मधेपर : हरिहर साह महा. उदा. में शैक्षणिक व्यवस्था में सुधार होने की बढ़ी संभावन, पांच शिक्षक व आठ शिक्षकेतर कर्मियों का हुआ प्रति नियोजन

Photo : www.therepublicantimes.co
फ़ोटो : हरिहर साह महाविद्यालय उदाकिशुनगंज
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय के अधीन हरिहर साह महाविद्यालय उदाकिशुनगंज में शैक्षणिक व्यवस्था में सुधार होने की संभावना बढ़ गई है. बीएनएमयू कुलपति प्रो डा आरकेपी रमन ने हरिहर साह महाविद्यालय उदाकिशुनगंज के जर्जर स्थिति, शिक्षक तथा शिक्षकेतर कर्मचारियों की कमी को देखते हुए उन्होंने वैकल्पिक व्यवस्था के तहत पांच शिक्षक एवं आठ शिक्षकेतर कर्मचारियों का प्रति नियोजन करने का आदेश दिया है. बीएनएमयू कुलसचिव डा कपिलदेव प्रसाद यादव ने अधिसूचना जारी कर बताया कि हरिहर साह महाविद्यालय उदाकिशुनगंज में पठन-पाठन के सुगम संचालन एवं नैक से मान्यता प्राप्त करने के लिए शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मियों की कमी को दूर करने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था के तहत प्रति नियोजन किया गया है. यह प्रति नियोजन तत्काल प्रभाव से लागू होकर अगले आदेश तक रहेगा.

पांच शिक्षक व आठ शिक्षकेतर कर्मियों का हुआ प्रति नियोजन : अधिसूचना के अनुसार एमएलटी महाविद्यालय सहरसा के दर्शनशास्त्र के शिक्षक शंभू प्रसाद सिंह, ठाकुर प्रसाद महाविद्यालय मधेपुरा के अंग्रेजी के शिक्षक डा सुमन कुमार झा, सर्व नारायण सिंह रामकुमार सिंह महाविद्यालय सहरसा के अर्थशास्त्र के प्राध्यापक अवधेश कुमार मिश्र, राजनीति शास्त्र के प्राध्यापक डा सुरेश चंद्र झा एवं मैथिली विभाग के प्राध्यापक डा अशोक कुमार सिंह का प्रति नियोजन हरिहर साह महाविद्यालय उदाकिशुनगंज किया गया है. इसके साथ ही तृतीय वर्गीय एवं चतुर्थ वर्गीय कर्मचारियों में आठ कर्मचारियों का प्रति नियोजन हरिहर साह महाविद्यालय उदाकिशुनगंज किया गया है. जिसमें अभिनव कुमार सिन्हा, पुरुषोत्तम सिंह, नितेश्वर निर्भय, धनराज प्रसाद यादव, खिरन यादव, देवकांत सिंह, रविंद्र कुमार सिंह एवं शत्रुघ्न यादव शामिल है. यह सभी तृतीय एवं चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी सहरसा के सर्व नारायण सिंह रामकुमार सिंह महाविद्यालय सहरसा के हैं.

advertisement

13 फरवरी को प्राचार्य ने कुलपति से की थी मांग : हरिहर साह महाविद्यालय उदाकिशुनगंज के प्राचार्य डा रामनरेश सिंह ने बताया कि 13 फरवरी को हरिहर साह महाविद्यालय उदाकिशुनगंज में बीएनएमयू कुलपति प्रो डा आरकेपी रमण, प्रति कुलपति प्रो डा आभा सिंह एवं कुलसचिव डा कपिलदेव प्रसाद यादव सहित अन्य पदाधिकारियों के आगमन के बाद उनसे महाविद्यालय में शिक्षक एवं कर्मचारियों की कमी सहित महाविद्यालय की जर्जर हालत में सुधार करने का आग्रह किया था. उसी समय कुलपति, प्रतिकुलपति एवं कुलसचिव ने महाविद्यालय के विकास में हर संभव सहयोग देने का आश्वासन दिया था. उनके आश्वासन के फलस्वरूप उन्हें पांच शिक्षक एवं आठ शिक्षकेतर कर्मचारी दिया गया.

कुलपति समेत अन्य अधिकारियों का प्राचार्य ने किया आभार व्यक्त : प्राचार्य डा रामनरेश सिंह ने बताया कि शिक्षक-शिक्षकेतर कर्मचारियों का प्रति नियोजन के लिए महाविद्यालय परिवार कुलपति प्रो डा आरकेपी रमन, प्रति कुलपति प्रो डा आभा सिंह, कुलसचिव डा कपिलदेव प्रसाद यादव सहित विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों का आभार व्यक्त करता है. प्राचार्य डा रामनरेश सिंह ने आशा जताया कि कुलपति के नेतृत्व में हरिहर साह महाविद्यालय उदाकिशुनगंज का सर्वांगीण विकास होगा एवं इस क्षेत्र के लोगों के लिए यह वरदान साबित होगा. मालूम हो कि हरिहर साह महाविद्यालय उदाकिशुनगंज में शिक्षक के 16 स्वीकृत पद हैं, जिसमें से चार नियमित एवं तीन अतिथि शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं. कम शिक्षकों के रहने से महाविद्यालय में पठन-पाठन की समस्या गंभीर बनी थी. प्राचार्य डा रामनरेश सिंह के प्रयास ने रंग लाया और विश्वविद्यालय प्रशासन ने महाविद्यालय को शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मचारियों का प्रयोजन किया.

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें