देखिए, स्वच्छ मधेपुरा-सुंदर मधेपुरा का नाजारा, जल निकासी में नाकारा साबित हो रहा है नगर परिषद

Photo : www.therepublicantimes.coPhoto : www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : मधेपुरा शहर में हर वर्ष की तरह इस मानसून में भी टिप-टिप बरसा पानी नहीं है, बल्कि सड़कों छपाक-छपाक करता पानी है. यह कहानी हर वर्ष की है, लेकिन मानो साहब लोगों को तो शहर के आम लोगों के परेशानियों से कोई लेना-देना ही नहीं है.

Photo : www.therepublicantimes.coPhoto : www.therepublicantimes.co
स्वच्छ मधेपुरा-सुंदर मधेपुरा का नाजारा

हर वर्ष मानसून आने से ठीक कुछ दिन पहले लोगों के दिखावे के लिए नगर परिषद के साहब हाथों में कुदाल एवं कचरा साफ करने वाले औजार लिए कुछ मजदूर, एक जेसीबी मशीन और एक कचरा ढोने वाली ट्रेक्टर लेकर नाला साफ करने के नाम पर सड़क पर उतर जाते हैं, फिर दो-तीन काम करते ही बारिश शुरू हो जाती है. उसके बाद फिर बारिश के बाद काम करने की बात कही जाती है, जो अगले मानसून के दो-तीन दिन पहले शुरू होती है. शहर की समस्या नाला की सफाई है ही नहीं, बल्कि शहर की समस्या तो नाला की निकासी है. शहर की समस्या जर्जर एवं ध्वस्त नाला है. जिसपर जिले एवं नगर परिषद के अधिकारियों का ध्यान ही नहीं है. जिसका खामियाजा वर्षों से शहर के लोगों को भुगतना पड़ रहा है और शायद आगे भी यही हालात रहेंगे.

Photo : www.therepublicantimes.coPhoto : www.therepublicantimes.co
स्वच्छ मधेपुरा-सुंदर मधेपुरा का नाजारा

बारिश से निपटने के लिए कोई खास तैयारी नहीं : मानसून आते ही बरसात से जिले के लोग फिर से परेशान होने लगे हैं. नगर परिषद क्षेत्र में बारिश से निपटने के लिए कोई खास तैयारी नहीं की गई है. जिला मुख्यालय के कुछ जगहों को छोड़कर लगभग सभी क्षेत्रों में नालों की सफाई नहीं हो पाई है. हालांकि बीते कुछ दिन पहले ही नगर परिषद प्रशासन का कहना था कि सफाई के लिए बारिश पूर्व अभियान चलायेंगे. कुछ काम किया भी गया, लेकिन सारे काम ढाक के तीन पात साबित हो गए. कुछ जगह तो ऐसा है, जहां पिछली बार की तरह फिर सड़कों पर गंदे नालों का पानी जमेगा. पिछले वर्ष इन सड़कों पर पानी भर आया था.

Photo : www.therepublicantimes.coPhoto : www.therepublicantimes.co
स्वच्छ मधेपुरा-सुंदर मधेपुरा का नाजारा

नप ने नहीं लिया पिछले मानसून की परेशानी से सीख : नगर परिषद ने पिछले मानसून की परेशानी से सीख नहीं लिया और कोई सुधार नहीं किया है. जिला मुख्यालय क्षेत्र के कॉलेज चौक, पुरानी बाजार, मस्जिद चौक, पानी टंकी चौक, जगजीवन पथ, राहमनगंज, पूर्णिया गोला चौक, कर्पूरी चौक समेत नगर परिषद क्षेत्र के सभी वार्ड के साथ-साथ वार्ड के अंदर के इलाकों में बारिश के दिनों में छोटे बड़े नालों से पानी ओवर-फ्लो होने लगता है. जिसकी वजह से लोगों को बरसात के दिनों में काफी परेशानी होती है.

Photo : www.therepublicantimes.coPhoto : www.therepublicantimes.co
स्वच्छ मधेपुरा-सुंदर मधेपुरा का नाजारा

जाम रहता है नाला, कचरे का रहता है अंबार : नगर परिषद क्षेत्र के वार्ड नंबर 13 के जगजीवन पथ के लोगों ने बताया कि पिछले दो-तीन वर्ष पूर्व सड़क पर आधी-अधूरी मरम्मत की गई थी. उन्होंने बताया कि जगजीवन पथ में थाना चौक से लेकर पूर्वी बायपास रोड तक सड़क पर गड्ढा बना हुआ है, हल्की बारिश में ही लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. ऐसा नहीं है कि इस सड़क में नाला नहीं है, लेकिन बारिश में नाला जाम रहता है. नाला में कचरों का अंबार लगा हुआ है, जिसके कारण नाला में पानी जाने के बजाय नाला का पानी सड़क पर आने लगता है.

Photo : www.therepublicantimes.coPhoto : www.therepublicantimes.co
स्वच्छ मधेपुरा-सुंदर मधेपुरा का नाजारा

मुसीबत के दिनों में नाला आता लोगों के काम, नप नहीं : सबसे खास बात यह है कि शहर में बना नाला ही मुसीबत के दिनों में काम आता है, लेकिन जिन्हें लोगों के काम आना चाहिए उन्हें तो बारिश में भींगने का डर है. इस गड्ढेनुमा सड़क पर पानी जमा होने के कारण लोगों को आवागमन में परेशानी होती है. चार पहिया वाहन तो किसी तरह धीरे से निकल जाता है, लेकिन पैदल एवं मोटरसाइकिल सवार सड़क किनारे बने नाले के उपर से निकलते हैं. हालांकि कई बार लोग नाले के ऊपर से गिर कर चोटिल हो जाते हैं तो कई बार पैदल एवं बाइक सवार में चिक-चिक भी होती, लेकिन साहब के पास चार पहिया वाहन तो है ना…

Photo : www.therepublicantimes.coPhoto : www.therepublicantimes.co
स्वच्छ मधेपुरा-सुंदर मधेपुरा का नाजारा
अमित कुमार अंशु
उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें