मैट्रिक की परीक्षा कल से, नकल से पूर्णत: मुक्त होगी परीक्षा, विरोध करने पर होगी कार्रवाई

www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : कल से यानी 17 फरवरी, बुधवार से मैट्रिक की परीक्षा आरंभ है. इस परीक्षा के लिये पूरे जिले में 30 परीक्षा केंद्र बनाये गये हैं. जिले में इस वर्ष 31 हजार 83 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल होंगे. जिनमें 16 हजार सात सौ 19 छात्र एवं 14 हजार तीन सौ 64 छात्राएं परीक्षा में शामिल होंगे. इसमें सदर अनुमंडल के 23 परीक्षा केंद्रों पर 25 हजार एक सौ 62 छात्र-छात्राएं एवं उदाकिशुनगंज अनुमंडल क्षेत्र में सात परीक्षा केंद्रों पर पांच हजार नौ सौ 21 छात्राएं सम्मिलित होंगे. इन 30 परीक्षा केंद्रों में सदर अनुमंडल में नौ परीक्षा केंद्र छात्राओं के तथा 14 परीक्षा केंद्र छात्रों का बनाया गया है. साथ ही उदाकिशुनगंज में सातों परीक्षा केंद्र छात्राओं के लिए बनाया गया है. परीक्षा दो पालियों में ली जाएगी. प्रथम पाली साढ़े नौ बजे से 12:15 एवं 12:45 बजे तक तथा दुसरी पाली 1:45 से साढ़े चार एवं पांच बजे तक आयोजित की जायेगी.

नकल से पूर्णत: मुक्त होगी परीक्षा, विरोध करने पर होगी कार्रवाई : जिला प्रशासन ने कदाचारमुक्त एवं पारदर्शी परीक्षा आयोजित करने के लिये अपनी कमर कस ली है. मामले में अधिकारियों ने सभी केंद्रों का निरीक्षण कर परीक्षा से संबंधित अधिकारियों, केंद्राधीक्षक एवं संबंधित कर्मियों को दिशा निर्देश जारी कर दिया है. जिला पदाधिकारी श्याम बिहारी मीणा ने स्पष्ट कहा कि परीक्षा हर हाल में नकल से पूरी तरह मुक्त होगा. सारे इंतजामात इंटर की परीक्षा से भी सख्त रहेंगे. परीक्षार्थियों की कड़ाई से जांच होगी. किसी तरह की त्रुटि पायी जाती है तो फौरन नियमानुसार कार्रवाई की जायेगी. कार्रवाई का विरोध करने पर संबंधित अभिभावकों के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज करायी जायेगी.

विलंब से आने के बाद परीक्षा केंद्र में प्रवेश नहीं कर सकेंगे छात्र : जिला शिक्षा पदाधिकारी जगतपति चौधरी ने कहा कि मैट्रिक परीक्षा के प्रथम पाली के परीक्षार्थियों को परीक्षा प्रारंभ होने के समय 9:30 बजे से 10 मिनट पूर्व अर्थात 9:20 बजे तक परीक्षा भवन में प्रवेश की अनुमति दी जायेगी. इसी प्रकार द्वितीय पाली के परीक्षार्थियों को द्वितीय पाली के परीक्षा प्रारंभ होने के समय 1:45 बजे से 10 मिनट पूर्व अर्थात 1:35 बजे तक ही परीक्षा भवन में प्रवेश की अनुमति दी जायेगी. दोनों पालियों के लिए निर्धारित समय के बाद आने वाले परीक्षार्थियों को परीक्षा भवन में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी.

जूता-मोजा पहन कर परीक्षा केंद्र में प्रवेश करना रहेगा वर्जित : परीक्षार्थी जूता-मोजा, जैकेट एवं मफलर पहन केंद्र के अंदर नहीं जा सकेंगे. परीक्षा शुरू होने के एक घंटा बाद ही परीक्षार्थी बाथरूम जा सकते हैं. अतिरिक्त वीक्षकों की प्रतिनियुक्ति परीक्षा केंद्र के गेट पर होगी. परीक्षार्थी के साथ आये हुये अभिभावक या सहयोगियों परीक्षा केंद्र से दो सौ मीटर की दूरी से लौट जायेंगे. इंटर परीक्षा की तरह मैट्रिक परीक्षा भी अच्छे तरीके से आयोजित की जायेगी. परीक्षा केंद्र से दो सौ मीटर की दूरी पर ही अभिभावक रह सकते हैं. जांच के दौरान किसी भी प्रकार की त्रुटि पाये जाने के बाद होने वाली कार्रवाई का विरोध करने पर संबंधित अभिभावकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी जायेगी.

जिले में चार परीक्षा केंद्र बनेगा मॉडल केंद्र : जिला शिक्षा पदाधिकारी जगतपति चौधरी ने बताया कि जिला मुख्यालय स्थित केशव कन्या उच्च विद्यालय, वेदव्यास महाविद्यालय एवं केवी विमेंस कॉलेज परीक्षा केंद्र एवं उदाकिशुनगंज अनुमंडल क्षेत्र में मध्य विद्यालय बालक उदाकिशुनगंज परीक्षा केंद्र आकर्षण का केंद्र रहेगा. इस परीक्षा केंद्र को मॉडल सेंटर बनाया गया है. इस परीक्षा केंद्र को केवल छात्राओं का ही सेंटर बनाया गया है. यहां सभी वीक्षक से लेकर पर्यवेक्षक महिलाएं होंगी. वहीं इस मॉडल सेंटर पर केवल महिला पुलिस कांस्टेबल की ही प्रतिनियुक्ति होगी. इस मॉडल सेंटर को सजाया जायेगा. हर तरफ नारी सशक्तिकरण से संबंधित पोस्टर एवं फ्लैक्स लगाये जायेंगे. इन पोस्टर पर सक्षम बेटी-सक्षम भारत, समर्थ बेटी-समर्थ भारत, जैसे स्लोगन लिखे रहेंगे. इस परीक्षा केंद्र को मॉडल केंद्र की तरह सुसज्जित किया जायेगा. छात्राओं की तलाशी महिला दंडाधिकारी, महिला पुलिस, महिला वीक्षक एवं महिला केंद्रराधीक्षक द्वारा ही ली जायेगी. इसके लिए गेट के बगल में कपड़े से घेर कर अस्थाई छोटा सा घेरा तैयार कर लिया गया है ताकि छात्राओं की जांच वहीं पर हो.

मोबाइल, चिट या इलेक्ट्रिानिक उपकरण न जाये भीतर : कदाचार मुक्त मैट्रिक परीक्षा को लेकर जिला पदाधिकारी श्याम बिहारी मीणा एवं पुलिस अधीक्षक योगेंद्र कुमार ने परीक्षा से संबंधित अधिकारियों, केंद्राधीक्षक एवं कर्मियों को साफ निर्देश दिया है कि परीक्षा में किसी भी प्रकार की कोताही बरर्दाश्त नहीं की जायेगी. कोई परेशानी हो तो फौरन उनसे संपर्क करें. परीक्षा शुरू होने के बाद कोई भी कर्मी केंद्र से बाहर नहीं जायेंगे. इंटर की परीक्षा के दौरान बरती गयी सावधानी एवं नियमों के अनुपालन से भी ज्यादा सूक्ष्मता से मैट्रिक परीक्षा में कार्य करना है. केंद्र के अंदर किसी भी सूरत में मोबाइल, चिट-पुर्जा या कोई भी इलेक्ट्रिक व इलेक्ट्रॉनिक उपकरण न जाये. परीक्षा हॉल में परीक्षार्थी के पास चिट-पुर्जा पकड़ाने पर परीक्षार्थी के साथ वीक्षक पर भी कार्रवाई होगी.

परीक्षा के दौरान फोटोस्टेट एवं साइबर कैफे पर रहेगी नजर : मैट्रिक परीक्षा के दौरान फोटोस्टेट एवं साइबर कैफे पर पुलिस प्रशासन की कड़ी नजर रहेगी. संयुक्त आदेश में स्पष्ट है कि परीक्षा के दौरान फोटोस्टेट एवं साइबर कैफे की दुकान पर अनुमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी के अलावा संबंधित थानाध्यक्ष, प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारी की कड़ी निगरानी रहेगी. कदाचारमुक्त परीक्षा संचालन के लिए प्रत्येक परीक्षा केंद्र के बाहर एवं अन्य स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं.

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें