धर्म परिवर्तन कराने पहूंचे ईसाई धर्म के दो पादरी को ग्रामीणों ने पकड़ कर किया पुलिस के हवाले

728x90
Spread the news

छातापुर/सुपौल/बिहार : छातापुर थाना अंतर्गत राजेश्वरी ओपी क्षेत्र के कैनजारा गांव में  शुक्रवार की रात धर्मपरिवर्तन कराने पहूंचे ईसाई धर्म के दो पादरी को ग्रामीणों के द्वारा पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया गया। जबकि एक मौके से भाग निकलने मे सफल हो गया, मामले की गंभीरता को देखते हुए ग्रामीणों के द्वारा पुलिस को इसकी सूचना दी गई, सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहूंची और दोनों पादरी को ग्रामीणों ने पुलिस को सुपूर्द कर दिया । जिसके बाद ओपी पुलिस दोनों को हिरासत मे लेकर मामले की छानबीन मे जूट गई है।
 इधर मामले की जानकारी इलाके में जंगल में लगी आग की तरह फैल गई और मौके पर सैकड़ों  लोग जूट गये। बताया जाता है कि ईसाई धर्मांतरण के लिए एक बडा रैकेट सक्रिय है और डेढ साल से इनलोगों का आना जाना लगा रहता है। जिसके द्वारा गरीब व अशिक्षित लोगों को प्रलोभन देकर व बहला फुसलाकर करीब दो दर्जन हिन्दुओं का धर्म परिवर्तन करा दिया गया । ग्रामीण राजीव सरदार, अतुल मिश्रा, बुधाय सरदार, राजकुमार सरदार, जवाहर सरदार आदि ने बताया कि पादरी सुपौल वार्ड संख्या 10 निवासी रविशंकर प्रसाद, मधेपुरा जिला के गजहा गांव  निवासी श्यामसुंदर मंडल, व त्रिवेणीगंज थानाक्षेत्र के जोगियाचाही सिकंदर सरदार शुक्रवार को रासेश्वरी पश्चिम वार्ड संख्या 12 पहूंचे थे। तीनो लोग एक शिशु के छठीहार मे शामिल होने आये थे और कुछ लोगों का धर्मपरिवर्तन का भी कार्यक्रम था। लेकिन इसकी भनक ग्रामीणों को लग गई और तीन में से दो लोगों को पकड़ लिया गया जबकि एक लोग मौके से भाग निकले। पादरी के द्वारा लोगों के बीच लोगों को बड़गलाने  के लिए पर्चा भी बांटा जा रहा था।

क्या लिखा है पर्चा में : पर्चे में सुप्रीम कोर्ट के आपातकालीन फैसला का हवाला देकर लिखा हुआ है कि अगर कोई धर्म के नाम पर ईसाइयों को परेशान करता है, या हमला करता है, तो उसे 10 साल की जेल हो सकती है, भारत एक धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक देश है, धर्म के नाम पर ईसाइयों को दबाने या हाशिये पर रखने का किसी को अधिकार नहीं है, देश मे ईसाइयों के लिए यूनाईटेड क्रिश्चियन फोरम का टाॅल फ्री हेल्प लाइन नंबर 18002084545 जारी किया गया है जो चर्च का है, इस पर्चे को अधिक से अधिक ईसाई लोगों और पास्टरों तक पहूंचाने का अनुरोध किया गया है, लिखा है कि प्रार्थना सभा या सम्मेलन पर किसी भी प्रकार का हमला होने पर इस नंबर पर संपर्क किया जा सकता है, ताकि फोरम से जुडे ईसाई वकील एवं प्रभावशाली लोगों का एक समुह तत्काल मदद के लिए आगे आ सके, अंत मे लिखा है कि प्रत्येक ईसाई को यह जानना चाहिए और इस संदेश को सहेजना चाहिए भगवान महान है।

इस बाबत राजेश्वरी ओपी प्रभारी रामाशंकर ने बताया कि ग्रामीणों द्वारा सूचना दी गई कि दो युवक लोगों को धर्म परिवर्तन के लिए उसकाते हुए पकड़े गए हैं, जिसके बाद वे दल बल के साथ वहां पहुंचे और ग्रामीणों के चंगुल से उक्त युवक को छुड़ा कर थाना ले आए। फिलहाल पूछताछ की जा रही है। वरीय अधिकारियों को सूचना दे दी गई है।

रियाज खान
संवाददाता
छातापूर/सुपौल

 


Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें