मजदूरी कर घर लौट रहे चार मजदूरों को बेकाबू स्कॉर्पियो ने मारी ठोकर, एक की मौके पर मौत, तीन जख्मी

Photo : www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

 मधेपुरा/बिहार : मधेपुरा-सुखासन मुख्य मार्ग में आरपीएम कॉलेज के समीप साइकिल सवार चार मजदूर को एक स्कार्पियों ने जोरदार ठोकर मार दिया. घटना स्थल पर सदर प्रखंड के मदनपुर वार्ड नंबर 13 निवासी सच्चिदानंद यादव के पुत्र 32 वर्षीय राम कुमार की मौत हो गई. वहीं मृतक के साथ मजदूरी का कार्य करने वाले तीन लोग जख्मी हो गये. जिसमें से एक हालत काफी चिंताजनक होने के कारण हायर सेंटर रेफर कर दिया. प्रत्यक्षदशियों के अनुसार घटना सोमवार की रात लगभग साढ़े आठ बजे की बतायी जा रही है. घटना के बाद आक्रोशित परिजनों एवं स्थानीय लोगों ने मधेपुरा-सुखासन रोड को पूरी तरह जाम कर दिया. शव को सड़क पर रख कर टायर जलाकर प्रशासन के विरोध में घंटों नारेबाजी की. आक्रोशित परिजन एवं स्थानीय लोगों ने सड़क जाम कर टायर जलाकर विरोध प्रदर्शन करने लगे देर रात तक सड़क जाम जारी रहा. अधिकारियों के काफी मान मनोव्वल के बाद जाम समाप्त किया गया. मौके पर प्रखंड विकास पदाधिकारी आर्य गौतम, थानाध्यक्ष सुरेश प्रसाद सिंह मौजूद रहे.Photo : www.therepublicantimes.co

घटना के समय राजमिस्त्री का काम करके घर को लौट रहा था मृतक : जानकारी के अनुसार मृतक सदर प्रखंड के मदनपुर वार्ड नंबर 13 निवासी सच्चिदानंद यादव के पुत्र 32 वर्षीय राम कुमार समेत मदनपुर वार्ड नंबर 13 निवासी जितेंद्र शर्मा, मदनपुर वार्ड नंबर 15 निवासी बैनी पासवान के पुत्र शंभू पासवान, मदनपुर वार्ड नंबर 13 निवासी देवनारायण यादव के पुत्र मनोज यादव जिला मुख्यालय से सोमवार की देर शाम राजमिस्त्री का काम कर घर लौट रहा था. सभी लोग अपने अपने साइकिल से घर की ओर जा रहे थे. इस क्रम में आरपीएम कॉलेज के समीप सुखासन से मधेपुरा की ओर आ रही एक स्कार्पियों गाड़ी ने चारों मजदूरों को ठोकर मार दी. ठोकर लगने से तीन लोग तो दूर जा गिरे, लेकिन राम कुमार पूरी तरह से स्कार्पियों की चपेट में आ गये. जिसके कारण स्कार्पियों से कुचल कर राम कुमार की मौत हो गयी. वहीं जितेंद्र शर्मा गंभीर रूप से जख्मी हो गये. जिसे बेहतर इलाज के लिये हायर सेंटर रेफर कर दिया गया. वहीं शंभू पासवान एवं मनोज यादव को भी चोट आयी. जिनका इलाज कर घर भेज दिया गया.

advertisement

ढाई घंटे तक रहा सड़क जाम, राहगीरों को हुई परेशानी : घटना सूचना प्रत्यक्षदर्शियों ने मृतक एवं जख्मी लोगों के परिजनों को दिया. सूचना मिलते ही मृतक के परिजनों एवं स्थानीय लोगों ने मधेपुरा सुखासन मुख्य मार्ग को जाम कर दिया. जिसके बाद जाम की सूचना सदर बीडीओ एवं सदर थानाध्यक्ष को दी गयी. घटना स्थल पर बीडीओ एवं थानाध्यक्ष ने पहुंच कर परिजनों एवं लोगों से वार्ता किया तथा घटना स्थल पर ही परिवारिक लाभ के 20 हजार रूपये का चेक परिजनों को दिया एवं सरकारी प्रावधान के अनुसार  आपदा के चार लाख रूपया मृतक के परिजन को देने का अश्वासन दिया. अधिकारियों के आश्वासन के बाद मृतक के परिजन एवं स्थानीय लोगों ने लगभग 11 बजे जाम समाप्त किया. इधर देर रात मुख्य मार्ग लगभग ढाई घंटे तक सड़क जाम होने के कारण लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. इस समय अधिकांश लोग जिला मुख्यालय से कार्यकर अपने घर को लौटते है तथा यह मार्ग मधेपुरा जिला मुख्यालय से सहरसा जिला के पतरघट समेत अन्य प्रखंड की ओर जाता है. जिसके कारण वाहनों की लंबी लाइन लग गयी.

पत्नी, माता-पिता व तीन बच्चों का इकलौता सहारा था राम : राम कुमार पेशे से राजमिस्त्री का कार्य करता था. वह दिल्ली में रहकर कार्य कर अपने घर का भरण पोषण करता था. उसके कमाई से उनकी पत्नी डेजी कुमारी  समेत सात वर्षीय पुत्र गोलू कुमार, पांच वर्षीय पुत्री सोना कुमारी एवं दो वर्षीय पुत्र दिव्यांशु एवं वृद्ध माता सबिया देवी और पिता सिंकेद्र यादव का भरण पोषण होता था. हालांकि मृतक के और भी भाई हैं लेकिन वे लोग अपने परिवार के साथ अलग रहते है. राम कुमार लॉकडाउन से पूर्व दिल्ली में  काम करता था. लॉकडाउन में काम बंद होने के कारण घर आ गया और यहीं काम करने लगा. बीते कुछ दिन पूर्व उन्होंने दिल्ली जाने के लिये टिकट भी कटवा लिया था. लेकिन वह नहीं जा पाया. उनकी मौत से घर में मातम पसरा हुआ है. पत्नी, माता पिता व बच्चे का रो-रो कर हाल बुरा है. सभी ने कहा कि अब उनके घर का चिराग ही खत्म हो गया है. उनके मौत के बाद स्थानीय सुधांशु यादव, वार्ड सदस्य सोनेलाल यादव, पूर्व उप प्रमुख अमरेंद्र यादव, अशोक यादव, पिंटू यादव, जयकृष्ण कुमार आदि मृतक के घर पहुंचकर सांत्वना व्यक्त किया एवं इश्वर से इस दुख की घड़ी से लड़ने के लिये बल देने के लिये प्रार्थना किया.

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें