मधेपुरा : नशाखोरी और जुआ के खिलाफ जयरामपुर की महिलायें हुई गोलबंद, शराबियों और जुआरियों की अब खैर नहीं  

Spread the news

मिथिलेश कुमार
संवाददाता
मुरलीगंज, मधेपुरा

मुरलीगंज/मधेपुरा/बिहार : मुरलीगंज के जयरामपुर स्थित ब्रह्मस्थान मंदिर परिसर में रविवार को शराबबंदी व अन्य नशीली पदार्थो के सेवन एवं जुआ खेलने वाले के विरोध में कमलेश्वरी मंडल की अध्यक्षता में स्थानीय महिला एवं पुरूषो के बीच एक बैठक आयोजित हुई। बताया गया कि सरकार द्वारा शराबबंदी के बावजूद खुलेआम शराब की बिक्री हो रही हैं। जिसका सेवन कर लोग अपने आप को आर्थिक, मानसिक एवं शारीरिक क्षति पहुंचा रहे हैं।

 बैठक में सर्वसम्मति से एक महिला र्मोचा का गठन किया गया। जिसके बाद निर्णय लिया गया कि टोला मोहल्ला में कहीं भी शराब की बिक्री नहीं होने दिया जायेगा। साथ ही बताया गया कि शराब माफिया या शराब सेवन करने वाले हमलोगों से नहीं मानेंगे तो कानून की मदद लेते हुए इन लोगों को सबक सिखाया जायेगा। वही बैठक में मौजूद बुद्धिजीवियों ने कहा जबसे शराबबंदी हुई है, बिहार के सभी गांवों में दर्जनों छोटे बड़े शराब विक्रेता पैदा हो गये है। कुछ लोगों ने यह भी कहा कि हर क्षेत्र में शराब बिक्री खुलेआम हो रही है, कहीं ना कहीं पुलिस प्रशासन की  इसमें मिलीभगत है। प्रशासन अगर सतर्क रहती तो जगह-जगह शराब बिक्री नही होती। शराब माफिया से लोग अब बहुत ज्यादा त्रस्त हो चुके हैं।

28 महीने बाद अफगानी अपहरणकर्ताओं के चंगुल से आजाद होकर घर लौटे मंटू सिंह, परिवार दिवाली जैसी खुशी

लोगों ने कहा कि जबसे शराब बंदी हुई हैं, तबसे जब चाहे जितनी मात्रा में उतनी शराब की होम डिलेवरी चोरी – छिपे हो रही हैं। जिस कारण युवाओं के साथ साथ छोटे-छोटे बच्चो को भी नशे की लत लग चुकी है। जो नये पीढ़ी के लिए बहुत बड़ा घातक सिद्ध हो रहा हैं। इसके साथ ही शराब का सेवन करने वाले लोग चोरी, मारपीट, महिलाओं के साथ छेड़खानी सहित अन्य कई घटनाओं में सम्मलित हो रहे हैं।

बहरहाल इन सबके विरूद्ध खासकर महिलाओं ने शराब बेचने वाले के खिलाफ एकजुटता दिखाते हुए विरोध प्रदर्शन किया। महिलाओं का आरोप है कि यहां कई जगह खुलेआम शराब बेची जाती हैं। हमारे घर के गार्जियन शराब पीने के चक्कर में घर में खर्चा नहीं देते है, खर्चा मांगने पर मारपीट और गाली गलौज का सामना करना पड़ता है, अब तो हमारे छोटे-छोटे बच्चे शराब के आदि होते जा रहे हैं। महिलाओं ने गुस्से का इजहार करते हुए कहा कि जो हालात हैं उसको देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार ने शराबबंदी नहीं किया है बल्कि घर-घर शराब बेचने का लाइसेंस दे दिया है।

 मौके पर आशा देवी, कारी देवी, मीरा देवी, सुनिता देवी, मंजू देवी, ममता देवी, रंजू देवी, त्रिफूल देवी, रानी देवी, विमल देवी, मुनिता देवी, ललिता देवी, खुशबू देवी, बजना देवी, धर्मेंद्र कुमार, अरूण मंडल, विजय कुमार, हरेराम मंडल, रौशन कुमार, मनोज मंडल, ब्रह्मदेव भगत, मनोज कुमार, भगत, सुजीत कुमार शास्त्री, प्रवीण कुमार, संतोष कुमार, उपेंद्र आनंद, अशोक मंडल, राजेंद्र मंडल, विधानंद मंडल सहित दर्जनो महिला एवं पुरूष उपस्थित थे।


Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें