मधेपुरा : कृषि विधेयक के विरोध में राजद कार्यकर्ताओं ने समाहरणालय के मुख्य द्वार पर किया विरोध प्रदर्शन

Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : शुक्रवार को राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के आवाहन पर राजद कार्यकर्ताओं द्वारा केंद्र सरकार के किसान विरोधी बिल वापस लेने की मांग को लेकर शहर में भ्रमण कर प्रदर्शन किया गया। बड़ी संख्या में राजद कार्यकर्ताओं ने जिला मुख्यालय के कॉलेज चौक से विरोध मार्च निकालकर पुरानी बाजार, मस्जिद चौक, पानी टंकी चौक, थाना चौक, सुभाष चौक, मुख्य बाजार, पूर्णिया गोला चौक, कर्पूरी चौक होते हुये पूर्वी बाईपास रोड होकर जयपालपट्टी चौक होते हुए समाहरणालय के मुख्य द्वार पर पहुंचकर, प्रदर्शन कर सरकार से किसान विरोधी बिल वापस लेने की मांग की। इस दौरान राजद कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार के विरोध में जमकर नारे लगाये।

 मौके पर राजद जिलाध्यक्ष जय कांत यादव ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों की हित चाहती है तो संपूर्ण देश में न्यूनतम मधेपुरा समर्थन मूल्य सख्ती से लागू करें, ताकि किसानों को उनकी सभी प्रकार के फलों की कीमत मिल सके، सरकारी मंडी हो या व्यापारियों के हाथ, किसानों के फसल कहीं भी बिके तो सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बिके। ऐसा करने से किसानों को अपनी फसलों की उचित कीमत मिलेगी तथा किसानों के विकास के साथ-साथ देश का विकास संभव होगा। प्रो अरविंद कुमार ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश सरकार के राज में अपराधियों का बोलबाला है। युवा रोजगार के लिए दौड़ लगा रहे हैं। शिक्षक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष प्रो रणधीर यादव ने कहा कि सरकार ने युवाओं के लिए रोजगार सृजन के बजाय रोजगार के अवसर खत्म कर रही है।  डा जवाहर पासवान ने कहा कि सरकार को न्यूनतम समर्थन मूल्य देकर किसानों की हितों की रक्षा करनी चाहिये। अरविंद यादव ने कहा कि किसान, मजदूर, युवा सहित सभी लोग केंद्र एवं राज्य सरकार से त्रस्त है. कमल दास ने कहा कि सरकार के गलत नीतियों के कारण इस बार विधानसभा चुनाव में सभी लोग मिलकर इस सरकार को सबक सिखायेगी। राजद अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव आलम ने कहा कि किसानों के प्रति केंद्र एवं राज्य सरकार की नीति सही नहीं है। नरेंद्र मोदी जो किसान विरोधी बिल ला रहे हैं, उसके विरोध में छात्र, युवा, अल्पसंख्यक समेत सभी लोग सड़क पर उतर कर इसका विरोध कर रहे हैं। किसान प्रकोष्ठ के महासचिव अमेश कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कृषि सुधार बिल नहीं लाया गया है, बल्कि किसानों को पूंजीपति के हाथों गिरवी रख दिया गया है। सुरेश यादव ने कहा कि यह बिल लाकर देश के एक अरब किसानों के रोजी रोटी के साथ खिलवाड़ किया गया है।

प्रदर्शन के बाद जिलाध्यक्ष के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने एडीएम उपेंद्र कुमार को ज्ञापन सौंपा।

 मौके पर प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य भोला प्रसाद यादव, दिल मोहन सिंह, डा देव प्रकाश, सारिका पासवान, डा राजेश रतन मुन्ना, डा विजय, अमित भारती, जयप्रकाश यादव, डा सुरेश कुमार, अमरेंद्र कुमार यादव, प्रकाश कुमार पिंटू, भारत भूषण, तेज नारायण यादव, परमेश्वरी यादव, अरुण कुमार, शिव नारायण सादा, शिव नारायण सरदार, ईशा असलम, नवनीत कुमार, राहुल राज, योगेंद्र राम, मुन्ना कुमार, रंजन कुमार, कला कुमारी, विनीता भारती, प्रगति भट्ट, विश्वजीत कुमार, चंद्रवंश कुमार, संजय, सिकेंद्र ऋषिदेव, नजीरूद्दीन नूरी, फुरकान आलम, बैजनाथ पासवान, जिला युवा अध्यक्ष अनिता कुमारी, रामकृष्ण यादव, अर्जुन कुमार यादव, पप्पू यादव, ललन यादव, विश्वनाथ यादव, विकास कुमार मंडल, मनी राज, ऋषिकेश विवेक बिक्कू, वीरेंद्र यादव, स्वाति देवी, विमल, ललिता देवी, संतोष नारायण, बबलू, मंटू कुमार, नेपोलियन, ललित, मिथिलेश, अमित, राजेश, शंकर, संजय, असलम, अमरदीप, राणा, जयप्रकाश, प्रदीप, राजीव, नीतीश, लड्डू समेत अन्य राजद कार्यकर्ता उपस्थित थे।


Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें