मधेपुरा : छठ व्रतियों ने खरना पर भगवान सूर्य की विशेष पूजा कर लगाया भोग

Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा (बिहार) : बाबा सिंहेश्वर नाथ की नगरी मधेपुरा में लोक आस्था का महान पर्व छठ पर्व हर्षोल्लासपूर्वक मनाया जा रहा है. इस अवसर पर शहर के सभी तालाब-घाटों को आकर्षक विद्युत सज्जा से सजाया गया है. इससे शाम होते ही जगमग रोशनी से नहा गया. छठ घाटों पर सेवा शिविर भी बन कर तैयार हो गया है. यहां पर श्रद्धालुओं के लिए सभी प्रकार की व्यवस्था की गयी है. गुरुवार को खरना संपन्न हुआ. छठ व्रतियों ने खरना पर भगवान सूर्य की विशेष पूजा कर भोग लगाया. उसके बाद भक्तों के बीच प्रसाद वितरण किया. इससे छठव्रतियों के घर प्रसाद पानेवालों की भीड़ लग गयी. शाम सात बजे से प्रसाद ग्रहण करने का दौर शुरू हुआ. यह देर रात्रि तक चला.

शुक्रवार को अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को देंगे अर्घ्य
शुक्रवार को दिन के दो बजे के बाद ही भक्त नदियों और तालाबों के लिए घर से निकल पड़ेंगे. जलाशयों में ईख के घर में दीया जलाया जायेगा. भगवान के अस्ताचल होने के समय भगवान सूर्य को अर्घ्य देंगे. इसको लेकर पूरे शहर में धार्मिक माहौल बना हुआ है. घर-घर छठ मइया की गीत बज रही है. छठ घाटों की ओर जानेवाली सड़क साफ किया गया है. इसमें शहर के लोगों ने भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया.
छठ गीतों का है अपना महत्व
छठ पूजा में व्रत से जुड़े हर कार्य के लिए अलग-अलग गीतों का महत्व है. गेहूं धोने से लेकर व्रत के दौरान दउरा उठाने और अर्घ्य देने तक में इन गीतों से सूर्य देवता और छठ माता से गुहार लगायी जाती है. कोई पुत्र की कामना करता है तो कोई मांग के सिंदूर की. व्रत करने वाली महिलाओं का कहना है कि हर कार्य से जुड़े गीत का अपना महत्व है. छठ गीत को सुनकर पता चलता है कि व्रती मायके से ससुराल तक की सुख शांति के लिए छठ माता से प्रार्थना करती है. सभवा में बइठन के बेटा मांगिला…, गोड़वा दबन के पतोह ये दीनानाथ…, रूनकी झुनकी बेटी मांगिला पढ़ल पंडितवा दामाद ये दीनानाथ…, ससुरा में मांगिला अनधन सोनवा नईहर में सहोदर जेठ भाई…, जैसे कई गीतों का अपना महत्व है.
खतरे के निशान को किया गया चिन्हित
घाट के पास नदी में खतरे के निशान को चिन्हित कर रस्सी से घेर दिया गया है. खतरे के निशान के लिए उन पर लाल कपड़े लगा दिये गये हैं. छठ पूजा समिति की ओर से पंडाल लगाया गया है और रोशनी का इंतजाम भी किया गया है. गुरुवार को सदर अनुमंडल पदाधिकारी नीरज कुमार एवं सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अजय नारायण यादव समेत अन्य अधिकारियों ने छठ घाट का जायजा लिया है.

शाम तक बिकी पूजा सामग्री
छठ पूजा में उपयोग आने वाली सामग्री शाम तक बाजार में बिकती रही. शहर के कर्पूरी चौक, सुभाष चौक, कॉलेज चौक, बस स्टैंड चौक सहित अन्य जगहों पर सड़क किनारे नारियल, केतारी, पान, सूप, दउड़ा, सहित मेवे, बद्धी और डाली पर चढ़ाने लिए कंद और फल आदि की खरीदारी के लिए लोग शाम तक बाजार में रहे.
सुरक्षा के रहेंगे पुख्ता इंतजाम
लोक आस्था महापर्व छठ में शांति व कानून व्यवस्था के बनाए रखने के लिए जिला प्रशासन ने पुख्ता इंतजाम किये हैं. छठ के दौरान किसी प्रकार की अशांति या तनाव ना हो इसके लिए जिले के सभी छठ घाटों पर सशस्त्र पुलिस बल के साथ पुलिस अधिकारी भी मौजूद रहेंगे. इसकी जानकारी देते हुए सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अजय नारायण यादव ने बताया कि छठ पूजा के मध्य नजर रखते हुए वह सभी पुलिस पदाधिकारी को सभी घाटों पर तैनात किए हैं. वहीं पुलिस बल की भी तैनाती की जाएगी.
चिकित्सा संबंधी स्थिति से निबटने के लिए विभाग मुस्तैद
छठ घाटों का निरीक्षण करने के दौरान सदर अनुमंडल पदाधिकारी नीरज कुमार ने बताया कि छठ घाटों पर अप्रिय घटना की संभावना को लेकर आतिशबाजी को पूर्णतः प्रतिबंध किया गया है. किसी भी चिकित्सा संबंधी स्थिति से निबटने के लिए चिकित्सा विभाग को मुस्तैद रहने को कहा गया है. सड़कों के दोनों तरफ जगह-जगह व पुलिस के जवान तैनात रहेंगे. साथ ही घाटों पर भी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. वहीं ग्रामीण क्षेत्र में चौकीदारों की ड्यूटी दी गयी है. साथ ही कोरोना संक्रमण को लेकर भी निर्देश जारी कर दिए गए हैं. जिसके तहत किसी भी छठ घाट पर अनावश्यक लोगों की भीड़ एवं दुकान न लगाने के लिए निर्देश दिया गया है.
घाट पर तैनात रहेंगे एसडीआरएफ
छठ को लेकर सदर थाना क्षेत्र में मोटरबोट व जवानों की तैनाती की गयी है. शहरी क्षेत्र के सुखासन, भिरखी, जयपालपट्टी, गोमती घाट के अलावा मुरलीगंज, सिंहेश्वर, कुमारखंड, उदाकिशुनगंज, ग्वालपाड़ा में भी जवानों व गोताखोर की तैनाती जिला प्रशासन व आपदा विभाग के द्वारा की गयी है. इसके अलावा सभी छठ घाट की जिला पदाधिकारी नवदीप शुक्ला, पुलिस अधीक्षक योगेंद्र कुमार, सदर अनुमंडल पदाधिकारी नीरज कुमार, सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अजय नारायण यादव समेत जिले के अन्य अधिकारी स्वयं निगरानी करते रहेंगे.
महत्वपूर्ण संपर्क नंबर
एसडीआरएफ :- 8825216879, 8084478571
अनुमंडल पदाधिकारी मधेपुरा :- 9473191355
अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी मधेपुरा :- 9431800034
प्रखंड विकास पदाधिकारी मधेपुरा :- 6205746128
अंचलाधिकारी मधेपुरा :- 8544412633
सदर थानाध्यक्ष :- 94318 22774


Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें