उदाकिशुनगंज में पानी सप्लाई की मॉनीटरिग के लिए आपूर्ति बोरवेल में लगेगा आइओटी डिवाइस

Photo : www.therepublicantimes.coPhoto : www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : जिले के उदाकिशुनगंज प्रखंड अंतर्गत मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना अंतर्गत नल जल योजना की मॉनीटरिग के लिए प्रत्येक जलापूर्ति में डिवाइस लगाया जाएगा। इसका नियंत्रण जिला पंचायती राज कार्यालय से किया जाएगा। इसके लिए कार्यालय में ही कंट्रोल यूनिट बनाई जाएगी। इसके माध्यम से ही पेयजल आपूर्ति के वास्तविक समय एवं मात्रा पर नजर रखी जाएगी। लगाए गए डिवाइस के प्राप्त सिग्नल से हीं पता चल जाएगा कि किस वार्ड में पानी की सप्लाई हो रही है और किन वार्ड में नहीं।

मिली जानकारी के अनुसार उदाकिशुनगंज प्रखंड क्षेत्र में नल जल योजना के तहत सभी प्रोजेक्ट में इंटरनेट ऑफ थिग्स डिवाइस लगाया जाएगा। इस डिवाइस के माध्यम से योजना के कार्यान्वयन की निगरानी की जाएगी। अगर कहीं किसी समस्या की वजह से मोटर नहीं चला चलेगा या बंद रहेगा इसके वाजिब कारणों की जानकारी मॉनीटरिंग सेल मेें मिलती रहेगी। अधिक देर तक मोटर चलने के कारण पानी की बर्बादी की जानकारी भी दर्ज की जायेगी। इस तरह की सभी पहलुओं की ऑनलाइन मॉनीटरिंग की जायेगी। इससे योजना के सफल क्रियान्वयन से अनियमितता पर रोक लगेगी।

advertisement

ऐसे काम करेगी टंकी में लगाये जाने वाले डिवाइस : नल जल योजना के तहत लगाए गए सभी पानी सप्लाइ यूनिट के मोटर के स्टार्टर के साथ एक तरह का डिवाइस लगायी जायेगी, जिसका नाम आइओटी है। यह आइओटी डिवाइस मोटर को ऑन करते ही स्वयं एक्टिवेट हो जायेगी। इसके बाद प्रखंड मुख्यालय में मौजूद कंट्रोल यूनिट को लगातार संदेश मिलता रहेगा। कितने बजे मोटर ऑन हुआ, कितनी देर तक चला, निर्धारित समय से ज्यादा कितनी देर तक मोटर चलता रहा समेत अन्य सभी बातें की जानकारी मिलती रहेगी। अगर किसी स्थान पर मोटर नहीं चल रहा,  इससे यह भी पता चल जायेगा कि कितने दिनों से मोटर खराब है या किस वजह से वहां का मोटर नहीं चल रहा है। सभी प्रणाली में जीपीएस भी लगा रहेगा, जिससे उसके स्थान की सटीक जानकारी भी मिलेगी। कोई भी व्यक्ति इसे इधर-उधर नहीं हटा सकेगा। इससे घर-घर नल का जल योजना की मॉनीटरिंग मुकम्मल तरीके से हो सकेगी और बिना किसी परेशानी के लोगों को पानी की सप्लाई भी होती रहेगी। साथ ही पानी की बर्बादी पर भी रोक लगाई जा सकेगी और बेवजह न मोटर चलेगा और न ही पानी ही बहेगा।

योजना की दिन प्रतिदिन निगरानी होगा संभव : प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न पंचायतों के वार्डों में पीएचइडी विभाग की तरफ से नल जल का काम हो रहा है। इसमें से अब तक कई वार्डों में काम पूरा हो चुका है। जल्द ही डिवाइस लगाने की प्रक्रिया भी शुरू होगी। वही नल जल योजना के तहत सभी प्रोजेक्ट के आपूर्ति बोरवेल में इंटरनेट ऑफ थिग्स डिवाइस लगाया जाएगा। इसके द्वारा महत्वाकांक्षी योजना की दिन- प्रतिदिन निगरानी संभव हो पाएगी। इसकी देखभाल की जिम्मेदारी भी अनुरक्षक की होगी। मोटर के संचालन का कार्य अनुरक्षक ही करेंगे। यदि किसी घर में पेयजल की आपूर्ति बाधित है तो इसका समाधान भी अनुरक्षक ही करेंगे। इसको लेकर अनुरक्षकों को प्रशिक्षण दिया जाएगा साथ हीं उन्हें इस कार्य के लिए निश्चित मानदेय दिया जाएगा।

अब डिवाइस लगाकर नल-जल योजना की होगी ऑनलाइन मॉनिटरिंग : सरकार की महत्वाकांक्षी में शामिल नल जल योजना का लाभ शत प्रतिशत लोगों को मिले। जिसको लेकर पंचायत के सभी वार्डों में आइओटी डिवाइस लगाने का कार्य किया जाएगा। इस डिवाइस के माध्यम से ऑनलाइन मिलने वाले सिग्नल से योजना की मॉनिटरिंग की जाएगी। सरकार की राशि का समुचित सदुपयोग हो। इसको लेकर विभाग में सभी वार्डों में डिवाइस रहा है। ताकि,हर स्तर पर इसकी निगरानी हो सके। पीएचडी विभाग के प्रखंड जाई अभिषेक राज ने बताया कि इस डिवाइस के माध्यम से ऑनलाइन मिलने वाले सिग्नल से भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा। उन्होंने कहा कि कंप्यूटर विज्ञान के अंतर्गत एक नवीन टेक्नोलॉजी है। जो हमें बताती है कि कैसे इलेक्ट्रानिक डिवाईस या गैजेट्स जिसमें आईपी ऐड्रेस उपलब्ध हो, वह आपस में संवाद स्थापित कर सकते हैं। इससे इंसान का काम आसान हो सकता है।

कहते है पीएचडी विभाग के जेई : पीएचडी विभाग के जेई अभिषेक राज ने बताया कि प्रखंड क्षेत्र के जिस पंचायत में नल जल का कार्य आधा-अधूरा था उसे पीएचडी विभाग को दे दिया गया था। जिसमे लक्ष्मीपुर और गोपालपुर आदि पंचायत शामिल है। कई वार्डों में कार्य पूर्ण कर पानी की सप्लाई आरंभ कर दी गई है। कुछ वार्डों में कार्य जारी है। जल्द ही प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न पंचायतों में भी पानी का सप्लाई शुरू कर दिया जाएगा।

कौनैन बशीर
वरीय उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें