जल्द मांगों पर कार्रवाई नहीं हुई तो कॉलेज स्तर से लेकर विवि एवं राज्य सरकार तक एनएसयूआई आंदोलन करेगी एवं व्यवसायिक पाठ्यक्रम की छात्राओं के साथ सौतेले व्यवहार के खिलाफ मजबूती से लड़ाई लड़ेगी. एनएसयूआई नेता अमित कन्हैया ने कहा कि रमेश झा महिला कॉलेज में समस्याओं का अंबार है. जहां छात्राओं को पीने के लिए पानी, बिजली, पुस्तकालय एवं लैब जैसी मूलभूत सुविधाओं से दूर रखा जाना, काफी दुर्भाग्यपूर्ण है. एनएसयूआई नेता हिमांशु राज ने कहा कि विवि में एकमात्र रोजगार परक पाठ्यक्रम बीसीए है. जिसकी पढ़ाई से छात्राओं को रोजगार मिलने की उम्मीद थी, लेकिन कॉलेजों के ढुलमुल रवैया के कारण सबसे अधिक शुल्क लिये जाने के बावजूद भी पढ़ने की सुविधा कुछ भी नहीं है. बगैर लैब की कंप्यूटर पढ़ाई सफेद हाथी के दांत की तरह है. वही लाइब्रेरी नहीं होना एवं बीसीए के बाद एमसीए की पढ़ाई, विवि में नहीं होने से छात्राओं के आगे की पढ़ाई बाधित हो जाती है.

मौके पर मौसम कुमारी, सोनी कुमारी, रिचा कुमारी, साक्षी सिंह, काजल कुमारी, दिव्य प्रिया, काजल कुमारी, कोमल कुमारी, जूही कुमारी, पूजा कुमारी, अंचल कुमारी, मनीषा भारती, छोटी कुमारी, सुप्रिया कुमारी, साक्षी कुमारी, स्वेता कुमारी, प्रतिमा कुमारी, अंकिता कुमारी, दीया दीप्ति, अदिति कुमारी, अंचल कुमारी, आदि मौजूद थी.

बिनीत कुमार बबलू
संवाददाता, मधेपुरा