मधेपुरा : धड़ल्ले से राष्ट्रीय-बहुराष्ट्रीय कंपनियों के हाथ बेचा जा रहा है सार्वजनिक उद्योग : प्रमोद प्रभाकर

Spread the news

अमन कुमार
संवाददाता, सदर
मधेपुरा

मधेपुरा (बिहार) : श्रम कानून में संशोधन एवं एवं सार्वजनिक क्षेत्रों का निजीकरण के खिलाफ केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के अखिल भारतीय आम हड़ताल के आह्वान पर गुरुवार को भाकपा, माकपा, एटक, सीटू के कार्यकर्ताओं ने भारतीय स्टेट बैंक मुख्य शाखा, अनुमंडल कार्यालय, प्रखंड कार्यालय एवं विद्युत कार्यालय को घंटो ठप  कर विरोध प्रदर्शन किया. इस अवसर पर वाम दलों के कार्यकर्ताओं ने केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे भाकपा के राष्ट्रीय परिषद के सदस्य प्रमोद प्रभाकर ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार मजदूर विरोधी है. इनके जनविरोधी नीतियों के कारण बैंक, बिजली, विद्युत, बीमा, रेल, हवाई अड्डा, भारतीय पेट्रोलियम आदि सार्वजनिक उद्योगों को धड़ल्ले से राष्ट्रीय बहुराष्ट्रीय कंपनियों के हाथ बेचा जा रहा है. जिस कारण देश में भीषण बेरोजगारी एवं गरीबी बढ़ रही है. उन्होंने कहा कि सरकार सार्वजनिक क्षेत्रों को निजी करण कर देश को कमजोर कर रही है. जिसे वामपंथी दल बर्दाश्त नहीं करेगी.

खबर से संबंधित वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें 

सुनियोजित रूप से राष्ट्रीय संपत्ति को बेच रही है सरकार : प्रमोद प्रभाकर ने कहा कि सरकार अपने जनविरोधी कदम वापस ले अन्यथा इसके गंभीर परिणाम होंगे. माकपा राज्य कमेटी के सदस्य गणेश मानव ने कहा की सरकार सुनियोजित रूप से राष्ट्रीय संपत्ति को बेच रही है और देश को कमजोर कर रही है. भाकपा के के जिला मंत्री विद्याधर मुखिया एवं माकपा के जिला मंत्री मनोरंजन सिंह ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा की सरकार की मनमानी नहीं चलेगी. सरकार को श्रम कानून में संशोधन वापस लेना होगा, नहीं तो वामपंथी पार्टी संघर्ष को तेज करेगी. एटक के जिला संयोजक वीरेंद्र नारायण सिंह एवं जमील ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार बिजली का निजीकरण कर एवं बिजली मजदूरों की छटनी कर बिजली मजदूरों पर अत्याचार कर रही है एवं अन्य सार्वजनिक क्षेत्रों पर हमला कर रही है. हम तमाम ट्रेड यूनियन के कार्यकर्ता सरकार की नीतियों के खिलाफ जोरदार संघर्ष करेंगे.
केंद्र की सरकार किसान एवं मजदूर विरोधी : भाकपा नेता एवं किसान सभा के सचिव शैलेंद्र कुमार वरीय नेता चांद ने कहा कि केंद्र की सरकार किसान एवं मजदूर विरोधी है. अखिल भारतीय नौजवान संघ के प्रांतीय नेता शंभू क्रांति, मुन्ना कुमार यादव तथा ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन के जिलाध्यक्ष वसीमउद्दीन उर्फ नन्हे ने कहा कि सरकार छात्र-नौजवान विरोधी है. जिनके नीतियों के कारण छात्र नौजवानों का भविष्य अंधकार में है. मोदी सरकार देश बेचने पर आतुर है. हमें अपने संघर्ष को तेज करना होगा. कार्यक्रम में भाकपा नेता कृष्णा मुखर्जी, दिलीप पटेल, जहांगीर, नवीन कुमार, माधवराम, दिनेश मुखिया, मजदूर नेता राजीव कुमार, शिवकुमार, गोविंद शर्मा, अमित कुमार, फ्रेश मानव, अमी लाल यादव, प्रमोद राम, प्रकाश कुमार, सदानंद राम, छात्र नेता रफी आलम, राजदीप कुमार, युवा नेता चंद्र किशोर यादव, बाबुल कुमार, शिवम कुमार आदि शामिल थे.

Spread the news
advertise

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें